मोटापा कम करने के 50 आयुर्वेदिक उपाय । Motapa kam karane ke upay.

Motapa kam karane ke upay.

Motapa kam karane ke upay. आज के व्यस्ततम जीवन शैली में मोटापा ( Motapa ) या वजन ( Weight ) बढ़ना एक गंभीर समस्या के रूप में हमारे समाज के सामने आ रहा है। अनियमित खानपान और अनियमित दिनचर्या के वजह से हमारे शरीर को बहुत सारी समस्याओं का सामना करना पड़ता है ।

साथ ही व्यस्तता भरे इस जीवन शैली में अनहैल्दी खान पान भी हमारे समाज में मोटापे या वजन बढ़ने का मुख्य कारण बनता जा रहा है। भारत में आधी से ज्यादा आबादी मोटापे के चपेट में है । अनियमितता भरी जीवन शैली की वजह से कुछ बीमारियों ने भी मोटापे को बढ़ावा दिया है। तो चलिए जानते है –

पढ़े – अश्वशक्ति पाउडर के फायदे व नुकसान । Ashwashakti powder ke fayde.

मोटापे के कारण | Obesity Causes in hindi.

आयुर्वेद के अनुसार मोटापे का एक मुख्य कारण अनियमित और खान पान हैं । और आजकल व्यस्तता भरी जीवन शैली होने के साथ कुछ बीमारियां भी है जिनमे थायराइड एक प्रमुख बीमारी है जिससे मोटापा जल्दी बढ़ता है । शरीर पर चर्बी की मोटी परत बनना और बेडौल दिखने की वजह से आत्मविश्वास में भी कमी आती हैं। मोटापे का एक प्रमुख कारण जरूरत से ज्यादा खाना भी हो सकता है।

ज्यादा मिठाई या तले हुए खाद्य पदार्थों का अत्यधिक मात्रा में सेवन करने की वजह से मोटापा अपने पैर पसारता है और पेट तथा कूल्हों पर सिर्फ चर्बी ही नही जमा होती बल्कि वजन भी तेजी से बढ़ता है जिसकी वजह से चलने फिरने में सांस फूल जाती हैं और दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। जरूरत से ज्यादा सोना या कम सोना भी मोटापे का एक प्रमुख कारण है साथ ही अनुवांशिक कारणों से भी मोटापा बढ़ता है।

मोटापे के लक्षण । Obesity Symptoms in hindi.

मोटापे का प्रमुख लक्षण वजन का बढ़ना तथा स्किन पर चर्बी के लेयर का जमना है। वसा की परत त्वचा को मोटा दिखाती हैं साथ ही चलने में सांस फूलना और घुटनों की समस्या मोटापे की वजह से आम बात है अत्यधिक मोटापे से मधुमेह, हृदय रोग और थायराइड की गंभीर समस्या भी जन्म लेती है।

मोटापे की वजह से चलने पर थकान का भी अनुभव होता है तथा आत्मविश्वास की भी कमी आती है ज्यादा मोटापे से आप समाज में हसी का पात्र भी बन सकते है जिससे आप लोगो से कटे कटे रहते है। उच्च रक्तचाप की समस्या भी मोटापे की वजह से हो सकती है तथा आपको दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

यदि आपकी BMI 18.5 से 24.9 के बीच है तो नार्मल वेट एवं 25 से 29.9 तक ओवरवेट एवं यदि आपकी BMI 30 से ज्यादा होने पर मोटापा (obesity ) या बढ़ा हुआ वजन ( weight ) माना जाता है । यह BMI आपकी ऐज पर निर्भर करता है ।

मोटापा कम करने के 50 आयुर्वेदिक उपाय । Motapa kam karane ke 50 ayurvedic upay.

मोटापे या वजन कम करने का प्रमुख उपचार है अपनी दिनचर्या में बदलाव लाएं तथा कुछ वक्त अपने कार्यशैली से निकाल कर व्यायाम ( Exercise ) या योग ( Yoga ) को अपनायें साथ ही खान पान में भी बदलाव लाएं अत्यधिक तले हुए व्यंजनों की अपेक्षा स्वास्थ्य वर्धक आहार ( Healthy lifestyle ) को अपनाने की कोशिश करनी चाहिए । आयुर्वेद में कुछ औषधियों के बारे में बताया गया है इनका नियमित इस्तेमाल से वजन कम किया जा सकता है तो चलिए जानते है –

पढ़े – 7 दिनों में 7 किलो वजन कम कैसे करें । How to weight loss.

त्रिफला । Triphala se Motapa kam karane ke 50 ayurvedic upay

आयुर्वेद के अनुसार त्रिफला चूर्ण एक औषधि हैं जो पाचन तंत्र को सुधारने के साथ साथ बॉडी को डिटॉक्स करने का कार्य करता है । वहीं, इसमें मेटाबॉलिक रेट एवं फैट बर्निंग प्रोसेस को तेज करने वाले एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं ।

रात को सोने से पूर्व 15 ग्राम त्रिफला का चूर्ण गुनगुने पानी में भिगोकर सुबह इस पानी को छानकर साथ में शहद मिलाकर कुछ दिनों तक सेवन करने से वजन कम होने लगता है । इसी प्रकार त्रिफला को अलग अलग प्रकार से सेवन किया जा सकता है जैसे –

10 ग्राम शहद एवं त्रिफले का चूर्ण सुबह शाम सेवन करने से मोटापे से राहत मिलती है । एक गिलास पानी में 2 चम्मच त्रिफला चूर्ण उबालकर स्वादानुसार मिश्री मिलाकर पीने से वजन कम होंगे लगता है । इसी प्रकार गिलोय चूर्ण एवं त्रिफला का चूर्ण की एक एक ग्राम शहद के साथ मिलाकर सेवन करने से Belly fat कम होने लगता है ।

हल्दी | Haldi se Motapa kam karane ke 50 ayurvedic upay.

आयुर्वेद के अनुसार हल्दी एक ऐसी औषधि है जो इम्युनिटी इनक्रीस करती हैं । साथ ही साथ इसमे एंटीऑक्सीडेंट नामक तत्व पाया जाता है जो कुरकुमिन फैट टिश्यू विकसित होने से रोकने में मदद करता है । यही वजह है कि वजन कम करने के लिए लाभदायक होती हैं । हल्दी का उपयोग चाय के साथ या खाने में भी सकते है । वही हल्दी के लड्डू बनाकर भी खा सकते हैं ।

नींबू । Nimbu se motapa kam karane ke upay.

नींबू एक हर समय उपलब्ध होने वाला फल है । इसमें कैल्शियम तत्व भरपूर मात्रा में पाया जाता है । वैसे तो नींबू पानी पीने के बहुत सारे फायदे हैं लेकिन सबसे बड़ा फायदा यह है कि गुनगुने पानी में नींबू रस मिलाकर पीने से वजन को कम करता है । इसमे उपस्थित तत्व अतिरिक्त फैट को बर्न करने में सहायक होते है । इसी प्रकार नीबू को अन्य प्रकार से भी सेवन किया जा सकता है – जैसे

30 – 35 ग्राम नीबू रस के साथ 15 – 20 ग्राम करेले के रस में मिलाकर पीने जल्दी वजन कम होता हैं । इसी प्रकार 25 ग्राम नींबू रस को 250 ग्राम पानी के साथ 15 ग्राम शहद मिलाकर नियमित रूप से 2 महीने तक पीने से लाभ होता है ।

पिप्पली । Pippali se motapa kam karane ke upay.

पिप्पली एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी हैं । जिनका उपयोग अनेक प्रकार से किया जाता हैं । लेकिन ज्यादातर इसे चूर्ण के रूप में इस्तेमाल किया जाता हैं । यह वायुविकार औषधि होने के साथ साथ वजन घटाने ( Weight loss ) के लिए भी उपयोगी होती हैं ।

30 ग्राम सेंघा नमक के साथ 150 ग्राम पिप्पली चूर्ण मिश्रित करके नियमित रूप से खाली पेट छाछ ( Buttermilk ) के साथ सेवन करने से जल्दी वजन कम होता हैं । इसी प्रकार इसे शहद के साथ भी सेवन करने से लाभ होता है ।

जौखार | Jakhar se motapa kam karane ke ayurvedic upay.

जौखर एक आयुर्वेदिक औषधि है । जिनका उपयोग शरीर को सुडौल बनाने के लिए किया जाता है । वही इसे Weight loss औषधि के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है । इसमें उपस्थित तत्व अतिरिक्त चर्बी ( Extra Fat ) को बर्न करते हैं ।

इनका उपयोग करने के लिए 35 ग्राम जौखर एवं 175 ग्राम चित्रकमूल का मिश्रण करके खुराक तैयार करे । अब इसे 5 ग्राम चूर्ण में शहद एवं नीबू रस के साथ 250 ग्राम पानी के साथ नियमित रूप से 30 दिनों तक सेवन करने से लाभ होता है । इतना ही नहीं जौखार चूर्ण को केवल पानी के साथ रोजाना पीने से भी वजन घटाने में सहायक होता है ।

तुलसी | Tulsi se motapa kam ka ramban upay.

तुलसी एक औषधीय गुणों से भरपूर पौधा है । वैसे तुलसी का आध्यात्मिक दृष्टि से भी बहुत महत्व है । इसमें एंटीऑक्सीडेंट नामक तत्व पाया जाता है । यह मधुमेह, अतिरिक्त चर्बी एवं बॉडी के ढीलापन दूर करने में उपयोगी हैं । इनका उपयोग कई प्रकार से किया जाता हैं । तुलसी के ताजे पत्तो बारीक पीसकर दही के साथ सेवन करने से बच्चों के लिए फायदेमंद है । इसी प्रकार 10 ग्राम तुलसी के पत्तों के रस को गिलास पानी में पीने से वजन कम होता है । इसी प्रकार शहद के साथ सेवन किया जाता है ।

पढ़े – तुलसी के 11 औषधीय गुण । Tulsi ke fayde nuksaan.

सोंठ | Sauth se motapa kam karne ka ramban upay.

सौठ अदरक का सूखा हुआ भाग होता हैं । यह स्वास्थ्यवर्धक औषधि है । इनका उपयोग अक्सर प्रेग्नेंसी के बाद महिलाएं लड्डू बनाकर करती हैं । हालांकि इनका उपयोग कोई भी कभी कर सकता है लेकिन सर्दियों के मौसम में अवश्य किया जाता है ।
वजन घटाने के लिए इनका इस्तेमाल कांतिसार, जौ, आवंला एवं जवाखार के साथ चूर्ण बनाकर शहद के साथ सेवन किया जाता है ।

गिलोय | Giloy se motapa kam karane ka Ramban upay.

गिलोय में एंटीऑक्सीडेंट, एंटीवायरल एवं इम्मयून सिस्टम को स्ट्रांग बनाने वाले तत्व पाया जाता है । आमतौर पर इनका काढा बनाकर इस्तेमाल किया जाता हैं । यह अतिरिक्त चर्बी को हटाकर बॉडी को सुडौल बनाने में सहायक होती हैं । 3 – 3 ग्राम गिलोय व त्रिफला चूर्ण को शहद के साथ सेवन करने जल्दी वजन कम होता है ।

Motapa kam karane ke 50 ayurvedic upay.

अजवायन । Motapa kam karane ke 50 ayurvedic upay. Ajwain.

आयुर्वेद में अजवाइन को औषधि का दर्जा प्राप्त है । आमतौर पर इनका उपयोग प्रेग्नेंसी के तुरंत बाद महिलाएं करती हैं क्योंकि यह पेट दर्द, गैस के लिए बहुत ही उपयोगी होता है । आयुर्वेद के अनुसार यह वजन घटाने ( Weight loss ) के लिए लाभदायक औषधि है । अजवाइन, सेंघा नमक, जीरा एवं कालीमिर्च को समान मात्रा में चूर्ण बनाकर छाछ के साथ सेवन करने से वजन कम होता है ।

गुनगुना पानी | Gungune pani se Motapa kam karane ke 50 ayurvedic upay.

पानी किसी भी औषधि से कम नहीं है । वैसे तो हम सभी जानते है कि पानी पीना तो फायदेमंद होता है लेकिन क्या आप जानते हैं कि गुनगुने पानी पीने से वजन कम होता हैं । क्योंकि पानी हमारे शरीर को डिटॉक्स करता है । खाली पेट पानी पीने से अनावश्यक चर्बी कम होती हैं । हमारा पिछला लेख ( पानी पीने के फायदे ) पढ़ सकते है ।

ईसबगोल | Isabgol se motapa kam karane ke 50 Ayurvedic upay.

इसबगोल भी एक आयुर्वेदिक औषधि है । इनका उपयोग पेट दर्द, दस्त एवं गैस के लिए किया जाता है । यह हमारे शरीर में कोलेस्ट्रॉल को भी कंट्रोल करने में मददगार होता है । इसबगोल की भूसी को खाली पेट दही या छाछ के साथ सेवन करने से वजन घटाने के लिए फायदेमंद होती हैं ।

छाछ । Buttermilk || Chhachh se motapa kam karane ke upay.

आयुर्वेद ने छाछ को औषधि माना है । यह दही मंथन के बाद तैयार होता है । इसमें कैल्शियम, विटामिन एवं अन्य पौषक तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते है । इसे कभी भी सेवन किया जा सकता है मगर भोजन के बाद सेवन करना चाहिए । जिसे पाचन शक्ति दुरस्त होती हैं ।
छाछ में जीरा व नमक मिलाकर सुबह सुबह खाली पेट पीना सेहतमंद होता है । इसमे कालानमक एवं अजवाइन मिलाकर पीना फायदेमंद होता है । छाछ पीने से चेहरे पर झुर्रियां एवं अतिरिक्त चर्बी नष्ट होती है ।

पढ़े – छाछ ( Chhachh ) पीने के फायदे । Benefits of buttermilk.

अनन्नास | Pineapple se Motapa kam karne ka Ayurvedic upay.

अनायास एक प्रकार फल है । यह पोषक तत्वों से भरपूर होता है । यही कारण है कि प्रतिदिन अनन्नास खाने या इनका जूस पीने से स्थूलता नष्ट होती है । इनका सेवन करने से भूख भी कम लगती हैं जिसे बॉडी में चर्बी बर्न होती हैं ।

पढ़े – पाइनएप्पल से वजन कम कैसे करें । Pineapple weight loss.

तरबूज से मोटापा कम करने के 50 आयुर्वेदिक उपाय ।

तरबूज भी गर्मियों में मिलने वाला एक फल है । यह फल मीठा एवं पानी से भरपूर होता है । इसमें ऑर्गेनिक रूप से अमीनो एसिड नामक तत्व पाया जाता है जो फैट बर्न में बहुत ही उपयोगी होता है । वही तरबूज बॉडी को लम्बे समय तक हाइट्रेट रखने में कारगर होता है ।

नियमित रूप से 250 ग्राम तरबूज खाने से वजन घटाने (Weight loss ) में सहायक होता है । वही इनका शेक बनाकर भी इस्तेमाल किया जाता हैं । इसके बारे पढ़ने के लिए हमारा पिछला लेख ( खाली पेट तरबूज खाने के फायदे व नुकसान ) पढ़े ।

मेथी | Methi se motapa kam karane ke upay.

रसोई घर से लेकर रोजमर्रा की चीज़ों में इस्तेमाल की जाने वाली मेथी घर घर की औषधि है । इनका उपयोग कई प्रकार से किया जाता है और इनके फायदे ही फायदे हैं । मेथी न केवल वजन घटाने में उपयोगी हैं बल्कि मधुमेह के लिए रामबाण औषधि है ।

मेथी में गेलक्टोमानन नामक तत्व पाया जाता है जो जल्दी वजन कम ( Fast weight loss ) करने के लिए उपयोगी होता है । वही मोटाबॉलिम नामक तत्व अतिरिक्त चर्बी को घटाने का कार्य करता है । इनका उपयोग पाउडर बनाकर पानी के साथ पी सकते हैं । रात भर मेथी पानी में भिगोकर सुबह खाली मेथी पानी पीने से भी वजन कम होता है ।

पढ़े – मेथी खाने के फायदे नुकसान । Methi khane ke fayde nuksan.

गुग्गुल से मोटापा कम करने का आयुर्वेदिक उपाय ।

आयुर्वेद के अनुसार गुग्गुल एक वजन घटाने वाली औषधि है । यह एक लोहबान नामक पेड़ की सूखी हुई राल के रुप में पाया जाता है । यह प्राकृतिक रूप से पोषक तत्वों से भरपूर होती हैं ।

वर्ष 2008 में हुए एक शोध में विश्वसनीय स्रोत पाया गया कि गुग्गुल के तत्व चर्बी को कम करने में उपयोगी होते है । वही 2017 में हुए अमेरिकी शोध में स्पष्ट हुआ कि यह चर्बी कम होने इनका असर हॉर्मोन पर भी नहीं पड़ता है । इनका उपयोग चूर्ण बनाकर किया जाता है । या पानी के साथ प्रतिदिन दिन में 3 बार सेवन करने से लाभ होता है ।

कलौंजी se motapa kam karane ke 50 Ayurvedic upay.

यह एक प्रकार का काला बीज हैं जिसे आम भाषा में काला जीरा कहा जाता है । इसमें उपस्थित तत्व बॉडी में अतिरिक्त चर्बी को घटाने के लिए उपयोगी होते हैं । इनका उपयोग तेल या बीज के रूप में किया जाता है ।

कीनो ट्री से मोटापा कम करने का आयुर्वेदिक उपाय ।

इसे विजयसागर पेड़ (पेरोकार्पस मार्सुपियम ) का अर्क या कीनो ट्री नाम से जाना जाता है । इसमें मौजूद तत्व वजन कम करने में मददगार हो सकता है । चूहों पर हुए शोध के अनुसार अतिरिक्त फैट को कम करने में सहायक है । इनका उपयोग अर्क के रूप में किया जाता हैं ।

दालचीनी | Dalchini se motapa kam karane ke 50 ayurvedic upay.

वजन घटाने के लिए दालचीनी एक उपयोगी औषधि है । आमतौर पर इनका उपयोग मसालों के रूप में किया जाता हैं जिनके अनेकों फायदे हैं । आयुर्वेद के अनुसार इनका नियमित रूप से इस्तेमाल करने से मोटाबॉलिम को तेज करती हैं जिससे अतिरिक्त वसा तेजी बर्न होती हैं । वही Belly fat के लिए बहुत उपयोगी औषधि है । इनका उपयोग चाय के साथ कर सकते हैं ।

अश्वगंधा | Ashwagandha se motapa kam karane ke ayurvedic upay.

यह आयुर्वेदिक दवाओं में से एक है । एक पौधे के रूप में अनेकों बीमारियों में इनका उपयोग किया जाता है । यह न केवल पुरुषों बल्कि महिलाओं के लिए भी फायदेमंद होता है । वजन कम करने के लिए अश्वगंधा के पत्तों का सेवन किया जाता है । इसके अलावा एक चम्मच अश्वगंधा पाउडर को एक गिलास गुनगुने दूध में शहद के साथ सेवन करने से मोटापा दूर होता हैं ।

पढ़े – महिलाओं के लिए अश्वगंधा के फायदे । Ashwagandha benefits for women.

एलोवेरा | Aloe vara motapa kam karane ke upay.

आयुर्वेद के अनुसार एलोवेरा एक ऐसी प्राकृतिक औषधि है जिनका उपयोग कई प्रकार से किया है । इनका उपयोग सौंदर्य सामग्री के रूप में किया जाता हैं । इसी कारण मोटापा घटाने के उद्देश्य से भी किया जाता हैं । यह बॉडी में मोटाबॉलिज्म को बढ़ाने में सहायक होता हैं जिसे चर्बी जल्दी बर्न होती हैं ।

मोटापा घटाने के लिए सबसे पहले एलोवेरा की गुद्दी को निकालकर अच्छी तरीके से साफ कर लीजिए फिर इसमें 1 चम्मच नींबू रस मिलाकर मिश्रण बना लीजिए । इस मिश्रण को लगातार 40 दिनों तक सेवन करें ।

मोटापा कम करने के उपाय । motapa kam karane ke upay.

मोटापा सभी के लिए परेशानियों की जड़ होता है चाहे वो महिला हो या पुरुष । आयुर्वेद के अनुसार कुछ उपाय है । कुछ सावधानियां हैं जिसे आप बिना दवाई से वजन कम कर सकते है तो चलिए जानते है –

मोटापा कम करने हेतु घरेलू पेय | motapa kam karane ke upay.

वजन को घटाने हेतु कुछ घरेलू नुस्खे भी अपनाने की कोशिश अपनी दिनचर्या में करें जैसे ग्रीन टी, चिया सीड का उपयोग, जीरा टी, जिंजर टर्मरिक टी, निम्बू शहद और अजवाइन का पानी जैसे पेय चाय और कोल्ड्रिंक की जगह अपनी डाइट का हिस्सा बनाएं, साथ ही ज्यादातर फल और सब्जियों और उनके जूस का भी उपयोग करें और अपने डाइट में शामिल करें। खूब सारा पानी पिएं हो सके तो हल्के गर्म पानी का सेवन करें।

छोटे छोटे कदम करेंगे मोटापे से दूर |

रोजमर्रा के जीवन शैली में कुछ छोटे छोटे कदम आपको मोटापे से बचा सकता हैं। छोटे बाउल और प्लेट का उपयोग खाने के लिए करें इससे डाइट को मापने में आपको आसानी होगी और मानसिक रूप से आपको यह नही अनुभव होगा कि आप कम खा रहे हैं।

खान – पान पर दें विशेष ध्यान | Weight loss diet in hindi.

Obesity or weight loss के लिए Diet कंट्रोल करने का ये मतलब बिल्कुल भी नही है कि आप भूखे रहें थोड़ी थोड़ी देर में कुछ कुछ खाते रहें लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि जो भी आप खाएं वो स्वास्थ्य वर्धक हो और उसमें कैलोरी की मात्रा कम हो । ओएट्स, चिया सीड, बाजरा, फ्लेक्स सीड, सूजी तथा चना इन्हें अपने डाइट में किसी न किसी रूप में लेने का प्रयास करें ।

वर्कआउट से करें मोटापे का सामना

मोटापा या वजन कम करने हेतु कैलोरी बर्न करने वाली एक्सरसाइज भी रेगुलर करते रहे जैसे ज्यादातर पैदल चलना, लिफ्ट की जगह सीढ़ियों के उपयोग करना, साइकिलिंग और तैरना इसके अलावा आप कई योगासन की क्रियाओं को भी वजन घटाने के लिए कर सकते है, लेकिन अगर आपको स्वास्थ्य संबंधी कोई भी परेशानी है तो विशेषज्ञों के अंतर्गत ही व्यायाम या योगासन करें वरना आपको फिजिकल प्रोब्लम बढ़ सकती है।

पढ़े – डिलीवरी के बाद वजन कम कैसे करें । Pregnancy ke baad weight loss.

मोटापा कम करने के रामबाण आयुर्वेदिक उपाय । Weight loss tips in hindi.

आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति सदियों पुरानी पद्धति हैं । आयुर्वेद ने न केवल औषधियों के बारे में बताया बल्कि खानपान एवं जीवनशैली के सुधार पर जोर दिया । अगर हमारी जीवनशैली बेहतर होगी तो कोई रोग हमारे पास भटकेगा नहीं । मोटापा घटाने ( Weight loss ) के लिए के कुछ टिप्स बताए हैं जो इस प्रकार है –

● समय सोए एवं समय पर उठने से अधिकतर बीमारियां होने का खतरा कम हो जाता हैं ।

● पर्याप्त नींद लेने से शरीर एवं दिमाग को शांति मिलती हैं ।

● भोजन करने के तुरंत बाद एवं भोजन करने के दौरान जलपान न करें ।

● भोजन में वसा युक्त पदार्थों का सेवन न करें क्योंकि यह मोटापा बढ़ाते हैं ।

● मीठा भोजन करने से परहेज करें ।

● गुनगुने पानी में शहद मिलाकर पिएं ।

● दही को मंथन करके सेवन करने से मोटापा कम होता हैं ।

निष्कर्ष | motapa kam karane ke upay.

इस तरह हम ये कह सकते है कि मोटापा या वजन का बढ़ना हमारे समाज में तेजी से पैर पसार रहा है । तो हमे खुद और आसपास के समाज को इससे अवगत कराने की आवश्यकता है । और साथ ही जगह जगह ओपन जिम और योग सेंटर भी खोलने में अपना योगदान दें क्योंकि स्वस्थ रहना और दूसरों को भी स्वस्थ रखना समाज के हर नागरिक का कर्तव्य बनता है। स्वास्थ्य ही सुख की पहली सीढ़ी है तो खुद भी स्वस्थ रहिए और अपने आस पास के लोगो को भी जागरूक करें ।

अस्वीकरण – इस लेख में दी गई जानकारी का उद्देश्य शैक्षणिक मात्र है । हमारी टीम इसमे बताए गए उपायों की पुष्टि नहीं करता है । आप इनका इस्तेमाल करने से पहले योग्य चिकित्सक से परामर्श लेना अनिवार्य समझे ।

Leave a Comment