तुलसी के 11 औषधीय गुण । Tulsi ke fayde – nuksaan.

Tulsi ke fayde in hindi.

Tulsi ke fayde. तुलसी के पौधे को हिंदू धर्म में पवित्र माना जाता है । लोग इसे अपने घर के आँगन में लगाते हैं। तुलसी न केवल भारतीय संस्कृति की दृष्टि से महत्वपूर्ण है बल्कि आयुर्वेदिक गुणों से भरपूर होने के कारण आयुर्वेद ने बहुत महत्व दिया है । आयुर्वेद ने इस औषधीय पौधे की संख्या दी । तुलसी एक एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होती है । यही कारण है कि विभिन्न बीमारियों के लिए उपयोगी होती है ।

औषधीय दृष्टि से तुलसी की पत्तियां ज्यादा लाभकारी (tulsi ke fayde ) मानी जाती हैं। इन पत्तियों को आप सीधे पौधे से लेकर खा सकते हैं। इसी प्रकार तुलसी के बीज के फायदे भी अनेको हैं। आप तुलसी के बीज के साथ पत्तियों का चूर्ण भी प्रयोग कर सकते हैं। तुलसी पत्तियों में कफ, वात दोष को कम करने, पाचन शक्ति एवं भूख बढ़ाने एवं खून शुद्धि करने वाले गुणों से भरपूर होते हैं।

इसके अलावा तुलसी के पत्ते बुखार, दिल से जुड़ी बीमारियां, पेट दर्द, मलेरिया और बैक्टीरियल संक्रमण आदि में बहुत फायदेमंद हैं। तुलसी के औषधीय गुणों में राम तुलसी की तुलना में श्याम तुलसी को प्रमुख माना गया है। आइये तुलसी के पत्तियों के के फायदों के बारे में विस्तार से जानते हैं। Tulsi ke fayde – Nuksan –

Also read –

छाछ पीने के फायदे – नुकसान । Benefits of buttermilk in hindi.

महिलाओ के लिए अश्वगंधा के फायदे । Ashwagandha benefits for women.

तुलसी के फायदे । Tulsi ke fayde. / Benefits of tulsi in hindi.

तुलसी विटामिन और खनिज का भंडार है। इसमें मुख्य रुप से विटामिन सी, कैल्शियम, जिंक, आयरन और क्लोरोफिल पाया जाता है। इसके अलावा तुलसी में सिट्रिक, टारटरिक एवं मैलिक एसिड पाया जाता। जो विभिन्न रोगों के रोकथाम के लिए भी उपयोगी है तो चलिए जानते है – tulsi ke fayde –

तुलसी की पत्तियों का प्रयोग तनाव दूर करने लिए । Tulsi ke fayde tanav dur karane ke liye

आज के समय में तनाव बड़ी समस्या बन गई है और इससे आराम पाने के लिए लोग कई तरह की थेरेपी अपनाते हैं। तुलसी पत्ते इस समस्या को कम करने में उपयोगी पाए गए हैं। NCBI ( नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फोर्मेशन ) द्वारा प्रकाशित एक शोध में यह बताया गया है कि इसमें एंटीस्ट्रेस गुण होते हैं, जो स्ट्रेस से तुलसी के पत्ते आराम दिलवा सकते हैं।

Tulsi ke fayde. हमारे शरीर में कॉर्टिसोल हॉर्मोन की मात्रा को नियमित कर सकते हैं, जो एक तरह का स्ट्रेस हार्मोन होता है। विशेषकर तुलसी की चाय का सेवन करने से तनाव से काफी राहत मिल सकती है । साथ ही साथ एंटीडिप्रेसेंट गुण जो आपकी याददाश्त बेहतर करने में भी सहायक हो सकते है ।

तुलसी सर्दी जुकाम के लिए उपयोगी । Tulsi k fayde sardi jukam ke liye –

Tulsi ke fayde. रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है । सर्दी-जुकाम के साथ बुखार में भी फायदा पहुंचाती है। काली मिर्च और तुलसी को पानी में उबाल कर काढ़ा बनाएं साथ ही मिश्री डाल कर इसको पीने से बुखार से आराम मिलता है। जुकाम होने पर तुलसी को पानी में उबाल कर भाप लेने से भी फायदा होता है ।

चोट लगने पर तुलसी के फायदे । Chot lagane par tulsi ke fayde –

कहीं चोट लगने पर तुलसी के पत्ते को फिटकरी के साथ मिलाकर घाव पर लगाने से तुरंत आराम जाता है । तुलसी में मौजूद एंटी-बैक्टीरियल तत्व चोट के घाव को पकने नहीं देता और ठीक करने में मदद करता है । तुलसी पत्ते को तेल में मिलाकर लगाने से जलन भी कम होती है। क्योंकि एंटीस्ट्रेस एंटीडिप्रेसेंट एंटीबैक्टिरियल गुणों से युक्त है तुलसी के पत्ते ।

रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने के लिए तुलसी के फायदे । Immunity badhane ke liye tulsi ke fayde

अगर आप इसकी पत्तियां चबाते हैं या फिर इससे हर्बल-टी बनाकर पीते हैं तो उससे शरीर को लाभ होता है। यदि आप की इंसान का इम्युनिटी सिस्टम मजबूत है तो आपको बीमारियां कम लगने के चांस हो सकते हैं ।

तुलसी के शरबत के फायदे । Tulsi ke sharbat ke fayde –

तुलसी की पत्तियों से शर्बत बनाकर एक से डेढ़ चम्मच बच्चों को तथा दो से चार चम्मच तक वयस्कों को सेवन करने से खांसी, गले की खराश में लाभ होता है। यदि आप शर्बत में हल्के गर्म पानी के साथ मिलाकर पीने से सर्दी जुकाम एवं दमा की प्रॉब्लम से राहत मिलती है । यह सबसे बड़ा tulsi ke fayde है ।

इस शरबत को बनाने के लिए कास – श्वास – मंजरी सहित तुलसी – पत्र 50g, अदरक 25g तथा कालीमिर्च 15g को 500ml पानी में मिलाकर काढ़ा बनाकर चौथाई शेष रहने पर छानकर तथा 10 ग्राम छोटी इलायची बीजों के महीन चूर्ण मिलाकर 200 ग्राम चीनी डालकर पकाएं जब एक तार की चाशनी बन जाने पर छानकर रख लें और इसका सेवन करें।

तुलसी पीलिया रोग के लिए फायदेमंद । Tulsi ke fayde piliya ke liye –

पीलिया में तुलसी का उपयोग-1 से 2 ग्राम पत्तियों को पीस लें और इसका रस छांछ में डालकर पी लें। या पत्तियों का काढ़ा बना कर लें। पीलिया जैसे रोग ठीक हो जाएंगे ।

मुँह में बदबू आने पर तुलसी के फायदे । Muh ki babdu aane par tulsi ke fayde –

Tulsi ke fayde मुंह की दुर्गंध से परेशानी हो तो 3 से 4 पत्तियाँ चबा लें। आप तुलसी के पानी में थोड़ी हल्दी और सेंधा नमक डाल कर कुल्ला करें। दुर्गंध दूर हो जाएगी। यह दांत दर्द, गले के संक्रमण रोकने में भी प्रभावी है ।

तुलसी के अन्य फायदे । More benefits of tulsi –

● कण्ठ रोगों में तुलसी के 5 से 6 मिली रस में शहद मिला कर चाट लें । कण्ठ के रोगों में फायदेमंद है।
● दस्त की समस्या होने पर तुलसी के काढ़े में 500 मिलीग्राम जायफल का चूर्ण मिला कर लेने से दस्त बंद हो जाते हैं।
● दांत दर्द हो तो कालीमिर्च के चूर्ण की तुलसी के रस से गोली बना लें दांत के नीचे दबाने से आराम मिलता है। हमारे आँगन में लगा यह पौधा औषधीय गुणों की खान (Tulsi ke fayde ) है। बहुत सारे Tulsi ke fayde है । ऑक्सीजन देने वाले इस पौधे का दैनिक जीवन में भरपूर उपयोग करें।

तुलसी के बीज के फायदे । Tulsi ke bij ke fayde –

तुलसी के बीज भी बहुत गुणकारी ( tulsi ke fayde ) हैं, तुलसी के बीजों में फ्लैवोनोइड्स और फेनोलिक शामिल होते हैं जो कि मानव के शरीर में प्रतिरक्षा प्रणाली को सुधारते हैं। तुलसी एंटी-ऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होती है जो कि शरीर में फ्री रेडिकल्स से होने वाले नुकसान से बचाती है। तो चलिए जानते हैं Benefits of tulsi seeds –

यौन रोगों के लिए – तुलसी के बीज यौन सम्बंधित रोगों के लिए बहुत लाभदायक है । पुरुषों में आई शारिरिक कमजोरी दूर होती है । इतना ही नहीं नपुंसकता जैसी प्रॉब्लम से छुटकारा मिलता है ।

अनियमित पीरियड्स के लिए – तुलसी के बीजो का नियमित सेवन से महिलाओं में होने वाली मासिक धर्म से जुड़ी प्रॉब्लम यानी अनियमित पीरियड्स से राहत मिलती है ।

कैंसर के लिए – तुलसी बहुत ही उपयोगी होते है जो कैंसर जैसी घातक बीमारी से लड़ने की क्षमता देते है । इनका नियमित सेवन इन रोगियों के लिए बहुत ही लाभदायक है ।

नीम, गिलोय एवं तुलसी के फायदे । Neem, Giloy, tulsi ke fayde –

आयुर्वेद के अनुसार नीम, गिलोय एवं तुलसी तीनो पौधे औषधीय गुणों से भरपूर है । इन तीनो का अलग अलग प्रभाव है जैसे तुलसी सर्दी जुकाम के लिए, नीम मलेरिया जैसे बुखार के लिए उपयोगी हैं तो गिलोय को इम्मयून सिस्टम को मजबूत करने वाली औषधि है । ये बात अलग है कि इनका स्वाद कड़वा होता है । इन तीनो में एन्टी डाइबिटीज के गुण पाएं जाते है । कोरोना काल में ( Covid – 19 ) इन तीनों का काढ़े के रूप में भरपूर इस्तेमाल हुआ तो चलिए जानते है –

Benefits of Neem Giloy Tulsi in hindi –

● नीम, गिलोय और तुलसी का सेवन करने से इम्युनिटी बूस्ट होती है यानी रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि होती है जिसे सर्दी-खांसी एवं जुकाम से राहत मिलती है ।

● मौसमी बुखार के लिए उपयोगी है । फ्लू ( वायरल फीवर ), डेंगू, मलेरिया जैसे प्रॉब्लम के लिए नीम, गिलोय एवं तुलसी राहत देने वाली होती है । ये तीनो ब्लड प्लेटलेट्स को बढ़ाने के लिए कारगर है । यही कारण है कि डॉक्टर्स भी इनके जूस पीने का मशवरा देते है ।

● इन तीनों ( नीम, गिलोय व तुलसी ) को एक साथ सेवन करने से पाचन तंत्र मजबूत होता है जिसे पेट से जुड़ी प्रॉब्लम का खात्मा होता है ।

● नीम, गिलोय व तुलसी के जूस या काढ़े के रूप में सेवन करने से डायबिटीज जैसी समस्या से निजात मिलती है ।
● गिलोय में एंटी-आर्थराइटिस, तुलसी में एंटी-एनाल्जिक एवं नीम में एंटी-इंफ्लेमेटरी के गुणों से भरपूर होते है । इन तीनों को एक साथ सेवन करने से जोड़ो का दर्द, गठिया जैसी समस्या से निजात मिलती है ।

● इन तीनो के मिश्रण से स्किन प्रॉब्लम, मोटापा एवं मानसिक तनाव से मुक्ति मिलती है । इनके बहुत फायदे के साथ साथ कुछ side effects भी होते जैसे एलर्जी, ब्लड शुगर कम होना एवं गर्भवती एवं धात्री महिला सेवन करने से परहेज़ करे ।

Benefit of tulsi seeds in hindi.

तुलसी ड्राप के फायदे । Tulsi drop ke fayde –

तुलसी के पत्ते एवं बीज की तरह तुलसी ड्राप भी बहुत उपयोगी ( tulsi ke fayde ) है । इनका नियमित इस्तेमाल से आपको चमत्कारी फायदे देखने को मिलेंगे । Tulsi ke fayde –

• तुलसी ड्राप के इस्तेमाल से जॉइन पेन ( जोड़ो के दर्द ) से राहत मिलेगी ।
• तुलसी के ड्रॉप के इस्तेमाल से ब्लड शुगर लेवल नियंत्रण में रहेगा ।
• इसी प्रकार दिल की बीमारी के लिए बहुत ही फायदेमंद है क्योंकि तुलसी खून को पतला करती है ।
• तुलसी ड्राप को पानी के साथ पीने से इम्युनिटी मजबूत होती है जिसे खाँसी, बुखार व जुकाम से राहत मिलती है ।

Tulsi ke nuksan । तुलसी के नुकसान । Side effects of tulsi –

तुलसी एक औषधीय गुणों से भरपूर पौधा है । इनका नियमित रूप से सेवन करने से जहां ( tulsi ke fayde ) बहुत सारे फायदे हैं वही अत्यधिक सेवन करने से नुकसान भी हो सकते है । इसलिए इनका सेवन लिमिट मात्रा में एवं चिकित्सा सलाह से करे या अधिक मात्रा में सेवन करने से बचे । तो चलिए जानते है side effects of tulsi –

दांतों को खराब करते है – कुछ लोग सुबह सुबह खाली पेट तुलसी के पत्तों को चबाते है लेकिन क्या आप जानते है तुलसी के पत्तों को अधिक चबाने से आपके दांत खराब हो सकते है ।

खून को पतला करता है – तुलसी एक ऐसा पौधा है जिनका अधिक मात्रा में सेवन करने पर आपके रक्त को पतला कर देता है । यदि आप किसी तरह की दवाई ले रहे है तो डॉक्टर की सलाह से तुलसी का सेवन करें ।

प्रजनन शक्ति को प्रभावित करती है – तुलसी का अधिक मात्रा में सेवन करने से आपकी प्रजजन शक्ति प्रभावित हो सकती है । यानी शुक्राणुओं की संख्या कम हो सकती है ।

गर्भवती महिलाओं के लिए नुकसानदायक – यदि आप गर्भवती हैं तो तुलसी का सेवन करने से परहेज करें या चिकित्सा सलाह से सेवन करें अन्यथा नुकसानदायक हो सकता है ।

Tulsi ke fayde nuksaan आपके लिए उपयोगी लेख साबित हुआ होगा । आप अपने विचार हमारे कमेंट बॉक्स में लिखे ।

FAQ

तुलसी का सेवन कैसे करें ?

तुलसी को तीन प्रकार से सेवन किया जा सकता है । जैसे काढ़ा बनाकर, तुलसी के पत्ते को बिना चबाये निगलना या पानी के साथ भी पिया जा सकता है । यदि आप पानी के साथ उलाबकर पीना चाहते है तो ढक्कन का प्रयोग करें । यदि आप चबाकर खाना चाहते है तो तत्काल कुल्ला करना न भूलें अन्यथा दाँत खराब हो सकते है ।

सुबह खाली पेट तुलसी के पत्ते खाने से क्या फायदे है ?

सुबह सुबह खाली पेट खाने से तुलसी के बहुत सारे फायदे हैं । जैसे पाचन क्रिया मजबूत होती है, डिप्रेशन से मुक्ति मिलती है, सर्दी जुकाम व बुखार से राहत मिलती है, मुँह की बदबू से निजात मिलती है, ब्लड शुगर कंट्रोल, स्किन का निखार एवं वजन नियंत्रित रहता है ।

तुलसी में कौन कौन से विटामिन पाए जाते हैं ?

औषधीय गुणों से भरपूर तुलसी पोषक तत्व प्रचुर मात्रा में पाये जाते है । इसमें विटामिन सी, ई एवं के भरपूर मात्रा में पाई जाती है । इसमे आयरन, एंटीऑक्सीडेंट भी पाई जाती है ।

तुलसी के पत्ते खाने से क्या नुकसान है ?

तुलसी के पत्ते को अधिक मात्रा में सेवन करने से दांतों की समस्या हो सकती है । खून पतला हो सकता या शुक्राणुओं की संख्या कम हो सकती है । क्योंकि इन पत्तों में आयरन अधिक होता है साथ ही कुछ मात्रा में आर्सेनिक भी होता है ।

तुलसी के पत्ते कितने खाने चाहिए ?

तुलसी को रामबाण औषधि माना गया है । इनका नियमित सेवन से आप हमेशा निरोगी रह सकते है । आप दीर्धायु के धनी हो सकते है । तुलसी का अधिकतम 5 पत्ते सेवन कर सकते है ।

तुलसी के पत्ते के क्या क्या फायदे हैं ? Tulsi ke fayde.

तुलसी का प्रत्येक हिस्सा उपयोगी है जैसे पत्ता, बीज आदि । तुलसी के पत्तों के सेवन से विभिन्न रोगों की रोकथाम सम्भव है जैसे ह्रदय रोग, लिवर रोग, पेट की बीमारियां एवं संक्रमणित रोगों से मुक्ति मिलती है ।

तुलसी की चाय पीने से क्या फायदा होता है ?

तुलसी की चाय ( Tea ) पीने से आपको चमत्कारिक परिणाम देखने को मिल सकता है विशेष रूप से मधुमेह रोगियों के लिए । तुलसी की चाय सेवन से इम्युनिटी बूस्ट होने के साथ साथ ब्लड शुगर लेवल भी कम हो जायेगा । यदि आप स्वस्थ हैं तो tulsi tea कम सेवन करें ।

तुलसी के पत्ते का रस पीने से क्या होता है ?

तुलसी के पत्ते का रस पीने से बहुत सारे फायदे होते है जैसे खून का शुद्धिकरण, पाचन शक्ति मजबूत होने से भूख बढ़ेगी, इम्मयून सिस्टम मजबूत होने से संक्रमणित रोगों से मुक्ति मिलती है । इनके अलावा ह्रदय रोग एवं पेट से जुड़ी बीमारियों से निजात मिलती है ।

तुलसी के पत्ते चेहरे पर कैसे लगाएं ?

tulsi ke fayde न केवल शरीर को रोगों से मुक्त के होते है बल्कि स्किन केअर के लिए भी कारगर होते है । तुलसी का फेस मास्क बनाकर उपयोग किया जा सकता है । जिसे रूखी त्वचा की प्रॉब्लम से निजात मिलेगी ।
फेस मास्क बनाने की विधि – 10 तुलसी के पत्ते, 2 चम्मच दही एवं एलोवेरा जेल । इन तीनों को मिलाकर पेस्ट बनाकर फेस मास्क लगाए एवं 15 मिनट के बाद उसे धोकर अच्छी तरीके से साफ कर ले । आपके चेहरे के निखार के लिए काफी है ।

तुलसी में क्या क्या गुण है ? Tulsi ke fayde.

तुलसी अनेको पोषक तत्वों से भरपूर होने के साथ साथ एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-एनाल्जिक के गुण पाए जाते है । जो आपके शरीर को विभिन्न रोगों से लड़ने में मदद करते है ।

तुलसी कौन सी अच्छी होती है ?

वैसे तो तुलसी दो प्रकार की होती है । रामा तुलसी एवं श्यामा तुलसी । रामा तुलसी ज्यादा हरी भरी होती है जबकि शयामा तुलसी श्याम वर्णी होती है यानी उनके हरे पत्ते में थोड़ा बहुत कालापन होता है । शयामा तुलसी सेहत की दृष्टि से सेहतमंद होती है ।

तुलसी ड्रॉप का क्या फायदा है ?

तुलसी ड्रॉप्स हमारे शरीर को अनेकों रोगों से लड़ने की क्षमता देता है जैसे लिवर, ह्रदय रोग, मधुमेह, सर्दी खाँसी, जुकाम, बुखार एवं पाचन शक्ति को स्ट्रांग करता है । साथ ही साथ जॉइंट पैन, स्किन केअर के लिए भी फायदेमंद है ।

क्या तुलसी का सेवन करना बच्चों के लिए फायदेमंद है ? Tulsi ke fayde for kids.

जी हाँ तुलसी का सेवन करना बच्चों के लिए भी फायदेमंद है । बदलते मौसम में बच्चों में होने वाली सर्दी-खांसी की बीमारियों को ठीक करने के लिए फायदेमंद है । मगर इनका चिकित्सा सलाह से करें ।

Leave a Comment