पेनिस में तनाव की दवा Ayurvedic. 5 लिंगवर्धक देसी एवं घरेलू उपचार

लिंग में तनाव की दवा आयुर्वेदिक

पेनिस में तनाव की दवा Ayurvedic. आम तौर पर 50 – 60 वर्ष की आयु के पुरुषों में लिंग में तनाव की पाई होती थी लेकिन मात्रा 30 – 40 वर्ष की आयु के पुरुषों में यह माप आंकी गई है। किशोरावस्था के साथ-साथ लिंग का बढ़ना, कठोरता की कमी, खड़ा होना न होना जैसे कि मोटापा आम हैं। इरेक्शन के बारे में जानकारी से पहले जानते है इरेक्शन कैसे होता है ?

इरेक्शन होने के लिए सामान्य रूप से हमारे शरीर में 5 महत्वपूर्ण केंद्र हैं, ऐसे में एकजुटता के तरीके से काम करना जरूरी हैतो यह हमारे नर्वस सिस्टम का विशेष रूप से उपयोग करता है पर पेनेराथिंसिस नर्वस सिस्टम को केवल ओब्लाडोलेट करता है जिसकी वजह से हमारे लिंग मे पिनाईस शुरुआत में खून का प्रभाव तेजी से होता है। जिसे लिंग मे इरेक्शन होता है । और यदि खून का प्रवाह कम हो जाता है। तो लिंग मे टिश्यु मे से कोई एक कमजोर हो जाता है। जिससे तनाव मे कमी होती हैं । तो चलिए जानते हैं –

पढ़ें –  बैद्यनाथ कंपनी की दवा Shighrapatan.

लिंग में तनाव की कमी के कारण। लिंग में ढीलापन के कारण –

लिंग में तनाव की कमी या सुधार के कई कारण हो सकते हैं। लेकिन मुख्य रूप से बढ़ती उम्र भी एक बड़ा खतरा होता है। शरीर के गुप्तांगों की देखभाल न करने से गुप्तांगों की क्षमता में कमी हो सकती है। तो जानिए क्या कारण है –

  • आयु बढ़ने के साथ-साथ नपुंसकता बढ़ने की संभावना बढ़ती है।
  • मधुमेह, उच्च रक्तचाप, उच्च रक्तचाप, हृदय की समस्या आदि जैसे गंभीर रोग।
  • हाईपर का लक्षण है । मुख्य रूप से फोबिया या कोई पेंट्री डिसीज जो मौजूद है । उसमें भी नपुंसकता होने की संभावना जताई जा रही है।
  • वजन का असंतुलन यानि कि मोटापे के कारण भी पेनिस में तनाव की कमी हो सकती है।
  • धूम्रपान (क्रोनिक धूम्रपान) और शराब (क्रोनिक अल्कोहल) के सेवन से इरेक्‍टाइल डिसफंक्शन का खतरा बढ़ जाता है।
  • वह इंसान जो कि, किसी कारण से अवसाद (डिप्रेशन) या चिंता के कारण पेनिस में तनाव की कमी का खतरा बढ़ सकता है।
  • कुछ दवाओं के साइड इफेक्ट्स के कारण भी इरेक्‍टाइल डिसफंक्शन की दवा का आकलन किया जाता है।

पेनिस में तनाव की दवा Ayurvedic.

आयुर्वेद के अनुसार पेनिस में तनाव या सुधार दूर करने के लिए मालिश का सेवन करने के साथ-साथ योगासन पर ध्यान देना चाहिए। इतना ही नहीं तनाव से दूर रहना, धूम्रपान से इस्तीफा देना चाहिए।

इन औषधियों का सेवन करने से लिंग (लिंग) की मांशपेशियों और नसों में रक्त संचार बढ़ता है। जिससे लिंग जल्दी जल्दी खराब हो जाता है। कौन से लिंग में इरेक्शन की दूरी होती है तो जानें – Penis me tanav ki dawa आयुर्वेदिक.

पढ़ें- नामर्दी की दवा – पतंजलि में नामर्दी की दवा.

शतावरी ( शतावरी ) – पेनिस में तनाव की दवा Ayurvedic.

शतावरी एक आयुर्वेदिक औषधि है। इसे 100 वैकल्पिक औषधियों के नाम से जाना जाता है। रामबाण औषधि केवल महिलाओं के लिए नहीं बल्कि पुरुषों के लिए है। यह पुरुषों में होने वाली लैंगिक प्रॉब्लम जैसे पेनिस में तनाव की कमी, तनाव की कमी, टेस्टोस्टेरोन हार्मोन की कमी, कामेच्छा की कमी जैसी कई दवाओं के लिए है। पढ़ें – महिलाओं के लिए शतावरी के फायदे

शतावरी से निर्मित कई प्रकार की दवाएँ बाजार में उपलब्ध हैं जैसे शतावरी पाउडर, शतावरी टेबलेट, शतावरी केक्स आदि। इसका उपयोग गुणगुणे दूध के साथ किया जा सकता है। या चिकित्सा की सलाह से कर सकते हैं। इनका कोई साइड इफेक्ट नहीं है फिर भी अधिक खुराक का सेवन न करें।

जिनसेंग ( Ginseng ) – पेनिस में तनाव की दवा Ayurvedic.

यह एक ऐसा हर्ब है जो सेंट्रल नर्वस सिस्टम को टिकाऊ बनाता है। एटिनॉइनसाइड नामक तत्व में जो पेनिस की नसों में रक्त संचार की प्राप्ति होती है। जिससे लिंग का आकार बढ़ जाता है। पेनिस की नसों और रक्त वाहिकाओं को प्रदर्शित किया जाता है जिससे न केवल पेनिस की संरचनाएं पूरी तरह से सख्त और कठोर बनती हैं।

एक शोध में यह तथ्य सामने आया कि लगातार 7 दिनों तक सेवन करने से पेनिस में जान आ जाती है। यह लिंग में तीव्रता बढ़ाने वाला है। बाज़ार में यह टेबलेट के रूप में उपलब्ध है। इस बात का ध्यान रखें कि यह टेबलेट कोरियाई जिनसेंग के रूप मे भी उपलब्ध है। यहां इस बात का भी ध्यान रखें कि एक दिन में एक से ज्यादा टेबलेट का सेवन न करें, नहीं तो हो सकते हैं साइड इफेक्ट्स। इनका सेवन चिकित्सा सलाह से करें तो बेहतर है।

सफ़ेद मूसली – लिंग में तनाव की आयुर्वेदिक दवा –

लिंग को मोटा करने के लिए नेचर ने कई सारे नुस्खे बताए जिनमें से सफेद मूसली भी एक है। इनके नियमित उपयोग से लिंग में रक्त प्रवाह को आसानी से बढ़ाया जा सकता है। इतना ही नहीं यह लिंग में इरेक्शन शुरू करने, सख्ती से खड़ा करने, टाइमिंग बढ़ाने के लिए कारर है।

बाजार में सफेद मूसली से बने कई प्रकार के उत्पाद विभिन्न प्रकार के ब्रांडो में उपलब्ध हैं। जैसे सफेद मूसली पाउडर, सफेद मूसली केश, टेबलेट आदि। इसका उपयोग वैध की सलाह से करें। इनके सेवन के बारे में दी गई जानकारी के अनुसार दूध या गर्म पानी के साथ का सेवन करें। इनका कोई भी दुष्प्रभाव नहीं है फिर भी अधिक मात्रा में सेवन न करें।

पढ़ें-  पतंजलि पेनिस तेल – Patanjali ling vardhak oil.

गिन्को बिलोबा ( Ginkgo biloba ) नपुंसकता की रामबाण दवा –

यह एक ऐसी औषधि है जो लिंग की औषधियों में रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ाती है। यह दवा नपुंसक एवं लिंग की कठोरता की कमी को दूर करने वाली एक रामबाण दवा है। इसके अलावा पेनिस की कमजोरी दूर करके सीधा खड़ा करने के लिए वैल्युएबल है।

इसका कोई दुष्प्रभाव नहीं है फिर भी अधिक मात्रा में इसका सेवन न करें। बाज़ार में पाउडर और टैबलेट के रूप में उपलब्ध है। इनका सेवन चाय के साथ किया जा सकता है। लेकिन इस बात का विशेष ध्यान रखें कि यदि आप उच्च रक्तचाप या हृदय रोग की दवाओं का सेवन कर रहे हैं तो डॉक्टर की सलाह से सेवन करें अन्यथा नुकसान हो सकता है।

लिंग में तनाव की दवा आयुर्वेदिक Tablet.

स्तंभन दोष की औषधि के रूप में आयुर्वेद ने कई औषधियों के बारे में बताया है जैसे – शिलाजीत, अश्वगंधा, सफेद मूसली, कौंच के बीज आदि । इन हिट दवाओं का परीक्षण एवं शोधन करके विभिन्न ब्रांडों ने कई प्रकार की गोलियाँ, पाउडर, पाउडर, कैप्सूल आदि का निर्माण किया है। जो विभिन्न प्रकार के यौन विकारों के लिए है। तो जानें – पेनिस में तनाव की औषधि के बारे में –

  • कौच के बीज (Kauch ke beez)
  • बिग जैक कैप्सूल ( बिग जैक कैप्सूल )
  • कामराज बूटी (Kamaraj Buti)
  • अश्वशिला कैप्सूल (अश्वशिला कैप्सूल)
  • शिलाजीत कैप्सूल _
  • अश्वगंधा कैप्सूल (अश्वगंधा कैप्सूल)

इन का उपयोग कैप्सूल वैध की सलाह के अनुसार करें। एवं उनकी अधिक खुराक का सेवन करने से भी सहभागी बनें।

लिंग में तनाव की दवा desi –

लिंग में तनाव की कमी होना पुरुषों के लिए एक आम प्रॉब्लम हैं। अंतिम रूप से सामने आया यह नाक का सवाल। लेकिन बचपन की उम्र या अन्य किसी भी कारण से लिंग मे तनाव की कमी हो जाती है। समाधान के रूप में कुछ देसी उपचार हैं जिन्हें आप आसानी से कर सकते हैं जैसे –

  • उड़द दाल का सेवन करें – आयुर्वेद के अनुसार उड़द दाल का सेवन उपयोगी है। यह न केवल धात रोग के लिए उपयोगी है बल्कि पेनिस में तीव्रता बढ़ाने में सहायक है। इसका उपयोग सप्ताह में एक बार दूध के साथ कर सकते हैं।
  • लहसुन और प्याज का सेवन करें – इन दोनो का उपयोग आम तौर पर इनका उपयोग रोजमर्रा की दुकानों में किया जाता है। यह एक तीव्रता बढ़ाने वाली एवं दिल को स्वस्थ रखने वाली दवा है।
  • रोजाना कम से कम 2 केला का सेवन – आयुर्वेद के केले का सेवन करने से सेक्सुअल कमजोरी दूर होती है। इसमें मौजूद तत्व लिंग में तीव्रता बढ़ाने में सहायक है। इनका सेवन नियमित रूप से 2 केला प्रातः अवश्य करें।
  • हमारे शरीर में जिंक की कमी होने का मतलब – हमारे शरीर में जिंक रिच फ़ूड को दे स्थान दे । यह एक रामबाण औषधि है। इन फ़ूड जैसे अखरोट, काजू, आदि का सेवन करें।

इसके अलावा पोमोन और खजूर भी उपयोगी है। इनका उपयोग दूध के साथ करें। ध्यान रखें कि इनका उपयोग अधिक मात्रा में करें। वही हरी सलाद और फलों का सेवन भी पर्याप्त मात्रा में करें।

पढ़ें –   जल्दी मुक्ति के लिए हिमालय की दवा

पेनिस या लिंग मोटा और बड़ा करने के घरेलू उपाय। Ling ki size Badhane ke gharelu upay.

यदि आप किसी प्रकार की यौन दुर्बलता की समस्या से परेशान हैं तो सबसे पहले आपको प्राथमिक उपचार या अपनी जीवन शैली पर ध्यान देना होगा। यानी आप अपनी जीवनशैली में बदलाव लाकर इन मांसपेशियों से बचा सकते हैं तो जानें – पेनिस में तनाव का घरेलू उपाय –

  • बिहेवियर थेरेपी इस मे अगर आपका वजन ज्यादा है तो मोटापा कम करे।
  • अगर आप धूम्रपान के आदी हैं तो इसे तुरंत छोड़ दें।
  • यदि आप मधुमेह, हाइपरटेंशन के मरीज हैं तो नियंत्रण करें।
  • यदि औषधियों के दुष्प्रभाव या यौन औषधियों का उपयोग किया जा रहा है तो सीमित मात्रा में करें।
  • नियमित रूप से व्यायाम करें जैसे तेज कदमों से चलना, किंग व्यायाम, अश्वनी मुद्रा आदि।
  • यदि यह उपचार रोगी पर काम नहीं करता है तो लिंग प्रत्यारोपण की सलाह भी ली जा सकती है।
  • अगर जब भी आपको इरेक्शन से जुड़ी कोई समस्या हो तो बिल्कुल ना हिचकिचाएं समय पर ही अपने न्यूरोलॉजिस्ट मनोवैज्ञानिक से मिलें।

अंतिम शब्द – आज के लेख (पेनिस मी तनव की दवा आयुर्वेदिक) में बताई गई जानकारी आयुर्वेद के अनुसार हैं। इसके उपयोग से पहले किसी भी उपयुक्त वैध के साथ परामर्श करें।

5 thoughts on “पेनिस में तनाव की दवा Ayurvedic. 5 लिंगवर्धक देसी एवं घरेलू उपचार”

  1. हमारी उम्र 55 साल है लिंग में कठोर पन खत्म हो चुका है उसके लिए आयुर्वेदिक दवा बताएं क्योंकि हमारी बीवी की उम्र 35 वर्ष है और हम उनको संतुष्ट नहीं कर पाते

    प्रतिक्रिया
    • इस लेख काफी दवाओं के नाम सुझाए गये है । आपको सही खानपान के साथ योग व्यायाम करने की सलाह दी जाती हैं । इनके आलावा ड्राई फ्रूट खाने का सुझाव दिया जाता है । फिर भी आप योग्य डॉक्टर से परामर्श करे ।

      प्रतिक्रिया
    • लिंग की लंबाई व मोटाई मायने नहीं रखती है बल्कि आप कितनी देर तक पारी खेल सकते है । यह महत्वपूर्ण है । फिर भी हमने बहुत सारी जानकारी उपलब्ध कराई है जिसे आप हमारी साइट पर पढ़ सकते है । इनके आलावा बेहतर खानपान करे व स्वस्थ रहे ।
      धन्यवाद

      प्रतिक्रिया

Leave a Comment