शहद के फायदे – नुकसान एवं असली शहद की पहचान कैसे करें

शहद के फायदे

आपने कभी मधुमक्खी के छाते से टपकते हुए रस को देखा होगा । जिसे हम आम भाषा में मद कहा जाता है । शहद स्वादिष्ट, चिपचिपा तरल खाद्य पदार्थ होता है । यह अनेको गुणों से भरपूर होने के कारण आयुर्वेद ने औषधी माना । जी हां शहद से अनेको फायदे है । मोटापा कम करने से लेकर सौंदर्य बढ़ाने तक शहद ( Honey ) का उपयोग किया जाता है । 

यह एक मधुमक्खियों के छाते से प्राप्त होने वाला मिठा, चिपचिपा सा तरल पदार्थ है । जो बहुत ही मिठा होता हैं तो आइये जानते है शहद के बारे में – 

शहद क्या है ? What is honey 

शहद (Honey ) एक शुद्ध एवं मिठा तरल पदार्थ है जो मधुमक्खी के छाते से प्राप्त किया जाता है । मधुमक्खियां विभिन्न फूलों का रस एकत्रित करके इस रस को बनाती है जिसे शहद कहते है । शहद की मिठास मोनोसैकेराईडस फ्रक्टोस और ग्लुकोज से मिलता है । जिसकी मिठास लगभग शक्कर की तरह होती है । 

पढ़े – ब्रेस्ट बढ़ाने की दवा हिमालय । स्तन बढ़ाने की 5 टेबलेट व क्रीम

शहद ( Honey ) कैसे बनता है ? 

शहद एक मिठास से भरपूर एवं चिपचिपा सा तरल खाद्य पदार्थ है जो मधुमक्खीयों एवं उनके कीटो द्वारा निर्मित किया जाता है । मधूमक्खीया पौधों के शर्करा स्त्रावों फूलों के रस से एंजाइमी गतिविधियों एवं जल के वाष्पीकरण के माध्यम से शहद का उत्पाद करती है । है ।

पढ़े – बैधनाथ शुगर की दवा । 7 बेस्ट आयुर्वेदिक व पतंजलि दवा

मधुमक्खी शहद कब बनाती है ?

एक्सपर्ट के अनुसार प्रतिवर्ष अप्रेल से जून महीने तक शहद निकालने का सही समय है । अगर छते के बीच के हिस्से चाकु से चीर दिया जाये तो 15 दिन में शहद फिर तैयार हो जाता है । वही आगर आम धारणा की माने तो प्रति कृष्ण पक्ष में मधुमक्खी छाता मद से भरा रहता है ।

शहद के फायदे – नुकसान ( Benefits of Honey )

शहद एक स्वादिष्ट एवं गाढ़ा खाद्य पदार्थ है जिसे हम खाने में उपयोग कर सकते है तो आइए जानते हैं कि इसके सेवन करने से क्या क्या फायदे है –

अनिद्रा दूर करे – यदि आप रात में नींद की समस्या से जूझ रहे है तो शहद आपके लिए उपयोगी हो सकता है । क्योंकि इसे सोते समय दूध के साथ सेवन करने से स्लिपिंग हार्मोन पर्याप्त मात्रा में बनना शुरू हो जाता जो अच्छी नींद के लिए काफी लाभदायक साबित हो सकता है । 

खांसी से छुटकारा मिलता है – आपने अक्सर देखा होगा कि कई लोगों को रात में सोने से पहले अचानक खांसी आने लगती हैं फिर सामान्य खांसी भी हो सकती हैं । शहद में रोग प्रतिरोधक क्षमता के गुण होते जो सर्दी – खांसी एवं संक्रमण से बचाते है । 

सिरदर्द दूर करे – सिरदर्द की समस्या किसी भी उम्र में हो सकती है । नेचुरल सेंटर फॉर बायोटेक्नॉलॉज़ी इन्फॉर्मेशन ( Natural  centre for biotechnology information ) के अध्ययन के अनुसार इस बात की पुष्टि की गई कि शहद का अनुसार सेवन का  सेवन करने वाले लोग सिरदर्द की समस्या से काफी राहत महसूस करते है ।

थकान मिटाये – पुरे दिन काम करने से कई लोगो में शरीर में थकान महसुस होती है । शहद में पोषक तत्वों एवं विटामिन भरपुर मात्रा में पाया जाता है । एक चम्मच शहद में 64 कैलोरी होती जो थकान दूर करने में सहायक होती है । 

इम्यूनिटी पॉवर बढ़ाने में सहायक – शहद का यह औषधीय गुण है जो कि मानव शरीर में इम्युनिटी पॉवर को बढ़ाता है जो आपको स्वस्थ रखने में मदद करता है ।

वजन कम करने में सहायक – शहद वजन घटाने में सहायक होता है । यदि आप सुबह सुबह खाली पेट गर्म पानी के साथ शहद का सेवन करते है तो मोटापा कम करने में सहायक होता है ।

स्किन केअर के लिए लाभदायक – शहद ( Honey ) सुंदरता बढ़ाने में कारगर साबित होता है । यह रूखी सूखी त्वचा निखार लाता है । शहद में ऐसे अनेको गुण है जो आपकी त्वचा में नमी बनाए रखता है । वही मुह पर कील मुहासे दूर करने में सहायक होता है । इसी प्रकार बालो को स्वस्थ रखने में भी उपयोगी होता है । 

असली शहद की पहचान कैसे करें ? 

आजकल बाजार में मिलावटी पदार्थों की भरमार है । हर चीज में मिलावट हो रही है ऐसे में असली शहद की पहचान करने के कुछ तरीके बताए जा रहे है जैसे –

गरम पानी से – असली शहद की पहचान गरम पानी से करने का सबसे बढिया तरिका है  इनके लिये काच की गिलास में गरम पानी भर ले और एक चम्मच शहद डालें । अगर यह पानी में घुल जाये तो समझ लीजिए कि शहद में मिलावट है।

आग में जलने लगेगा – असली शहद की आग से  जांच हो सकती है । इसके लिये एक मोमबत्ती जलाकर और लकडी पर रूई लपेटकर उस पर शहद लगा लें   फिर इस शहद लगी रुई को आंच पर रखे । अगर जलने में समय लेती हैं तो शहद में पानी की मिलावट हो सकती है ।

पानी – सिरका से करे टेस्ट – कांच की गिलास / कटोरी में 1 बडा चम्मच शहद 2-3 बूंद सिरका और थोडा सा पानी डालकर मिला लें । 2-3 मिनट देखिये अगर इसमें से झाग निकलने लगे तो शहद में मिलावट है ।

पढ़े – पतंजलि मर्दाना ताकत की दवा । 21 कमजोरी की आयुर्वेदिक दवा

शहद सेवन के कुछ खास नियम –

शहद का उपयोग करने के खास नियम है जिनके अनुसार यदि आप सेवन करे तो आपके लिए फायदेमंद हो सकता हैं । तो चलिए जानते हैं –

अदरक का रस व शहद चाटने से श्वास कष्ट, खांसी में आराम मिलता हैं ।

प्याज के रस के साथ शहद मिला देने से फेफडे और गले में जमा कफ निकल जाता है । हिचकी एवं  वमन में लाभ पहुचता हैं ।

गर्म पानी के साथ खाली पेट सेवन करने से मोटापा कम करता है ।

निम्बू के साथ शहद मिलाकर लेप करने से त्वचा की नमी बनाए रखता है ।

यह बवासीर के लिए भी बहुत लाभदायक है ।

पढ़े – नामर्दी की दवा जड़ी बूटी । नामर्द को मर्द बनाने की 7 देसी दवाए

शहद खाने से होने वाले नुकसान –

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि हर चीज़ के दो पहलु होते है । उसी प्रकार शहद के जहा फायदे है वही अधिक मात्रा मे सेवन करने से कुछ नुकसान भी नजर आ सकते हैं जैसे –

शहद में ग्लुकोज से अधिक फ्रक्टोज होता है ।

पचाने में समस्या होती है ।

शहद गरम करके ना खाये ।

इससे शरीर में पित्त बढता है ।

शहद को किसी भी तरह के मीट के साथ न खाये ।

शहद का इस्तेमाल करने से आपके छोटी आंत पर असर हो सकता है ।

शहद से कमजोरी हो सकती है ।

शहद का अधिक सेवन से पेट में सुजन, दस्त जैसी समस्या हो सकती है । शहद खाने से इंशुलीन बढता है ।

गर्भवती महिला एवं छोटे बच्चे इसे खाने से परहेज करें ।

शहद को अधिक मात्रा में नहीं खाना चाहिए ।

पढ़े – बेस्ट 9 महिलाओं के लिए टॉनिक Patanjali, आयुर्वेदिक

अंतिम शब्द – शहद एक नेचुरल तत्वों से बना एक मिठा खाद्य पदार्थ है । इनका उपयोग सही तरीके से करने पर फायदा होता हैं । हालाँकि इनका उपयोग कई कार्यो मे किया जाता है । वही आज कल मार्केट मे बनावटी शहद भी उपलब्ध है । इसलिए सोच समझकर उपयोग करें ।

Share