मुंह के छाले की अंग्रेजी दवा, जेल, टेबलेट का नाम व 5 सबसे अच्छी देशी दवा

Mouth ulcer medicine

मुंह के छाले की अंग्रेजी दवा । आज बदलती हुई जीवनशैली अनेकों बीमारियां घर कर लेती हैं । उनमे पेट की प्रॉब्लम भी एक है । असल में पेट की प्रॉब्लम से एव गुटखा खाने से मुँह में छाले हो जाते हैं । Mouth Ulcer एक ऐसी प्रॉब्लम हैं जिनके लक्षण हमे आसानी से नजर आ जाते है । जैसे कि होठो, मसुडे और मुह के किसी अन्य हिस्सो मे कोई सफेद घाव का दिखना, मुह से खून का निकलना या फिर खाते समय मुंह के जलना महसूस होना आदि हो सकते हैं ।

एक्सपर्ट के मुताबिक मुँह के छाले तीन प्रकार के होते हैं जैसे गंभीर अल्सर, सामान्य अल्सर व हेरपेटीफॉर्म अल्सर होते हैं । इनके प्रमुख कारणों मे बहुत मात्रा मे तला भुना और मसालेदार भोजन करने से, ज्यादा मात्रा मे अम्लीय पदार्थों के सेवन से, दातो की नियमित और उचित तरीके से सफाई नही करने से, विटामिन बी12, गाल भीतर से बार बार करने से भी इसके संक्रमण को फैलने की आशंका होती है। इनके अलावा जिस चीज को खाने से एलर्जी है उसे बार बार खाने से इसके होने की संभावना होती है ‌। वही गुटखे का अधिक सेवन करने से भी छाले हो जाते हैं ।

मुँह में छाले होने पर समय पर योग्य चिकित्सक से परामर्श लेने एव खानपान मे बदलाव करने से भी आराम मिल सकता हैं । आज के लेख में कुछ अंग्रेजी दवा, क्रीम व जेल के बारे में बताने जा रहे है । जो इस प्रकार से है –

मुँह मे छाले के लक्षण –

जब मुँह में छाले होते हैं तो लक्षण आसानी से नजर आ जाते हैं । वही बात कारण की तो पेट की गर्मी, गुटखा खाना, कब्ज होना, दवाइयों के सेवन भी हो सकते हैं । तो चलिए जानते हैं लक्षण के बारे में –

  • मुँह मे जीभ, गालो व तालु मे लालिमा होना,
  • मुंह मे अल्सर होने से खाते और पीते समय बहुत ज्यादा दर्द होता है ।
  • व्यवहार मे चिडचिडापन आने लगता है।
  • थकान व कमजोरी महसूस होना,
  • मुंह के घाव मे लालपन नजर आने लगता है ।

इनके अलावा खाना खाते समय दर्द का आभास होता हैं । कभी कभार इतना तेज की दर्द होता हैं की खाना व पानी पिने मे भी दिक्क़त होती हैं ।

पढ़े – धातु गाढ़ा करने की आयुर्वेदिक दवा पतंजलि – वीर्य पतलेपन की दवा

मुंह के छाले की अंग्रेजी दवा का नाम –

मुँह के छाले यानी Mouth Ulcer के लिए Orasore – नामक दवा सबसे अच्छी दवाओं मे से एक है । इनका उपयोग करने से मात्र 2 या 3 दिन मे ठीक हो जाते हैं । यह दाव आपको हर मेडिकल स्टोर मे उपलब्ध हो जाएगी । ओरसर नामक दवा मूह के छालो के लिए काफी असर कारक टेबलेट है। यदि आपको गोली सेवन करने मे दिक्क़त होती हैं तो आप जेल का उपयोग कर सकते है ।

यह टेबलेट दर्दनाक और परेशान मुंह के छालो कि रोकथाम उपचार और और राहत देता है । यह शरीर मे संबंधित तत्वो कि आहार संबंधी आवश्यकताओं की पूर्ति करता है और उनकी कमी और छालो के लक्षणों को रोकता है।

पढ़े – मुँह के छालो के कारण, लक्षण एव उपाय – Muh ke chhalo ka ilaaj.

Dequadin lozenges – मुंह के छाले की अंग्रेजी दवा का नाम

यह टेबलेट मुंह के छाले की अंग्रेजी दवा है जो बिना डॉक्टर के पर्चे के मिलती है । मुंह और गले के संक्रमण जैसे मुंह के छाले और टॉन्सिलिटीस के इलाज के लिये आप यह टेबलेट खरीद सकते है।

इस टेबलेट मे dequalinium chloride नामक एंटीसेप्टीक गुण होता है जो बैक्टीरिया और फंगी को खत्म करता है। जो की छालो के लिये जिम्मेदार होता है। इस बात का ध्यान रखे की दस वर्ष या छोटे बच्चो से दूर रखे । आप इनका उपयोग दिन मे 2-3 बार ले सकते है ।

Folic acid & Bicasul tablet – मुंह के छाले की अंग्रेजी दवा का नाम टेबलेट –

मुँह मे छाले होने का एक कारण विटामिन बी12 की कमी भी होता हैं । वही फोलिक एसिड की कमी भी एक कारण होता हैं । जिसकी कमी से भी Pet ki Garmi हो जाती हैं । जिससे मुँह व जीभ पर छाले हो जाते हैं । इसलिए अधिकतर डॉक्टर प्राथमिक उपचार के तौर पर फोलिक एसिड व बिकसूल कैप्सूल लेने की सलाह देते हैं ।

असल में फोलिक एसिड एव बिकासूल कैप्सूल विटामिन बी 12, विटामिन ई की कमी को पुरा करने के लिए कारगर होते हैं । वही बॉडी मे आवश्यक पोषक तत्वों को पुरा करते हैं । जिससे मुँह के छाले जल्दी ठीक हो जाते हैं ।

पढ़े – घाव सुखाने की एंटीबायोटिक दवा, टेबलेट, क्रीम  व अंग्रेजी दवा

Candid mouth Gel – मुंह के छाले की जेल –

यह एक स्थानिय संवेदनाहारी है। त्वचा पर खुजली और त्वचा की स्थिति जैसे कीड़े की काटने, एक्जिमा और जलन को कम करने के लिये इसका उपयोग त्वचा पर किया जाता है।

इस जेल के साइड इफ़ेक्ट्स के बारे में बात करें तो उल्टी, चककर आना, कानो मे सिटी बजना, जलन या चुभने वाली सनसनी, उनीदापन, शरीर के तापमान मे परिवर्तन, धुंधली दृष्टि और सुन्नता शामिल है। यदि आपकी प्रतिक्रियाये जारी रहती है और समय के साथ साथ बदतर होती जाती है, अपने चिकित्सक से तुरंत संपर्क करे।

कैंडिड माउथ जेल लेने से पहले अपने चिकित्सक को सूचित करे यदि आपको किसी भी दवा, भोजन, पदार्थ या सामग्री से एलर्जी है, या आपको मधुमेह लिवर/पेट की समस्याएं और इंफेक्शन है।

आपकी स्थिति के लिये योग्य डॉक्टर की सलाह एव परामर्श के अनुसार खुराक ले। ये सामायिक दवा जेल, स्प्रे, किम, लोशन और त्वचा पेच के रुप मे आती है। सफाई और अच्छी तरह से सुखने के बाद स्किन के प्रभावित हिस्से पर लगाये।

मुंह के छाले की जेल / क्रीम का नाम

Orajel Mouth Sore – नासूर, घावों, मुंह के छाले, कोल्ड सोर और अन्य मुंह की जलन, दर्द को दूर करने के लिये इस्तेमाल किया जाता है। orajel एक असरदार छा लो के लिये जेल है जिसमे 20% benzocaine होता है।

Smyle mouth ulcer gel – आयुर्वेदिक दवा है जो घाव, मुंह के अल्सर, भोजन से जलने और मसुडो से खून आने का इलाज करती है। यह ब्रेसिज और गाल के काटने की वजह से मसुडो मे दर्द दर्द का भी प्रभावी ढंग से इलाज करता है।

इस्तेमाल करने की विधि – लगाने से पहले अपने हाथ साबुन से धोये । किसी दुर्गम हिस्से के लिये थोडी मात्रा मे जेल ले और इसे धीरे से लगाये।
दुष्प्रभाव – स्माईल माउथ अल्सर जेल का उपयोग आमतौर पर सुरक्षित है और इससे कोई दुष्प्रभाव नही होता है।

Himalaya Oro T Oral Rinse – गुटखा खाने से मुँह मे छाले की दवा –

यह दवा हिमालय ब्रांड की सबसे अच्छी दवा हैं । इनका उपयोग सफ़ेद छाले या गुटखा खाने से मुँह के छाले, बंद मुँह खोलने व दातों की सफाई करने के लिए उपयोगी है । यह एक आयुर्वेदिक तत्वों युक्त है जो शहद, हरितकी, बहेड़ा, आंवला व हल्दी के गुणों से भरपुर होती हैं ।

यह एक ओरल दवा है जिनका उपयोग केवल बाहरी तौर पर किया जाता है । इस दवा का उपयोग कुल्ला या गरारे करके किया जाता हैं । यह प्रभाशाली दवा है जो मात्र दो या तीन मे अपना असर दिखाती है । यह दवा मुँह के कैंसर के छालो के लिए भी उपयोगी है । इस दवा का कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं है फिर भी योग्य डॉक्टर की सलाह से करें ।

पढ़े – फोड़ा फुंसी सुखाने की टेबलेट, cream, दवा एव घरेलु उपाय

मुँह छाले की देसी दवा घरेलु उपाय –

मुंह मे छालो की समस्या बहुत दर्दनाक होती है, जाने मे मुंह मे छालो की समस्या का आयुर्वेदिक इलाज एव कुछ घरेलु उपाय है – जो इस प्रकार है –

  1. हल्दी एक एंटीसेप्टीक है जो सूजन और दर्द को प्रभावी ढंग से कम करती है ।
    कपूर की तासीर ठंडी होती है,जो अल्सर के कारण होनेवाले दर्द या जलन से तुरंत राहत देती है।
  2. एलोवेरा और आंवले का ज्यूस – इस जूस का उपयोग औषधि के रूप में होता हैं । जो माउथ अल्सर के कारगर है । एलोवेरा और आंवले मे मौजूद गुण छालो के घाव को कम करने और पेट को ठिक ऱखने मे फायदेमंद होते है। रोजाना सुबह खाली पेट आवले और एलोवेरा का ज्यूस पीने से मुंह के छालो कि समस्या ठीक होती हे।
  3. तुलसी मे मौजूद गुण न केवल मुंह के छालो को ठीक करने मे सहायक है बल्कि इसका सेवन पेट के लिये भी उपयुक्त है ।इन पत्तो मे मौजूद एंटी बैक्टीरियल गुण इन्फेक्शन से निजात दिलाने का कार्य करता है। तुलसी के पत्ते को पानी मे उबालकर इसके पानी से कुल्ला करने से मुंह के छालों को दूर करने सेे फायदा मिलता है।
  4. खसखस का इस्तेमाल – इस समस्या को दूर करने के लिये खसखस का उपयोग फायदेमंद होता है। नारियल के पावडर को शुगर के साथ मिक्स कर के खसखस मे मिलाकर गोलिया बना लिजिये। इन गोलियोको पानी के साथ खाये। या मुंह मे रखकर चूसे। ऐसा करने से छा लो की समस्या मे फायदा होता है। उपर बताये गये सभी

आयुर्वेदिक उपाय मुंह मे छालो की समस्या मे बहुत सहायक होते है । किसी भी घरेलू इलाज को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह जरुर लिजिये।

Share

Leave a Comment