पिचके गाल फुलाने की आयुर्वेदिक दवा, सिरप, टेबलेट व पतंजलि दवा

Gaal fulane ki ayurvedic dawa.

पिचके गाल फुलाने की आयुर्वेदिक दवा । मनुष्य के शरीर में उपस्थित अंगों में चेहरे कि अपनी प्राथमिकता होती है । सर्वप्रथम चेहरा ही शरीर के आकर्षण का केंद्र बिंदु होता है । अगर किसी भी व्यक्ति के गाल चिपके होते हैं तो और कुरुप दिखते हैं । जिसके कई कारण हो सकते हैं । सर्वप्रथम तो खाने की पौष्टिकता की कमी के कारण यह रोग उत्पन्न होता है।

अर्थात पर्याप्त मात्रा में शरीर में पोषण का नहीं होना इसका कारण हो सकता है । जिसके कारण चेहरे पर सकारात्मक असर नहीं पड़ता और उसके रंगत खराब होने लगते हैं । और वह अंदर की ओर धस जाता है जिसके कारण व्यक्ति की गाल चिपकी नजर आती है इसलिए सब्जियों और फलों का सेवन व्यक्ति को करना चाहिए । ना सिर्फ खान-पान के कारण बल्कि पान बीड़ी सिगरेट धूम्रपान जैसी गलत सेवन के कारण व्यक्ति में यह समस्या आ जाती है चूंकि सभी बीमारी की की इलाज उपलब्ध है तो चलिए जानते हैं – पिचके गाल फुलाने की आयुर्वेदिक दवा, सिरप, टेबलेट व पतंजलि मेडिसिन के बारे में – Gaal fulane ki ayurvedic dawa.

पढ़े – पेनिस मे तनाव की दवा Ayurvedic, लिंगवर्धक 5 देशी उपाय

गालों के चिपके होने के कारण

शरीर में पानी की मात्रा की कमी होने के कारण भी व्यक्ति के चेहरे में यह समस्या उत्पन्न हो जाती है जो चिपके गाल के रूप में उभरती है इसलिए शरीर में पानी की मात्रा पर्याप्त होनी चाहिए।

धूम्रपान के सेवन से भी पिचके गाल की समस्या उत्पन्न हो जाती हैं । सिगरेट खैनी गुटका इन सब का सेवन करने से शरीर पर नकारात्मक असर पड़ता है जिसका जिसके कारण फेफड़े खराब हो सकते हैं । यही कारण है कि व्यक्ति की चेहरे की शक्ल ही बदल जाती है जो फेस देखने में सुंदर होना चाहिए वह कुरुख दिखने लगता है।

पोषक तत्वों की प्रचुरता की कमी के कारण भी व्यक्ति के चिपके गाल नजर आने लगते हैं । खानपान की अनियमितता पौष्टिक आहार की कमी साग सब्जी के सेवन ना करने के कारण भी यह समस्या शरीर में उत्पन्न होती है । इसके अलावा तनाव भी इसका मुख्य कारण हो सकता है । जो व्यक्ति में अनेक तरह की परेशानियों के रूप में चेहरे पर नजर आती हैं जिसके कारण गाल चिपके चिपके नजर आते हैं।

पिचके गाल फुलाने की आयुर्वेदिक दवा –

शरीर में लगातार पोषक तत्वों की कमी एव गलत आदत के कारण फिज़िकल कमजोरी आ जाती हैं । जिससे गाल भी पिचक जाते हैं । चुंकि गालो का पिचकना कोई बीमारी नहीं है लेकिन शारीरिक दुर्बलता का संकेत हो सकता हैं । इससे इंसान बदसूरत नजर आता हैं ।

पिचके गालो के इलाज के रूप मे या फुलाने के लिए आयुर्वेद में अनेक दवाइयां उपलब्ध है । उनमे से कुछ दवाओं के बारे में आज के लेख में हम बताने जा रहे हैं । इन दवाओं का सेवन पैकेट पर दी गई जानकारी के अनुसार अनुशासित खुराक के रूप मे करे । तो आइए हम बात करते हैं गाल फुलाने की पतंजलि में उपस्थित दवाइयों के बारे में –

Zincovit Syrup – पिचके गाल फुलाने की आयुर्वेदिक दवा

क्या एक अनोखी हिंदी नुस्खे हैं जो दवाई के रूप में पतंजलि दुकानों में सफलतापूर्वक मिल जाती है। जो शरीर में पौष्टिक लाता लाती है जिसके कारण चेहरे के कील मुंहासे निकले सभी भर जाते हैं और गाल फुले फुले नजर आते हैं इसका सेवन डॉक्टर के निर्देशानुसार ही करें ।

पढ़े – पेट साफ करने की अंग्रेजी दवा Syrup – कब्ज तोड़ने की दवा

डेक्सोरेंज सिरप – पिचके गाल फुलाने की आयुर्वेदिक दवा

यह सिरप न केवल शरीर में कमी को दूर करती है बल्कि चेहरे में रौनक लाने के लिए और गाल को फुलाने के लिए बहुत ही बेहतरीन सीरप है।

दवाई के साथ-साथ मार्केट में गाल फुलाने की क्रीम भी सहज रूप में मिल जाती है जिसके मसाज करने से बालों के रूखापन दूर होता है । और त्वचा को हाइड्रेट कर दिया खिला-खिला नजर आता है । डैमेज स्कीन में उर्जा पैदा करती है। स्क्रीन का सेवन रात में सोने से पहले नाइट क्रीम के रूप में करें और मॉर्निंग में मेकअप क्रीम की तरह इस्तेमाल करें । 5 से 7 मिनट तक मसाज करने से क्या बहुत ही फायदेमंद होता है।

शतावरी चूर्ण – पिचके गाल फुलाने की पतंजलि दवा

यह चूड़ियां संपूर्ण औषधियों गुणों से संपूर्ण रहता है जो ना सिर्फ वालों की खूबसूरती बढ़ाता है बल्कि शरीर में उपस्थित अन्य गुणों को दूर करता है जिसके कारण शरीर और चेहरे की रौनक बढ़ जाती हैं । यह हर्बल पाउडर सभी मेडिकल स्टोर में सहज रूप में उपलब्ध हो जाते हैं अन्यथा इसे ऑनलाइन भी मंगवा सकते हैं। इसका सेवन का तरीका बहुत ही सहज है । यह एक चम्मच पाउडर दूध के साथ प्रतिदिन खाना खाने के बाद रात्रि में ले यह इम्यूनिटी पावर भी बढ़ाता है।

पढ़े – सील टूटने के बाद कितने दिन मे जुड़ जाती हैं – जाने सील का सच

जैतून का तेल – गाल फुलाने की आयुर्वेदिक दवा oil.

इस पेड़ के सभी भाग फल, पत्ते इत्यादि किसी ना किसी रूप में स्वास्थ्यवर्धक है जो शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद होता हैं । इसे ऑइली आयल के रूप में जानते हैं जो ना सिर्फ बाल शरीर में लगाए जाते हैं । बल्कि पौष्टिकता के दृष्टिकोण से खाना बनाने में भी इस तेल का इस्तेमाल किया जाता है। वैसे इस आयुर्वेदिक तेल का मसाज के रूप में बालों में इस्तेमाल कर सकते हैं इसके मसाज करने से गाल में बहुत अच्छी चमक आ जाती है जिसके कारण यह गाल उभरा हुआ नजर आता है।

गुलाब जल – गाल भरने की देशी दवा –

गुलाब जल में ग्लिसरीन मिलाकर पेस्ट तैयार करने पर यह एक क्रीम के रूप में तैयार हो जाता है जिससे रात में सोने से पहले लगाएं और सुबह होने पर पानी से साफ कर ले । गुलाब जल वैसे ही कंप्लीट स्किन केयर मेडिसिन है जिसे मसाज करने के लिए गाल पर इस्तेमाल किया जा सकता है।

पढ़े – ब्रेस्ट कम करने की आयुर्वेदिक दवा Patanjali

एलोवेरा – गाल फुलाने की पतंजलि दवा –

यह प्राकृतिक तरह से बहुत ही फायदेमंद तरीका है जो सहज रूप में एलोवेरा पौधे के जेल के रूप में मिल जाते हैं । इसके सेवन से ढीली त्वचा में कसाव पैदा होता है जो बहुत ही फायदेमंद होता हैं ।

यह स्किन को एंटी ऑक्सीडेंट की फ्री रेडिकल्स से होने वाले नुकसान से भी बचाता है । वैसे पतंजलि एलोवेरा जेल सभी मेडिसिन दुकान में मिल जाते हैं । जिसे रोजाना 10 मिनट तक मसाज करने से यह त्वचा में निखार उत्पन्न करता है। अब हम बात करते हैं भारत में आने की मेडिसिन के बारे में जो टैबलेट के रूप में मार्केट में उपलब्ध है।

Beplex Forte tablet – गाल फुलाने की दवा – Tablet –

यह मल्टीविटामिन दवा है जो ना सिर्फ शरीर के किसी एक अंग को बल्कि संपूर्ण शरीर के विकास में फायदेमंद होता है अंग्रेजी में यह दवा बनाने के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है । इस दवा में विभिन्न प्रकार पोषक तत्व जैसे विटामिन बी कंपलेक्स और विटामिन सी, विटामिन बी१२, फोलिक एसिड, निकोटिन एसिड आदि प्रचूर मात्रा में पाए जाते हैं । जो शरीर को पूर्ण तरह से पौष्टिकता प्रदान करती है । इससे शरीर को भरपूर मात्रा में पौष्टिकता मिलती है जिसके कारण बाल फूले फूले नजर आते हैं।

गाल फुलाने के रूप में फेशियल व्यायाम करना भी सबसे महत्वपूर्ण है । जिसमें योग करने से कसम पैदा होता है जो लटकी ग्वाल की त्वचा में प्रसव होने के कारण त्वचा में लचकता और कोलाजन का उत्पादन बढ़ता है । जिसके कारण बाल खुला खुला नजर आता है।
गुब्बारे फुलाने से भी मांसपेशियों में फैलाव आता है इस प्रक्रिया को बार-बार दोहराने से इसमें इसकी त्वचा में कसाव उत्पन्न होती है जो वालों को अपनी आकार देती हैं।

निष्कर्ष के रूप में सहज रूप से हम यह स्वीकार कर लें कि शरीर में पौष्टिकता की कमी के कारण यह समस्या उत्पन्न होती हैं । जो ना दवाई ना मेडिसिन से ज्यादा प्रभावित होगी इसलिए शरीर में पौष्टिकता की मात्रा का होना बहुत जरूरी है । इसके अलावा अगर यह समस्या उत्पन्न हो जाती है तो आयुर्वेदिक और मेडिसिन बहुत सारे उपलब्ध हैं । जो गाल फुलाने की समस्या से लोगों को दूर किया जा सकता है ।। कल्पना झा ।।