नींद की गोली कितने घंटे असर करती है – जाने फायदे व नुकसान

nind ki goli kitane ghante tak.

नींद की गोली कितने घंटे असर करती है । पर्याप्त नींद Healthy life के लिए सबसे अहम व अनिवार्य शर्त है । मगर बदलती हुई लाइफ स्टाइल के कारण नींद की कमी महसूस कर रहे है । इनका सबसे बड़ा कारण मानसिक रूप तनाव, चिंता हो सकता हैं । हालांकि कुछ अन्य कारण भी हो सकते हैं । एक शोध के अनुसार तनाव के कारण अधिकतर लोग नहीं ले पाते हैं । आज हर पाँचवा व्यक्ति नींद की कमी का शिकार है ।

एक्सपर्ट के अनुसार लगातार नींद कम लेने से मानसिक असंतुलन, डिप्रेशन, ब्लड प्रेशर असंतुलन, कमजोर मानसिकता का शिकार हो सकते हैं । इनसे बचने के लिए जीवन शैली मे बदलाव करके सुकून से जिया जा सकता हैं । इनके अलावा नींद की गोली का सेवन किया जा सकता हैं । ये टेबलेट कुछ समय मे अपना असर दिखाती हैं । मगर सावधान !! इन गोली की लत लग सकती हैं । या अधिक डोज़ लेने चिर निंद्रा भी आ सकती है ।

नींद की गोली आपको गहरी नींद जरूर देती है । इनका सेवन करने से पहले योग्य डॉक्टर से परामर्श करके उम्र व लिंग के अनुसार डोज़ को भी निर्धारित करे । तो चलिए जानते हैं – नींद की गोली कितने घंटे असर करती है –

पढ़े – लिंग खड़ा करने की गोली का नाम, टेबलेट, कैप्सूल व दवा

नींद की टेबलेट का नाम

गहरी नींद की टेबलेट रूप से हिप्नॉटिक्स के रूप में भी जानी जाती हैं। लेकिन, मौजूदा बाजार में कई प्रकार की गहरी नींद की गोलियां मौजूद हैं, जिसमें से कुछ जनेरिक नाम इसमें बेंजोडियाजेपीन (Benzodiazepine) के संबंधित दवाएं शामिल हो सकती हैं। दर्न, झपकी लगाने की बाधाएं, और शरीर के उपयोगकर्ता द्वारा दर्ज किए गए अन्य लक्षण सामान्य होते हैं। कुछ झपकी कराने वाली गोली – इसमें तारांत्रिक (CNS) को यादृच्छिक तरीके से विचार बनाने (indles) वाली दवाएं हो सकती हैं। तो चलिए जानते हैं – नींद की टेबलेट के नाम –

  • निटरेस्ट 10 ( Nitrest 10)
  • डोक्सेपिन 25mg कैप्सूल ( Doxepin 25mg Capsule)
  • फुल्नाइट 1 एमजी ( Fulnite 1 mg)
  • जस्टस्लीप 1mg टेबलेट ( Justsleep 1mg)
  • सिडोपिन 25mg ( Sidopin 25mg)
  • एसेंट्रा 1mg टेबलेट ( Esentra 1mg Tablet)
  • ज़ेनड्रिल 25mg ( Zendryl 25mg)

अनुदानित मेडिकल लेख या एक चिकित्सा विशेषज्ञ को संपर्क करना जीवनशैली, स्वास्थ्य और रिसर्च करके यहां प्रभाव की गहरी नींद की गोलियों का उपयोग करें।

पढ़े – पेनिस मे तनाव की दवा Ayurvedic. लिंगवर्धक देसी व घरेलु उपाय

नींद की गोली कितने घंटे असर करती हैं ?

नींद की टेबलेट का असर व्यक्ति की शारीरिक स्थिति, age और इन्द्रिय आवश्यकताओं पर निर्भर करता है । यह अवधि व्यक्ति की शरीरिक प्रतिस्पर्धा, ढंग से नींद आने की क्षमता और दवा के खुराक के आधार पर भी बदल सकती है। इसलिए, आपको किसी चिकित्सक या विशेषज्ञ से सलाह लेनी चाहिए जो आपके स्वास्थ्य पर विचार कर सकता है।

नींद की गोली के असर का समय इंसान के शरीर के लिए भिन्न हो सकता है और इस पर इंटरवल वाले भी भिन्न हो सकते हैं. कुछ लोगों को नींद की गोली का असर तुरंत हो जाता है और वे जल्दी सो जाते हैं, जबकि दूसरे लोगों को थोड़ा समय लगता है ताकि यह इंगेस्ट हों सके और असर कर सके ।

एक सामान्य नींद की गोली का असर 6 से 8 घंटे तक रह सकता है, जो किसी भी व्यक्ति को प्रभावित करता है । यह अर्शितर्कित होना चाहिए कि प्रत्येक व्यक्ति का अनुभव अलग हो सकता है और नींदी दवाओं के सामर्थ्य और असर के बारे में एक चिकित्सा विशेषज्ञ से परामर्श किया जाना चाहिए ।

पढ़े – बच्चों के बोलने की होम्योपेथिक दवा व घरेलु उपाय

नींद की गोली कितने घंटे बाद असर करती हैं –

इस गोली का असर व्यक्ति के शरीर और दवा के प्रकार व खुराक की मात्रा पर निर्भर करेगा। कुछ Tablets जल्दी कार्य नहीं कर पाती हैं, जबकि अन्य गोली थोड़ी देर में ही काम करना शुरू कर देती हैं। इसलिए, व्यक्ति की पूर्ण रिकवरी और गोली के प्रभाव के खत्म हो जाने के बारे में सटीक जानकारी के लिए एक चिकित्सक से परामर्श लेना बेहतर होगा।

सामान्यतः, नींद की गोली के असर का समय गोली के संबंधित दवा के साथ उपभोगित बाद का हो सकता है, जो कि कुछ घंटों या कई घंटों तक चल सकता है। इसके अलावा, क्या आपको किसी बात की चिंता है जो नींद की गोली लेने के बाद उपस्थित हो सकती है, या आपने एक विशेष दवा की बात कर रहे हैं, तो चिकित्सक से परामर्श लेना अच्छा राय हो सकता है।

पढ़े  – महिला की जोश की दवा का नाम प्राइस – 5 असरकारी दवा

नींद की गोली खाने के फायदे

नींद की गोली खाने के दुष्प्रभाव भी बहुत है । वही कुछ बेनिफिट्स भी है जो इस प्रकार से है –

  • सुखी और बेहतर नींद – नींद की दवा लेने से आपको अधिक सुन्दर और निर्मल नींद प्राप्त हो सकती है। इससे आपका शरीर अवकाश करता है और नींद के लिए सुस्त और शांत माहौल बनाता है।
  • दिनभर की थकान का निवारण – यदि आपको रात में अच्छी नींद नहीं मिलती है तो दिनभर की थकान आपको महसूस हो सकती है। नींद की गोली लेने से आपके शरीर और मस्तिष्क को योग्य समय मिलता है जो उन्हें आराम करने का अवसर देता है। इससे आपकी थकान कम होती है और आप दिनभर अधिक चुस्त और सक्रिय हो सकते हैं।
  • मनोदौष्यों को नियंत्रित करना – नींद की गोली काले संदर्भ में मनोवैज्ञानिकों और चिकित्सकों द्वारा अभिनय किये जाने वाले अत्यंत उपयोगी साबित होती है। यह मस्तिष्क की गतिविधियों को नियंत्रित करने में मदद करती है, जिससे आपकी मानसिक स्थिति में सुधार हो सकती है।
  • सटीकता और ध्यान केंद्रशीलता में सुधार – समय-समय पर नींद की कमी से ध्यान, समझबूझ और सटीकता में कमी हो सकती है। नींद की गोली लेने से आपकी मानसिक स्थिति में सुधार हो सकता है और आप अधिक व्यवस्थापन और कार्य प्रदर्शन कर सकते हैं।
  • रोगों के इलाज में मदद – कुछ रोग और चिकित्सा स्थानकों में, नींद की गोली का उपयोग इलाज का हिस्सा हो सकता है। इससे अवरोधक नींद और चिंता की परेशानियों को कम किया जा सकता है, जो किसी व्यक्ति के अच्छे स्वास्थ्य के लिए आवश्यक होते हैं।

ध्यान दें कि नींद की गोलियों का अधिक उपयोग या अनुचित उपयोग नकारात्मक प्रभाव प्रदान कर सकता है। यही कारण है कि इन दवाओं का उपयोग करने से पहले एक चिकित्सक से सलाह लेना बेहतर होगा।

नींद की गोली से नुकसान –

नींद की गोली सामान्यतया असारकारी रूप से मस्तिष्क पर प्रभाव डालती है, जो कि नींद को प्राप्त करने में मदद करता है। हालांकि, कई चिंता करने वाले तत्वों के एक संयोग के कारण नींद की गोली लेने से नुकसान भी हो सकता है। कुछ नुकसान नीचे सूचित किए गए हैं –

  • नींदपूर्ण तथा रूका-चुका नींद के बावजूद अनेक घंटे तक सुस्ती या नींदग्रस्ती का हो जाना।
  • अनुपयुक्त उच्च जिन्सों के सेवन के कारण सुस्ती और तनाव का बढ़ना।
  • नींद के अस्तित्व में सामान्य परिवर्तन जैसे कि गहरी REM नींद की कमी, जो भयानक सपने, झूलन या विश्रांति के साथ ठीक तरह से नहीं हो सकता है।
  • जैसे कि इंसोम्निया, घबराहट, दिमागी संकट, मस्तिष्कीय हलचल के आक्रमण, हाईपरएक्टिविटी या सामाजिक खराबी, भ्रम, संप्रेक्षित बातचीत में कोठे जो ठीक से नहीं हो सकती, सामान्य स्मृति कम होना डर, नितंबी लक्ष्य के साथ-अनन्तता, ध्यान कम अवधि, कमजोर निर्धारित और निपटाते।

यह इस सूची में उचित नहीं हैं कि नींद की गोली के सभी उपयोग में सामान्य संयोग देखा जाता है, समयों-समयों परिणामों में एक या अधिक बदलाव हो सकते हैं। इसलिए, नींद की गोली लेने से पहले हमेशा एक चिकित्सा द्वारा सलाह लेनी चाहिए, और सबसे अधिक उचित खुराक और समयखंड संबंधी निर्देशों का पालन करें ।

अंतिम शब्द – नींद की टेबलेट गहरी नींद लेने का एक अंतिम विकल्प है । इसलिए इनका उपयोग करने से पहले योग्य डॉक्टर से परामर्श करना आवश्यक समझे । वही समय पर संतुलित आहार, योग – व्यायाम करना आवश्यक समझे । इस लेख का मूल उद्देश्य केवल शैक्षणिक है ।

Leave a Comment

Share via
Copy link