धातु गाढ़ा करने की आयुर्वेदिक दवा पतंजलि । वीर्य पतलेपन की दवा

Dhatu gadha karane ki ayurvedic dawa patanjali.

धातु गाढ़ा करने की आयुर्वेदिक दवा पतंजलि । स्पर्म प्रेग्नेंसी के लिए सबसे अहम होता है । लेकिन यदि ये पतला हो जाए तो पुरुषों के लिए चिंता का कारण बन जाता है । क्योंकि वीर्य पतला होने पर शीघ्रस्खलन, शुक्राणुओं की कमी, नामर्दी जैसे जोखिमों को बढ़ा सकते हैं । इसी प्रकार धातु जितना गाढा एवं पुष्ट होगा उतना ही संतान प्राप्ति के लिए उत्तम होता है ।

वीर्य को गाढा करने के लिए खानपान एवं दिनचर्या में बदलाव करने के अलावा कुछ दवाओं का सेवन करके किया जा सकता है । वही तनाव दूर करने के लिए योग व्यायाम भी महत्वपूर्ण है । इसी प्रकार फिज़िकल रिलेशन कम करके भी स्वस्थ एवं गाढे धातु का निर्माण किया जा सकता है । वही गंदे विचारों एवं वीर्य को पतला करने वाली खाद्य पदार्थों से परहेज करना चाहिए । तो चलिए जानते – धातु गाढ़ा करने की आयुर्वेदिक दवा पतंजलि – Dhatu gadha karane ki ayurvedic dawa patanjali.

पढ़े – जल्दी मुक्ति के लिए हिमालय की दवा ।

वीर्य पतला होने के कारण

स्पर्म पतला होने के कई कारण हो सकते हैं । आधुनिक जीवनशैली में जिससे पहचानना काफी मुश्किल है । क्योंकि आधुनिक व्यवस्था ने कुछ समस्याओं का समाधान किया है वही कुछ नई प्रॉब्लम को जन्म दिया है । तो चलिए जानते है – वीर्य पतला होने के कारण –

  • अधिक हस्तमैथून,
  • शीघ्रस्खलन या शीघ्रपतन,
  • अधिक स्त्री सहवास,
  • शुक्राणुओं की कमी,
  • बॉडी में जिंक तत्व की कमी आदि ।

वीर्य पतला होने के पीछे तनाव एक कारण हो सकता है । डिप्रेशन की वजह से धातु निर्माण एवं उनकी स्वस्थता की प्रक्रिया को बाधित करता है ।

पढ़े – बैधनाथ कंपनी की दवा shighrapatan.

धातु गाढ़ा करने की आयुर्वेदिक दवा पतंजलि ।

पतंजलि एक भारत का आयुर्वेदिक ब्रांड हैं जो विभिन्न प्रकार की आयुर्वेदिक दवाओं का निर्माण करता है । ये दवाएं किफायती होने के साथ साथ उपयोगी भी होती हैं । वीर्य को गाढा करने के लिए पतंजलि की अनेको दवाए हैं । जिनमें से मुख्य दवाओं के बारे में बता रहे हैं । धातु गाढा करने की आयुर्वेदिक दवाओं में शतावर चूर्ण, अश्वगंधा चूर्ण, चंद्रप्रभा वटी आदि मुख्य हैं । जिनका उल्लेख हम अपने विभिन्न लेखों में कर चुके हैं ।

आयुर्वेद के अनुसार रोग का कारण वात, पित्त एवं लाइफ स्टाइल होता है । जिनका निवारण आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों का सेवन करके किया जा सकता है । इन जड़ी बूटियों का साइड इफेक्ट्स न के बराबर होता है वही प्रभाव स्थायी होता है तो चलिए जानते है – वीर्य गाढा करने की दवा पतंजलि –

पढ़े – पतंजलि पेनिस तेल । Patanjali ling vardhak oil.

स्पर्म गाढा करने की दवा दिव्य शिलाजीत रसायन वटी । Patanjali Divya Shilajit Rasayan.

शिलाजीत एक आयुर्वेदिक औषधि है जिनका उपयोग सदियों से किया जा रहा है । पतंजलि द्वारा इसे आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल करते हुए शुद्ध दवा का निर्माण किया जाता है । यह शिलाजीत जैसी औषधि के प्राकृतिक गुणों से भरपूर है । जो प्रजजन संस्थान के विभिन्न विकारो को दूर करने में कारगर होती है ।

यह शीघ्रपतन, वीर्य विकारो के लिए रामबाण औषधि है । यह दवा धातु गाढा करने के साथ शारीरिक दुर्बलता दूर करने में सहायक होती है । इनका नियमित रूप से सेवन करने पर प्रजनन संस्थान के समस्त विकारो से राहत मिलती है । इनकी एक एक टेबलेट को गर्म दूध के साथ सेवन की जा सकती है । इनका कोई साइड इफेक्ट्स नहीं है फिर भी अधिक समय तक या अधिक खुराक सेवन न करें ।

पढ़े – धातु रोग की दवा पतंजलि । Purush dhatu roga ki dawa patanjali.

धातु गाढा करने की दवा पतंजलि दिव्य मूसली पाक । Patanjali Divya Musalim paak.

यह धातु गाढ़ा करने की आयुर्वेदिक दवा पतंजलि की सबसे अच्छी दवा है । साथ साथ ही प्राइवेट प्रॉब्लम की रामबाण दवा है । यह विभिन्न प्रकार की आयुर्वेदिक औषधियों जैसे अश्वगंधा, गोखरू, हरीतकी, तेजपात, चित्रक, बंग भस्म, अकरकरा, बाला आदि जो कि पुरुषों में होने वाली प्रॉब्लम वीर्य पतलापन एवं जल्दी गिरने की समस्या के लिए रामबाण दवा है ।

यह टाइमिंग बढ़ाने एवं शीघ्रस्खलन के लिए भी उपयोगी हैं । वही इनका नियमित रूप से सेवन करने पर शुक्राणुओं की कमी दूर होती हैं । इस दवा का उपयोग गुनगुने दूध के साथ किया जा सकता है । यह मार्केट में आसानी से उपलब्ध हो जाती है । इनका अधिक सेवन करने से बचे ।

पढ़े – शुक्राणु बढ़ाने की दवा बैधनाथ, Patanjali, आयुर्वेदिक

बीज गाढा करने दवा पतंजलि दिव्य बादाम पाक । Patanjali Divya Badam Paak.

यह पतंजलि की दवा बादाम जैसे प्राकृतिक गुणों से भरपूर होती हैं जो मानसिक शांति देने के साथ साथ प्रजजन संस्थान के विकारो को दूर करती है । साथ ही इसमें उपस्थित अन्य घटक जैसे गाय का घी, जावित्री, शतावरी, काली मिर्च, बंग भस्म, सफेद मूसली, बादाम की गिरी, शक्कर, केसर, जायफल, पीपल, लौंग, सिंदूर, दालचीनी, तेजपात, प्रवाल पिष्टी, विदारीकंद, कौच के बिज, छोटी इलायची, खरेंटी के बीज, कमल गट्टा, सालम मिश्री, वंशलोचन रस आदि लाभकारी आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों एवं श्रेष्ठ खाद्य पदार्थों के समिश्रण से तैयार की जाती हैं ।

इनका नियमित रूप से सेवन करने पर बॉडी में रक्त संचार बढ़ता है । नसों व मांशपेशियों को मजबूत होती हैं । प्रजजन संस्थान के समस्त विकार जैसे शीघ्रस्खलन, पेनिस की कमजोरी, शुक्राणुओं की कमी एवं वीर्य का पतलापन आदि अनेको प्रॉब्लम का रामबाण इलाज करती है । इनका सेवन सुबह शाम या वैध की सलाह के अनुसार किया जा सकता है ।

वीर्य पतलापन का उपचार पतंजलि दिव्य स्वर्ण भस्म । Patanjali Divya swarn Bhasma.

स्वर्ण धातु जैसा महत्व रखने वाली लाभकारी औषधीय गुणों से भरपूर जड़ी बूटियों से निर्मित दवा स्वर्ण भस्म के नाम से जानी जाती है । यह दवा विभिन्न प्रकार तत्व जैसे पौटेशियम, फेरिक ऑक्ससाइड, मैग्नेशियम, सल्फर, कॉपर आदि से युक्त होती हैं । यह दवा विभिन्न प्रकार के प्रजजन विकारो जैसे शीघ्रपतन, शुक्राणुओं की कमी, उत्तेजना की कमी आदि के लिए कारगर है ।

इनका सेवन करने से वीर्य गाढा होने के साथ साथ स्वस्थ एवं पुष्ट होता है । इनका सेवन रोजाना गाय के देसी घी के साथ सुबह शाम किया जा सकता है । इनका कोई नुकसान नहीं है फिर अधिक समय तक या अधिक खुराक सेवन करने से परहेज करें ।

पढ़े – हार्ट के लिए पतंजलि की दवा – 7 सबसे अच्छी दिल की दवा

वीर्य / धातु गाढा करने की आयुर्वेदिक दवा पतंजलि – दिव्य अभ्रक भस्म । Patanjali Divya Abhrak Bhasma.

यह दवा बॉडी में हार्मोन सन्तुलन का कार्य करती हैं । जो अभ्रक भस्म नामक प्राकृतिक गुणों से भरपूर आयुर्वेदिक जड़ी बूटी से तैयार की जाती हैं । यह एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होती हैं । आपको बता दें यह अभ्रक भस्म पहाड़ो और पर्वतीय इलाकों में मिलने वाली एक औषधि है । जिसमे आयरन की प्रचुर मात्रा पाई जाती है । यह शारीरिक दुर्बलता दूर करके प्रजजन क्षमता बढ़ाने में कारगर है ।

इनका सेवन करने से वीर्य का पतलापन दूर होता है । शुक्राणुओं की संख्या बढ़ती है । प्रजजन विकार दूर होते है । वही शारिरिक स्फूर्ति बढ़ती है । इनका सेवन शहद के साथ सुबह शाम किया जा सकता है । पर ध्यान रखें कि इनका सेवन अधिकतम 21 दिन तक करें । क्योंकि अति हमेशा नुकसान पहुंचाती हैं ।

पढ़े – बेस्ट 9 महिलाओं के लिए टॉनिक Patanjali व आयुर्वेदिक

स्पर्म गाढा करने के लिए क्या खाएं ।

स्पर्म काउंट बढ़ाने एवं वीर्य गाढा करने के लिए कुछ खानपान पर ध्यान देना आवश्यक है । क्योंकि इन खाद्य पदार्थों से बॉडी में नई ऊर्जा का संचार होता है और आवश्यक पोषक तत्वों की कमी की पूर्ति होती है । जिससे वीर्य न केवल गाढा बल्कि पुष्ट एवं स्वस्थ होता है । यह तत्व इस 7वे रत्न को शुद्ध करने के लिए कारगर होते हैं । इन खाद्य पदार्थों की सूची इस प्रकार से है –

  1. फल ( Fruits ) – काले अंगूर, केले, तरबूज, अनार, अंगूर आदि ।
  2. सब्जियां ( Vegetables ) – शिमला मिर्च, मक्का, कच्चे प्याज, लहसून, गाजर, गोभी, खीरा, टमाटर, मूली आदि ।
  3. सूखे मेवे ( Dry fruits ) – अखरोट, किशमिश, पिस्ता, बादाम, इलायची, अंजीर व काजू ।

इसी प्रकार देशी खाद्य पदार्थ जैसे छाछ, दही, मक्खन, आदि जो वीर्य को गाढा करने के लिए उपयोगी होते हैं । इसी प्रकार काले चने एवं उड़द की दाल भी धातु को पोषण देने वाली होती है । इनका सेवन रोजमर्रा की डाइट में शामिल करके कम समय मे अपनी प्रॉब्लम से निजात पा सकते हैं ।

निष्कर्ष – आज के लेख में धातु गाढ़ा करने की आयुर्वेदिक दवा पतंजलि ( Dhatu gadha karane ki ayurvedic dawa patanjali. ) के बारे में बताया हैं लेकिन इनका सेवन करने से पहले योग्य वैध के साथ परामर्श करना आवश्यक समझे । चूंकि इस प्रॉब्लम का इलाज खानपान में बदलाव करके निज़ात पाई जा सकती है । एक अहम बात अपने दिमाग को गंदी सोच एवं हरकतों से दूर रखें । यह प्रॉब्लम होगी ही नहीं ।

Leave a Comment