प्रेग्नेंसी में सिलाई करना चाहिए या नहीं – गर्भाव्यस्था मे क्या न करे

Pregnancy me silai karna chahiye ya nahi.

प्रेग्नेंसी में सिलाई करना चाहिए या नहीं । माताओ के लिए प्रेगनेंसी वह अवस्था है जिस दौरान एक माँ अपने गर्भ में नवजात शिशु को अधिपत्य देती है। हालांकि नवजात शिशु को अपनी कोख में पालना आज के दौर में माँ के लिए बहुत मुश्किल का काम होता है । तरह-तरह के परेशानियों से गुजरना पड़ता है । हर एक महीने की हर एक मूवमेंट पर शरीर में कई तरह के प्रतिक्रियाएं होती हैं । तभी खाने की इच्छा होती है कभी नहीं करता है कभी खुश मिजाज मन होता है कभी मन दुखी रहता है।

इसलिए ऐसे नाजुक क्षणों में महिला अपने गर्भ में पल रहे बच्चे पर किसी तरह का दुष्प्रभाव ना पड़े इसीलिए बहुत संवेदनशील होती हैं उनका अत्यधिक ध्यान रखना पड़ता है। खान-पान से लेकर चलने फिरने और संपूर्ण एक्टिविटी पर नजर रखना अपना और दूसरों का दायित्व बन जाता है। इस समय डॉक्टर अधिक से अधिक महिला को आराम करने की सलाह देते हैं। ताकि सेहत पर कोई बुरा असर ना पड़े। इस प्रियड में कौन सा काम करें या ना करें यह बेहतर है डॉक्टर की सलाह से ही करें ।

पढ़े – ब्रेस्ट कम करने की आयुर्वेदिक दवा Patanjali.

प्रेग्नेंसी में क्या नहीं करना चाहिए –

लेडीज के लिए Pregnancy बेहद संवेदनशील अवस्था होती है । जिसमें बहुत ही Carefully रहते हुए खुद की बहुत ज्यादा केयर करनी होती है । जैसे खानपान, रहन सहन आदि पर ध्यान देना होता हैं । उदाहरण के लिए अगर किसी महिला को ज्यादा कॉफी चाय या चॉकलेट खाने की हैबिट है तो इसमें सुधार कर लें क्योंकि प्रेग्नेंसी के दौरान कैफीन की वजह से खतरा बढ़ सकता है।

  • महिला के लिए गर्भावस्था का समय बहुत नाजुक होता है । इस दौरान पेट में पल रहे । शिशु के बढ़ते वजन के कारण महिला की भी वजन बढ़ने लगती है जिसके वजह से किसी भी काम को करने में उन्हें दिक्कत होती है । अगर किसी भी महिला को यह बहुत परेशानी होती है । कोई भी काम करने में तो उसे वर्जित करें ।
  • लंबे समय तक खड़े रहने वाला काम ना करें । 15 से 20 मिनट से ज्यादा अगर किसी काम में खड़े होकर करने की जरूरत पड़ती है तो इस से परहेज करें ।
  • इन दिनों मे साफ सफाई का कार्य जैसे बाथरूम / टॉयलेट की क्लिनिंग करना हो, चाहे झाड़ू निकलना हो । इस बात का ध्यान रखे कि ज्यादा नीचे झुक कर काम ना करें । इस दौरान आप चाहे इको फ्रेंडली क्लीनर प्रोडक्ट का इस्तेमाल करें ताकि आपका बाथरूम आसानी से क्लीन हो जाए ।
  • गर्भवती स्त्री हमेशा यह ध्यान रखें कि खड़े होने के बजाय बैठ के जो सुविधानुसार काम हो वह करें ।

पढ़े – पुत्र प्राप्ति के लिए नारियल बीज़ कब खाना चाहिए

प्रेग्नेंसी में सिलाई करना चाहिए या नहीं ?

यहां पूर्णता निर्भर करता है की गर्भवती स्त्री की अवस्था पर क्योंकि उसके बॉडी की कैसी सिचुएशन है । उसी आधार पर उन्हें काम करने की सलाह दी जाती है या फिर मना ही की राय दी जाती है । यहां वह अवस्था है जब कोई भी काम सावधानीपूर्वक करना चाहिए । अब अगर डॉक्टर आपके अवस्था को देखते हुए कोई काम करने की राय देते हैं तो अवश्य करें ताकि बॉडी की एक्टिविटी चालू रहे ।

  • प्रेग्नेंसी के दौरान यदि किसी प्रकार की प्रॉब्लम है । या हार्ड डिलीवरी होने की संभावना हैं तो आपको सिलाई मशीन पर काम डॉक्टर की सलाह से करना चाहिए । या फिर परहेज करना चाहिए ।
  • हां अगर सब कुछ नॉर्मल है तो कुछ निश्चित समय के लिए अपनी जरूरत के आधार पर थोड़ी बहुत सिलाई मशीन का उपयोग कर सकते हैं ।
  • बहुत देर तक सिलाई मशीन पर बैठने से गर्भवती महिला के शरीर में दर्द हो सकती है जो कि बच्चों के लिए नुकसानदेह हो सकता है ।

अगर आपकी शरीर की संरचना बिल्कुल सही है और आप अपने बच्चे को बिना किसी नुकसान के सुविधा अनुसार काम कर सकते हैं तो अवश्य लाएं मशीन चलाएं लेकिन अत्यधिक चलाने के बावजूद पैरों में दर्द हो सकता है जो आपके लिए नुकसानदेह हो सकता है ।

प्रेग्नेंसी में Menual सिलाई करना चाहिए या नहीं

प्रेग्नेंट लेडीज को घर के किसी भी प्रकार के वर्क को करने से पहले थोड़ा सोच विचार कर करना चाहिए । क्योकि ज्यादा वर्क करने से न केवल खुद को बल्कि गर्भ में पल रहे शिशु को प्रॉब्लम होती है । जैसे ज्यादा देर तक एक ही मुद्रा मे बैठे या लेते रहना, एक मुद्रा मे एक ही कार्य करना आदि मुश्किलें खड़ी करता हैं ।

इसी प्रकार लगातार सिलाई कार्य करना चाहे वो मेनुअली हो या मशीनरी दोनो ही परिस्थिति में नार्मल प्रेग्नेंसी भी ज्यादा देर सिलाई करने से परहेज करे । हा ये अलग है कि आप थोड़ी बहुत एक्टिविटी कर सकते है ।

पढ़े – सरसो के तेल से बच्चे को गोरा करने का तरीका, फायदे व नुकसान

प्रेग्नेंसी के दौरान सीढ़ियां चढ़ना चाहिए या नही

गर्भव्यस्था के दौरान भी महिलाएं सीढ़ी चढ़ सकती हैं । क्योकि सीढ़ी चढ़ना काम के साथ-साथ एक्सरसाइज भी हो जाती है । जिससे गर्भवती महिला की शरीर की मेंटेनेंस भी होते रहती है । और फीजिकल दृष्टि हेल्थ भी अच्छी रहेगी ।

प्रेगनेंसी के दौरान माताओ के सीढी चढ़ना एक तरह का बयान भी है लेकिन इन दिनों मे Carefull चढ़ना चाहिए। जल्दी बाजी में सीढी कभी भी चढ़ने का प्रयास बिल्कुल ना करें अन्यथा कभी भी दुर्घटनाएं हो सकती हैं । साथ ही इस बात का भी अवश्य ध्यान रखें कि अधिक सीढ़ियां चढ़ने का प्रयास बिल्कुल न करे ।

गर्भवती महिला को कौन-कौन से काम नहीं करना चाहिए अपनी अवस्था को देखते हुए काम करने की प्रक्रिया में अपने आप को जब फिट महसूस करें और सफलतापूर्वक करने की अगर अवस्था में हो तभी काम करें ।

प्रेग्नेंसी मे पोछा लगाना चाहिए या नहीं –

गर्भवती महिलाएं प्रेगनेंसी के दौरान कोई भी काम ध्यान पूर्वक करें। गर्भवती महिलाएं प्रेगनेंसी के दौरान सातवें महीने से बैठकर पोछा लगाने से उन्हें नॉर्मल डिलीवरी की संभावना बनती है । लेकिन इस मामले एक्सपर्ट का मानना है कि बैठकर पोछा लगाने से आठवें महीने के बाद बच्चे का सिर पेल्विक में आने लगता है । ऐसे में पेल्विक पर जोर पड़ने से बच्चे की गर्दन में किसी तरह की विभिन्नता उत्पन्न हो सकती है।

घर के कुछ काम जैसे धूल मिट्टी कूड़े कचरे की सफाई भारी सामान उठाने से परहेज करें इससे बॉडी में इंफेक्शन हो सकते हैं जो कि बच्चे के लिए समस्याएं उत्पन्न कर सकती है।

भारी सामान उठाने से गर्भवती महिलाएं परहेज करें और डॉक्टर के निर्देशानुसार ही व्यायाम करें। डॉक्टरों के अनुसार व्यायाम करने के सलाह से ही 20:30 मिनट का बयान धीमी गति से करें ।

पढ़े – मेथी से गर्भ कैसे गिराएं – अनचाए गर्भ गिराने के 7 उपाय

प्रेग्नेंसी मे पीठ के बल लेटना चाहिए या नहीं –

गर्भवती महिला को पीठ के बल लेटने से बचना चाहिए पहले तिमाही में और ऐसे बयान तो बिल्कुल ना करना चाहिए जो उनके शरीर की संतुलन को बिगाड़ दे ऐसी स्थिति में वह गिर सकती है और किसी भी दुर्घटना की शिकार हो सकती है। इसके अलावा स्मोकिंग ड्रिंकिंग या दवाओं के परहेज से बचना चाहिए डॉक्टर के अनुसार दिए गए स्वास्थ्य वर्धक दवाइयों का इस्तेमाल ही करें।

गर्भवती होना हर महिला के लिए सौभाग्य की बात होती है ऐसे में परिस्थिति अनुसार अपने आपको और अपने बच्चों को सुरक्षा को देखते हुए कोई भी काम करें जिसका दुष्प्रभाव ना पड़े। सावधानीपूर्वक अपने आप को स्वस्थ रखना एक नवजात शिशु के लिए भविष्य के लिए स्वास्थ्यवर्धक हो सकती है इसलिए अपना ध्यान रखें ।। कल्पना झा ।।