उड़द की दाल कैसी होती है । Black gram in hindi.

Black Gram in hindi.

हमारे जीवन में उड़द की दाल के अनेक फायदे (Urad ki dal ke fayde aur nuksan ) है। हमारी रसोई या स्टोर रूम में अनेक प्रकार की दालें होती है । किसी को अरहर की दाल पसंद होती तो किसी को चने की। उड़द की दाल को हम काली दाल ( Black Gram in hindi. ) भी कहते हैं क्योंकि इसके ऊपर काले रंग का छिलका होता है जब छिलका उतर जाता है तो धुली हुई सफेद दाल होती है जिसे हम उड़द की दाल कहते हैं लेकिन छिलके में फाइबर होता है इसलिए पौष्टिकता अधिक होती है। प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, फैट, विटामिन बी, आयरन, फोलिक एसिड, कैल्शियम, मैग्नीशियम और पोटेशियम से भरपूर, उड़द की दाल हमारे हेल्थ के लिए बहुत ही फायदेमंद है।

उड़द की  दाल आयुर्वेद के हिसाब से दवाई के रूप में कार्य करती है । गर्भवती महिला के लिए बहुत ही फायदेमंद होती है । गर्भवती महिला को अधिकांश से उड़द की दाल का सेवन करना चाहिए क्योंकि इसमें प्रचूर मात्रा में कैल्शियम, विटामिन और आयरन होते हैं।तो आइए जानते है – Black gram in hindi. के बारे में –

पढ़े – अश्वशक्ति पाउडर के फायदों व नुकसान । Ashwashakti powder ke fayde.

Table of Contents

उड़द की दाल कैसी होती है । Black gram in hindi.

उड़द दाल भी लोकप्रिय दलहनों में से एक है । यह काली व हरी के साथ कई प्रकार की होती हैं । लेकिन आयुर्वेद के अनुसार काली उड़द ( Black Gram ) को सबसे उत्तम मानी जाती है । यह दाल विभिन्न प्रकार के पौष्टिक तत्वों से भरपूर होने के कारण कई प्रकार के रोगों के लिए लाभदायक होती हैं । इसमें उपस्थित विटामिन, कैल्शियम, पौटेशियम, मैग्नीशियम आदि अनेक तत्व होते है । जो ह्रदय, लीवर, लकवे, बवासीर, यौन शक्ति, स्पर्म काउंट, नकसीर आदि रोगों के लिए लाभदायक होती हैं । उड़द की दाल से दही बड़े, कचौड़ी, दाल मखनी, पिन्नी आदि कई प्रकार के पकवान बनाये जाते है ।

उड़द दाल की तासीर गर्म होती हैं या ठंडी ।

उड़द दाल की तासीर गर्म होती है, अतः इसका सेवन करते समय शुद्ध घी में हींग का तड़का लगा लेना चाहिए । इसमें विटामिन, कैल्शियम, कार्बोहाइड्रेट, व प्रोटीन पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं । बवासीर, गठिया, दमा एवं लकवा के रोगियों को इसका सेवन कम करना चाहिए ।

उड़द दाल कब खानी चाहिए ?

उड़द की दाल पौष्टिक तत्वों से भरपूर होने के कारण सेहतमंद मानी जाती हैं । जिनका उपयोग लड्डू बनाकर, साबुत अनाज के रुप में किया जाता है । या इनकी रेसीपी भी बनाई जाती हैं । उड़द दाल रात में खाना चाहिए । बशर्त आप भरपूर मात्रा में पानी पीते हो जिससे पाचन शक्ति ठीक रहती हैं । इस बात का ध्यान रखें कि उड़द दाल ( Urad Dal ) भारी होती हैं । इसलिए शाम के भोजन के बजाय दिन में खाना बेहतर समझे ।

उड़द की दाल के फायदे । Urad ki dal ke fayde. । Benefits of black gram in hindi.

उड़द की दाल न केवल पौषक तत्वों से भरपूर है बल्कि सेहतमंद होती हैं । यह मार्केट में आसानी से उपलब्ध हो जाती हैं । इस दाल के प्रकार के गुण होते है । इनका इस्तेमाल कई तरह से किया जा सकता है । यह गर्भावस्था में भी फायदेमंद होती हैं । तो चलिए जानते है – Black gram benefits in hindi.

 उड़द की दाल डाइजेशन बनाए बेहतर ।

शरीर की जरूरत के अनुसार‌ उड़द दाल में फाइबर होता है। जो हमारे डाइजेशन को स्वथ्य रखता है। चूँकि इनके लिए पर्याप्त मात्रा में पानी की भी आवश्यकता होती हैं ।

पढ़े – मसूर दाल के फायदे व नुकसान । Masoor dal ke fayde.

उड़द की दाल दिल को रखे सेहतमंद । Benefits for heart black gram in hindi.

उड़द दाल में प्रचुर मात्रा में फाइबर और मैंग्नीशियम होता है । ये दिल को स्वस्थ रखते हैं। इसमे भरपूर मात्रा में मौजूद फाइबर, मैग्नीशियम और पोटेशियम होते हैं, जो हमारे हार्ट की हेल्थ के लिए बहुत फायदेमंद हैं

उड़द की दाल बॉडी में बढ़ाए एनर्जी लेवल ।

जैसा की हमारे बुजुर्ग कहते हैं सर्दी के मौसम में उड़द के लड्डू खाने से एनर्जी लेवल बढ़ता है । इसमे उपस्थित पौष्टिक तत्व शरीर मे पौषक तत्वो की कमी को पूरा करने में सहायक होते है ।

उड़द की दाल हड्डियों को बनाए सेहतमंद ।

उड़द की दाल में पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम और मैग्नीशियम होता है और हमारी हड्डियों के लिए  बहुत ही आवश्यक होता है इसीलिए उड़द की दाल हमारे शरीर की हड्डियों को और जोड़ों को मजबूत बनाता है।इसमें बहुत से मिनिरल्स होते हैं जो हड्डियों  के मिनिरल्स डेन्सिटी को बेहतर बनाते हैं ।

पढ़े – मेथी खाने के फायदे व नुकसान । Methi khane fayde.

उड़द की दाल रक्त कणिकाओं की वृद्धि में सहायक ।

रक्त कणिकाओं को बढ़ाने में उड़द की दाल बहुत ही सहायक होती है जो कि हमारे रक्त के अंदर लाल कणिकाएं होती हैं वह हमारे नर्वस सिस्टम को ठीक रखती है और हमारे शरीर के अंदर ऑक्सीजन को इधर से उधर ले जाने में मदद करती है। इससे हमारे अंदर होने वाली परेशानियों को दूर करने में भगाने में कारगर होती है।

 उड़द की दाल डायबिटीज को कंट्रोल करने में मददगार | Daibities benefits for Black gram in hindi.

फाइबर अधिक होने के कारण ग्लूकोस और शुगर के लेवल को बनाए रखने में उड़द की दाल सहायक होती है जिससे हमारे शरीर में शुगर की बीमारी को रोकने में मदद करती है ।

Urad ki dal ke fayde.

उड़द की दाल दर्द और सूजन को करे कम ।

जिस स्थान पर सूजन आ रही है या हमारी शरीर में दर्द हो रहा है उस स्थान पर उड़द की दाल को पीसकर के उसका पेस्ट स्थान कहलाता लेने से सूजन कम हो जाती है एवं दर्द दूर भाग जाता है ।

पढ़े – ईडी बूस्टर कैप्सूल । ED Booster capsule uses in hindi.

उड़द की दाल नर्वस सिस्टम से जुड़ी बीमारियों में कारगर ।

Urad dal हमारे शरीर में कोलेस्ट्रॉल ( Cholesterol ) लेवल को बनाए रखता है और एथेरोस्क्लेरोसिस को रोकता है, जिससे हमारा कार्डियोवस्कुलर सिस्टम स्वस्थ रहता है। पोटेशियम शरीर के ब्लड सर्कुलेशन सिस्टम को सुधारने के साथ-साथ आपकी धमनी की दीवारों में होने वाले किसी भी नुकसान को रोकने में मदद करता है।

धात रोग के उड़द की दाल के फायदे । Dhat rog ke liye Urad ki dal ke fayde.

उड़द की दाल का सेवन करना सेक्ससुल प्रॉब्लम के लिए फायदेमंद होती हैं । आयुर्वेद के अनुसार 10 से 15 ग्राम उड़द की दाल को पीसकर गाय के दूध के साथ उबालकर गुनगुने पीने से पेशाब के साथ धात रोग ( पेशाब के साथ वीर्य गिरना ) की प्रॉब्लम से राहत मिलती हैं । इसी प्रकार यह रतिक्रिया के दौरान यौन शक्ति बढ़ाने, वीर्य पुष्ट करने एवं नपुंसकता को दूर करने के लिए भी लाभदायक औषधि है ।

उड़द की दाल के अन्य फायदे । Benefits of Black gram in hindi.

● सर्दियों पालक डालकर उड़द दाल खाने से आयरन और खून की मात्रा में वृद्धि होती है।
● उड़द दाल ताकतवर होती है। सर्दियों गोंद और मेवा डालकर लड्डू बनाए जाते हैं काफी पौष्टिक होते हैं।
● उड़द की दाल को भिंगोकर उसे पीसकर लगातार 1 महीने तक सफेद दाग धब्बे पर लगाने से राहत मिलती है ।
● उड़द की दाल को पीसकर माथे पर लेप करने से नकसीर की प्रॉब्लम से राहत मिलती हैं ।

पढ़े – यौन शक्ति बढ़ाने के उपाय । Yaun shakti badhane ke upay.

उड़द की दाल के लड्डू के फायदे । Urad dal ke laddu ke fayde.

उड़द की दाल को पीसकर इनके साथ गाय का घी मिलाकर लड्डू बनाये जाते है । यह लड्डू अक्सर सर्दियों के मौसम में बनाये जाते है क्योंकि इनकी तासीर थोड़ी गर्म होती हैं ।

उड़द में कैल्शियम, विटामिन, फास्फोरस, मैग्नीशियम, कॉपर, जिंग एवं मैग्नीज जैसे कई तरह के मिनरल्स उपस्थित होते हैं। ये सभी तत्व बॉडी में हड्डियों को स्ट्रांग बनाने का कार्य करते हैं। हेल्थ एक्सपर्ट के अनुसार आधा कप उड़द दाल में 114 कैलोरी एनर्जी होती हैं ।
उड़द की दाल के लड्डू बहुत ही सेहतमंद होते है । यह यौन स्वास्थ्य, लिवर, हार्ट, बवासीर, नकसीर आदि प्रॉब्लम के लिए उपयोगी होते है । इसके अलावा ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर बनाने एवं पाचन शक्ति को भी मजबूत बनाते हैं ।

उड़द दाल और दूध के फायदे । Dudh aur Urad dal ke fayde.

उड़द की दाल बल पुष्ट होती हैं । आयुर्वेद के अनुसार दूध के मिलाकर सेवन करना फायदेमंद होता है । उड़द दाल को पीसकर और दूध में मिलाकर नियमित रूप से पीने से दिमाक तेज होता है। याददाश्त बढ़ती है ।

पढ़े – गोरा होने के 10 बेस्ट फेस वॉश । Best face wash for oily skin.

स्किन के लिए उड़द की दाल के फायदे । Skin benefits for black gram in hindi.

काली उड़द दाल ( Black Gram ) को न केवल सेवन करना फायदेमंद है बल्कि यह त्वचा एवं बालो के लिए भी उपयोगी होती हैं । उड़द दाल और मसूर की धुली को पीस मुँह पर लगाने से मुहाने ठीक हो जाते हैं । चेहरे पर आभा निखर आती है।

पुरुषों के लिए उड़द की दाल के फायदे । Men’s benefits for black gram in hindi.

उड़द दाल न केवल महिलाओं के लिए बल्कि पुरुषों को भी पुष्ट करने वाली किसी औषधि से कम नहीं है । इनका उपयोग वीर्यवर्धक के रूप में किया जाता है । धातु रोग के लिए यह एक रामबाण औषधि है । वही संभोग शक्ति बढ़ाने के उपयोगी होती हैं । इसी प्रकार बार बार पेशाब आने की प्रॉब्लम के लिए उपयोगी होती हैं ।

उड़द दाल गर्भवती महिला को खानी चाहिए या नहीं ? Urad dal benefits in pregnancy.

वैसे तो प्रेग्नेंसी के दौरान सभी दाल स्वास्थवर्धक होती हैं लेकिन उनमें उड़द दाल ज्यादा फायदेमंद होती है । गर्भावस्था में किसी टॉनिक से कम नहीं है । इसमें अमिया 3 और अमिया -6 भी होता हैतो जच्चा बच्चा दोनों के लिए अच्छा होता है। दिमाग भी तंदरुस्त रहता है।

उड़द की दाल के नुकसान | Side effects for black gram in hindi.

दुनिया की हर गति विधि दोहरी होती है। कोई भी चीज यदि फायदा करती है तो नुकसान भी होते हैं।

• उड़द दाल का अधिक सेवन करने से गैस्ट्रिक समस्या उत्पन्न  हो सकती है। जिसे साधरण भाषा में हम एसेडिटी कहते हैं।

• यदि हम किसी भी प्रकार का चिकित्सक से उपचार ले रहें हैं तो बिना परामर्श के दाल का सेवन नहीं करना चाहिए।

• उड़द दाल का ज्यादा सेवन करने से किडनी में स्टोन पाए जाने को संभावन बन जाती है।

• उड़द दाल का अत्यधिक सेवन करने से शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाती है।

उड़द की दाल रेसिपी | Kali Urad Dal Recipe in Hindi.

उड़द दाल रेसिपी की एक सबसे स्वादिष्ट व्यंजनो में से एक है । इनका सेवन करना सेहतमंद होता जा । इस रेसिपी को घर आसानी से बना सकते है । हालांकि यह रेसिपी दाल मखनी के बिल्कुल समान हैं तो चलिए जानते है – उड़द दाल रेसिपी बनाने के लिए सामग्री ( Ingredients for Kali Urad Dal Recipe ) के बारे में –

• तीन चौथाई कप काली उड़द की दाल ।
• 1 बारीक कटा हुआ प्याज ।
• 2 लाल टमाटर ।
• 2 चम्मच तेल । या
• 2 चम्मच घी ।
• 2 पिच हींग ।

• 1 तेज पत्ता । इसके अलावा आधा टी स्पून जीरा, एक छोटा चम्मच अदरक लहसुन पेस्ट, 2 हरी मिर्च के साथ हल्दी, लाल मिर्ची पाउडर, धनिया को आधा आधा छोटे चम्मच से डाले । नमक को स्वादानुसार डाले ।

उड़द दाल की रेसिपी बनाने की विधि । How To Make Kali Urad Dal Recipe.

उड़द दाल को एक कटोरी में लेकर 3 से 4 घण्टे के लिए अच्छी तरीके से भिंगोकर रखे । जब ये भींग जाए तो कुकर में 3 – 4 कप पानी डालकर एवं स्वादनुसार नमक मिलाकर गैस पर रखे । अब मंदी आंच पर 5 – 6 सिटी बजने का इंतज़ार करे । तब तक तड़का तैयार करें ।
अब टमाटर और हरी मिर्च का अच्छे पेस्ट तैयार कर लीजिये । फिर एक कढ़ाई में 2 टी स्पून तेल को गर्म करें फिर तेज पत्ता, जीरा, हींग डाले एवं प्याज डालकर भून दीजिए ।

अब कम आंच पर धनिया, जीरा, मिर्ची पाउडर, हल्दी एवं गर्म मसाला के साथ टमाटर व हरी मिर्च का पेस्ट बनाकर स्वादनुसार नमक डालकर मंदी आंच पर जब तक पकाएं तब मसाले से तेल अलग न हो जाए ।
अंत में अब पकी हुई दाल में तड़के को डालकर अच्छी तरह से मिला दीजिए । और 5 मिनट के पकाकर हरा धनिया मिला दीजिए बस आपकी रेसीपी तैयार है । गर्मागर्म दाल के साथ घी व रोटी के साथ खाने का मज़ा लीजिए ।

अंतिम शब्द –

उड़द की दाल के बहुत सारे फायदे हैं मगर इनका उपयोग सही तरीके करें अन्यथा नुकसान हो सकता है । यदि आपने उड़द दाल खाने का मन बना लिया है तो सीमित मात्रा में करें । क्योंकि अति खराब होती हैं । इस दौरान यदि कोई परेशानी होती हैं तो उड़द दाल का सेवन तुरंत बंद करें एवं डॉक्टर से सम्पर्क करें