एड़ी फटने का कारण और उपचार । Fati ediyon ka ilaaj.

Fati ediyon ka ilaaj.

Fati ediyon ka ilaaj. शरीर के प्रत्येक अंगों की देखभाल करना बहुत आवश्यक है । एड़ियां भी उनमें से एक है । सर्वे के अनुसार मनुष्य अपने सारे शरीर के अंगों में पैरों की तरफ कम ध्यान देता है । और यही कारण होता है कि गंदगी की वजह से उसके एडियों में दरार आना शुरू हो जाती हैं । जब किसी की एडियाँ फटी होती हैं तो उसे मयूर की उपमा दी जाती है क्यूंकि मयूर का शरीर जितना खूबसूरत होता है उतने ही उसके पैर बदसूरत होते हैं ।

अधिकतर यह समस्या महिलाओं में ज्यादा देखने को मिलती है । ज्यादातर पुरुष पूरा दिन जूते मोज़े पहने रहते हैं परन्तु अधिकतर महिलाएं नंगे पैर ही काम करती हैं फिर वे मजदूरी करें, या खेती करें । अपने पैर सजाने ज्यादा से ज्यादा वे नाखून पोलिश लगा लेंगी परन्तु एडियों की तरफ ध्यान नहीं देतीं । यही वजह है कि एड़ियां फट ( Crack heel ) जाती है तो चलिए जानते है – Fati ediyon ka ilaaj. एड़ी फटने का कारण और उपचार ।

पढ़े – मेडरमा क्रीम कैसे इस्तेमाल करें । Mederma cream uses in hindi.

पैर की एड़ी फटने का कारण | cracked heel in hindi.

एड़ी कटने के कारण जानने पर उनका उपचार करना आसान हो जाता है । इन कारणों को मुख्य रूप से 4 भागो में बांटते है जो इस प्रकार है –

  1. कड़े फर्श पर कई घंटे तक खड़े रहना, अधिक पसीना आना, घुल मिटटी में लगातार कार्य करना आदि ।
  2. खुली एड़ी वाले जूते, चप्पल या सेंडिल पहनना या बिना मोज़े के जूते पहनना । इसी प्रकार गर्मी या सर्दी में नंगे पांव घूमना आदि ।
  3. एड़िया फटने के कई कारण होते है लेकिन किसी गम्भीर बीमारी से पीड़ित होना भी एक कारण है । जिससे विटामिन एवं अन्य पोषक तत्वों की कमी हो जाती हैं । इन बीमारियों में मोटापा या वज़न का बढना, आर्थिराइटिस होना, एथलीट पैर का होना, ड्राई स्किन या त्वचा रोग से पीड़ित होना, फंगल इन्फेकशन होना, एकजिमा होना, एड़ी को बार बार खुजाना व हाइपोथाइराइड का होना आदि ।
  4. एड़िया फटने का कारण विटामिन की कमी जैसे – विटामिन डी, विटामिन बी 12, विटामिन ई आदि । इसके अलावा कैल्शियम एवं मैग्नेशियम की कमी के कारण भी एड़ियो का फटना आम हैं ।

पढ़े – अश्वशक्ति पाउडर के फायदे नुकसान । Ashwashakti powder ke fayde.

फटी एडियों के लिए घरेलू नुस्ख़ा । Fati ediyon ka ilaaj.

एडियों में दर्द से कई बार चलना मुश्किल हो जाता है । इस दर्द को हम घरेलू उपचार से दूर कर सकते हैं

  1. नहाते समय एड़ी को पुराने टूथ ब्रश से साफ कर लें ।
  2. गुनगुने पानी से एड़ी को साफ कर उस पर पेट्रोलियम जेली लगाकर मोज़े पहने ।
  3. एड़ी को साफ कर उसपर वेसलीन जेली लगाकर मोज़े पहन लें ।
  4. नीम की हरी पत्तियों का बारीक़ पेस्ट बनाना है । इसमें थोड़ी हल्दी डालकर उसे एड़ी पर लगाकर मालिश करें ।
  5. एक छोटे प्याज़ को कद्दूकस बनाकर इसे निचोड़ कर इसके रस को एड़ी पर लगा कर मालिश करें ।
  6. रात को सोते समय एड़ी पर बोरोलीन क्रीम लगाकर मालिश करें । पढ़े – ( बोरोलीन क्रीम के फायदे )
  7. सरसों का तेल नहाते समय एडी पर लगाइये फिर गर्म पानी से उसे धो डालिये ।
  8. आधा पका केला लेना है । उसका गुडा निकाल कर उसे मसलना है । अब उसे एड़ी पर दो से तीन मिनट लगाने से फायदा होगा ।
  9. प्यूमिक स्टोन से रोज धीरे धीरे एड़ी को साफ करना है ।
    दिन में कम से कम चार से पाँच बार एड़ी साफ करना है । उसमें मॉइश्चराजर लगाकर मोज़े पहने रखें ।
  10. संतरे के छिलके को एड़ी पर रगड़ने से भी एड़ी साफ हो जाती है ।
  11. ककड़ी, गिलकी, लौकी, करेले के छिलकों को एड़ी पर हल्के हाथ से रगड़िये । अब पानी से साफ करें । एड़ी को पूरी तरह सुखाकर उसपर थोड़ा सा घी लगाकर मोज़े पहन लेने हैं ।

1. शहद ( Honey )

शहद जो कि एंटी माइक्रोबियल, एंटी इंफ़लेमेटरी, एंटी बैकटिरियल और एंटीफंगल की खदान होता है उसे एड़ी पर लगाकर मसाज करना । इनका उपयोग नियमित रूप से करने पर पैरो की एड़ियो को सुंदर बनाया जा सकता है ।

शहद के साथ अन्य तेल जैसे ऑलिव ऑयल, नारियल आदि को मिलाकर सुबह शाम एड़ियो पर मसाज करके बेहतर परिणाम प्राप्त किया जा सकता है । इनका उपयोग रात में करे तो बेहतर है ।

पढ़े – रातोंरात गोरा होने के उपाय । Skin whitening tips in hindi.

2. एवियन कैप्सूल । Evion Capsule

Evion capsule विटामिन ई का मुख्य स्रोत होता है । विटामिन ई स्किन के लिए फायदेमंद होती है । 2 इवियान कैप्सूल लेना है । इसमें सेफ्टीपिन से छेड़ करना है । उसके अंदर कि दवाई को कटोरी में निकलना है । इससे एड़ी पर दिन में कम से कम तीन से चार बार मसाज करना है ।

ऐसा करने से पैरों की दरारे जल्दी भरती है । एवं फ़टी एड़ियों के घाव जल्दी भरते हैं । इनका नियमित रूप इस्तेमाल करना लाभकारी होता है ।

3. मोमबत्ती ( Mombatti )

फ़टी एड़ियों एवं पैरो की दरारों को भरने के लिए मोमबत्ती एक रामबाण दवा के रूप में कार्य करती है । इनका इस्तेमाल करना फ़टी एड़ियों के लिए फायदेमंद होता है । इनके लिए सबसे पहले 1 मीडियम साइज की मोमबत्ती लेना है । इसे चाकू से एक कटोरे में छीलना है । अब इस कटोरे को गैस पर पिघलाना है । और इसे एड़ी की दरारों में भरना है । कुछ समय बाद पैरो को गुनगुने पानी से धो लें । याद रहे कि इनका उपयोग रात के समय करें तो बेहतर परिणाम मिल सकते हैं ।

4. नारियल तेल ( Coconut oil )

नारियल तेल भी फ़टी एड़ियो के लिए रामबाण औषधि की तरह काम करता है । इनका उपयोग आप कभी भी कर सकते है इसी प्रकार नहाने के बाद और रात को सोने से पहले एड़ी को खोपरे या नारियल के तेल से मसाज करने पैरो की दरारे भर जाती हैं ।

इसी प्रकार दो चम्मच नारियल तेल को गर्म करते समय एक गोली कपूर की डाल कर ठंडा होने पर एड़ी की मालिश करे । ऐसा करने से फ़टी एडियों रातोंरात ठीक हो जाती हैं ।

5. दूध की मलाई ( Dudh malai )

आधा बाल्टी गुनगुना पानी लें । इसमें आधा चम्मच शेम्पू डालें । अपनी एड़ी को 7 मिनट डुबाकर रखें । उसके बाद पुराने सूती कपड़े से अपनी एडी को हल्के हाथों से रगड़ना है । फिर दूसरी बाल्टी में साफ पानी लें l अब इसमें एड़ी को वापस से साफ करें । बाहर निकलकर पूरी तरह पोंछ लें । अब दूध की आधा चम्मच मलाई लें । उसे फेंट लें फिर उसे एड़ी पर लगाकर मसाज करें अब मोज़े पहन लें ।

6. एलोवेरा ( Aloe vara )

एलोवेरा का पेड़ घर में लगा होतो उसका एक टुकड़ा तोड़ लें । उसे छील लें और उसके जेल को एड़ी पर लगाकर मसाज करें और मोज़े पहन लें । यदि एलोवीरा का पेड़ नहीं हो तो एलोवीरा क्रीम को बाजार से खरीद कर उसे एड़ी पर लगाए । इसे आपको दिन में दो बार करना है ।

पढ़े – एलोवेरा से ब्रैस्ट कैसे बढ़ाएं । Aloevera for breast growing in hindi.

7. जैतून के तेल से फ़टी एड़ियो का इलाज । olive oil se Fati ediyon ka ilaaj.

जैतून तेल फ़टी एड़ियो के लिए कारगर होता है । यह डेढ़ स्किन को हटाने के साथ साथ ऊतकों की मरम्मत करता है । अकेले इस तेल का उपयोग एड़ियो के लिए किया जा सकता हैं । लेकिन यदि आप तेल के तेल एवं शहद के साथ मिलाकर इस्तेमाल करते हैं तो यह ओर प्रभावशाली परिणाम दे सकता है ।

इनका नियमित रूप से इस्तेमाल करने पर फ़टी हुई एड़ी की दरारे जल्दी भरेंगी और यह पैरो की एड़ियों को सुंदर बनाने में सबसे अच्छे विकल्पों में से एक है ।

8. चावल से फ़टी एड़ियो का घरेलू उपाय । Fati ediyon ka ilaaj.

2 कटोरी चावल लेकर उसे बारीक़ पीस कर रखना है । इस पाउडर को 2 चम्मच लेना है । इसमें 1 चौथाई चम्मच हल्दी डालना है । अब इसमें 1 नीम्बू का रस मिलाकर पेस्ट तैयार करने है । ये आपका स्क्रबर तैयार हो गया । अब इसे सुबह शाम एडी पर लगाकर हल्के हाथ से स्क्रब करना है । इसे 5 – 7 दिन तक लगातार सुबह शाम करना है ।

फ़टी एड़ियो का आयुर्वेदिक इलाज । Fati ediyon ka ilaaj Ayurvedic.

आयुर्वेद में फटी एड़ी को वाटकणक कहते हैं । आयुर्वेद कहता हैं कि जब शरीर में वात और कफ की समस्या बढ़ती हैं तो एड़ी का फटना शुरू हो जाता है ।

आयुर्वेद में हर्बल औषधि का इस्तेमाल ज्यादा होता है । पिण्डा तेल, शतघौताघृत, सारीबाद्यासब, चंदनासब, फल, खीरा, लौकी वस्तुएं आदि औषधि के रूप में ली जाती हैं ।

पढ़े – इज़ोल टॉनिक के फायदे । Eazol health tonic uses in hindi.

फटी एड़ी की समस्या में खानपान एवं सावधानी

फ़टी एड़ियो के लिए खानपान की ध्यान रखने की आवश्यकता होती है । इनके लिए भोजन में आंवला, संतरा और नीम्बू रोज खाना है । रोजाना पर्याप्त मात्रा पानी पीएं । अगर सम्भव हो तो नारियल पानी का सेवन करें ।

इसी प्रकार हरी सब्जियाँ जैसे पालक, मेथी आदि का सेवन करें । इसी प्रकार पनीर, अंडे, दूध, दही, नट्स, घी एवं माखन का नियमित रूप से सेवन करें ।

इसी प्रकार तले भुने एवं कड़वे फल जैसे करेला आदि का सेवन करने से परहेज करें ।

एड़ी ना फ़टे इसके लिए कुछ बातें याद रखना जरूरी है ?

  • पैरों में हमेशा चप्पल या जूते पहने रखना है ।
  • बिना मोज़े के जूते नहीं पहनना है ।
  • एडियों को दिन में 2 बार एड़ी साफ रखना जरूरी है ।
  • पूरे समय एड़ी को मॉइस्चर या तेल या क्रीम या मलाई रखना बहुत जरूरी है ।
  • पैरों को आराम देने वाले जूते पहनें ।
  • धूल और मिट्टी से एड़ी को बचाए रखें ।
  • रोज अपने तलपैर की मालिश करें ।
  • बहुत ज्यादा समय तक नहीं खडे रहें । इस तरह आप इन सभी नुस्खों से अपनी फटी एडियों को खूबसूरत बना सकते है ।

अंतिम शब्द – एड़ियां पैरों की शान होती हैं । इसलिए आवश्यक है कि नियमित रूप से एड़ी की देखभाल करें । नहाने के बाद तिल या जैतून के तेल से मालिश करें । गर्मी या सर्दी में नंगे पांव न घूमे । हमेशा जूते या चप्पल पहनकर बाहर निकलें ।। मंजिरी ‘निधि’ ।।

Leave a Comment