पीरियड्स जल्दी लाने के उपाय । Periods jaldi lane ke upay.

Periods jaldi lane ke upay.

Periods jaldi lane ke upay. मासिक धर्म यानी पीरियड के दौरान महिलाओं को एक अजीब सी परेशानी होती है। अगर यह समय पर नहीं आता है तो परेशानी होती है, बिलकुल नहीं आता है तो परेशानी या खुशी होती है क्यों कि माॅं बनने का सौभाग्य जो मिलता है, ज्यादा आता है तो परेशानी होती है। कहने का तात्पर्य यह है कि इसको संतुलन में बनाए रखना अति आवश्यक है अगर मासिक धर्म अधिक होता है, उनके स्वास्थ्य पर गलत  प्रभाव पड़ता है। मासिक धर्म की क्रिया प्रकृतिक है।

जब लड़की की आयु 12/13 वर्ष की होती है तब मासिक धर्म का आना चालू हो जाता है । मासिक धर्म की अवधि मासिक महीने में 21 दिन के बाद में प्रत्येक महिला को आता है यह साइकिल 1 महीने अपनी नियमित समय पर चलती रहती है तो यह अच्छे स्वास्थ्य की निशानी है । और अगर अनियमित हो जाती है तो हमारे शरीर के अंदर कहीं विकार पैदा हुए हैं। जिससे हमारी साइकिल अनियमित होती है इसके लिए कुछ घरेलू उपाय होते हैं। Periods jaldi lane ke upay.

पढ़े – पीरियड्स क्या होते है । What is periods in hindi.

पीरियड़स नियमित होना जरुरी है। क्यों कि नारियों के  व्रत /उपवास चलते रहते हैं। जिन्हें हमें चिकित्सक के निर्देश के अनुसार पालन करना चाहिए। पीरियडस आने से पूर्व निम्न लक्षण हमें दिखाई देते हैं जिससे महिलाएं काफी परेशान होती है शारीरिक और मानसिक रूप से बहुत पीड़ित रहती हैं पर इसमें क्या कर सकते हैं क्योंकि यह प्रकृति की देन है केवल और केवल दवाइयों के माध्यम से या घरेलू उपायों के माध्यम से थोड़ा सा रिलीफ पा सकते परेशानी को थोड़ा सा कम कर सकते हैं ।

पीरियड्स देरी से आने के कारण व उपाय ।

मासिक धर्म कई कारणों से देरी से आता है जिसमें महिलाएं बहुत परेशान हो जाती हैं क्योंकि उनकी साइकिल गड़बड़ा जाती है । साइकिल के गण पढ़ाने से उनके कार्यों में विघ्न आता है जैसे हिंदू धर्म में भगवान के मंदिर में नहीं जाते पूजा-पाठ बंद हो जाता है ।

अन्य धर्मों में शायद ऐसा नहीं होता है और शुभ कार्यों में भी महावारी ग्रस्त महिला उस कार्य को संपन्न नहीं कर सकती है इसलिए महिलाएं बहुत ही परेशान रहते हैं । वह अपने मासिक धर्म को जल्दी लाने के लिए तैयार रहते हैं ताकि हमारे कार्य में कोई विघ्न नहीं। यह कुछ बिंदु ऐसे हैं जिनके कारण से मासिक धर्म देरी से आता है । शरीर में होने वाले बदलाव के कारण हारमोंस के बढ़ने के कारण डायबिटीज होने से या तनाव ग्रस्त जीवन हो इस तरह के लगातार जिंदगी में चल रहे उतार-चढ़ाव से भी मासिक धर्म देरी से आता है ।

  1.  हॉर्मोन में बदलाव ।
  2. तनाव ।
  3. धूम्रपान ।
  4. पीसीओएस (पॉलिस्टिक ओवरी सिंड्रोम)
  5. पोषक तत्व की कमी ।
  6. चिंता और मिर्गी के दौरे की दवाई ।
  7. थायराइड की प्रॉब्लम ।
  8. खून में प्रोलैक्टिन हॉर्मोन की उच्च मात्रा ।
  9. पेल्विक इन्फ्लेमेटरी डिजीज यानी प्रजनन अंगों का संक्रमण ।
  10. मधुमेह जैसे टाइप 1 और टाइप 2 डायबिटीज ।
  11. मोटापे के कारण बनने वाला एस्ट्रोजन हॉर्मोन आदि ।

पढे – अश्वशक्ति पाउडर के फायदे व नुकसान । Ashwashakti powder ke fayde.

पीरियड्स में जल्दी लाने की आवश्यकता क्यों होती हैं ?

अब यहां सबसे बड़ा सवाल यह है कि मासिक धर्म ( Periods ) को जल्दी लाने की आवश्यकता क्यों होती है । इनके पीछे कई कारण हो सकता है । पर मुख्य रूप से कारण इस प्रकार है –

  • स्तनपान – माँ बनने के बाद स्तनपान सबसे अहम होता है लेकिन लेकिन स्तनपान के दौरान मासिक धर्म चक्र अनियमित हो जाता है । जिसका मुख्य कारण शारिरिक रूप से हार्मोन के बदलाव होता है ।
  • प्रेग्नेंसी को टालने के लिए – महिलाओं को प्रेग्नेंट होने डर सताता रहता है । एक से दूसरे बच्चे के बीच गेप रखने के लिए जल्दी पीरियड्स लाने का प्रयास करती हैं ।
  • अनियमित मासिक चक्र – महिलाओं में मासिक धर्म चक्र 21 से 28 दिन होता है । इनसे अधिक या कम होने पर अनियमित मासिक धर्म चक्र कहा जाता है । वही एक्सपर्ट का कहना है कि मासिक धर्म नियमित रूप से एक निश्चित अंतराल में होना चाहिए । यही कारण है पीरियड्स को जल्दी लाने का प्रयास करती हैं ।
  • रजोनिवृत्ति से बचने के लिए – एक निश्चित उम्र के पड़ाव के बाद रजोनिवृत्ति होना आम हैं । ऐसे में महिलाओं को अधिक उम्र सताने लगती हैं । रजोनिवृत्ति के दौरान नियमित पीरियड्स की समस्या आम हैं । इसके लिए विशेषज्ञ डॉक्टर से परामर्श लेना अनिवार्य समझे ।

पढ़े – ओवलेशन पीरियड्स के लक्षण । Ovulation periods in hindi.

रुका हुआ पीरियड्स लाने के घरेलू उपाय । Ruka huaa Periods jaldi lane ke upay.

मासिक धर्म को नियमित रूप से लाने के लिए हमें कुछ घरेलू उपाय करते रहना चाहिए जिससे नियमित बनी रहे और इस परेशानी से बच्चे जैसा कि हमारे घर के बड़े बुजुर्ग कहते हैं कि –

अदरक या सोंठ से जल्दी पीरियड्स में लाने के उपाय । Adrak se Periods jaldi lane ke upay.

हमें ऐसा लगता है कि हम यात्रा पर जाएंगे या किसी धार्मिक कार्यक्रम में शामिल होना है परंतु यह रज स्वला बाधक न बन जाए । ऐसी स्थिति में हर महिला की चाहत होती है समय से पहले महावारी आ जाए तो आपको लगभग दस दिन पहले से अदरक या सोंठ का पाउडर, शहद संग मिलाकर चटनी की तरह चाटने से महावारी जलदी लाने में सहायक होती है।

लहसुन से जल्दी पीरियड्स लाने के उपाय । Periods jaldi lane ke upay.

निश्चित तिथि से 15 दिन पहले से कच्चे लहसुन की आठ दस कलियॉं हलकी सी दूंचकर सुबह खाने से महावारी जलदी आ जाती है। क्योंकि लहसुन की तासीर गरम होती है।

अजवाइन से पीरियड कैसे लाए । Ajwain se periods kaise laye.

• अजवाइन को हलका दर दरा करके उसमें थोड़ा सा गुड़ मिलाकर सेवन करे ।
• एक टी स्पून अजवाइन को  कुनकुने पानी से फंकी लगाने से भी महावारी जलदी लाने में मददगार होती है।
• एक गिलास पानी में एक चम्मच या 6 ग्राम अजवाइन को उबाल लें पानी को चलनी से छान लें इस पानी का दिन में तीन बार सेवन करें। महामारी को जल्दी लाने में मदद करता है।
• अजवाइन, गुड़ और सोंठ मिलाकर लड्डू बनाकर खाने से भी महावारी को जलदी लाने में मदद करता है।

हरीरा से जल्दी पीरियड्स लाने के घरेलू उपाय। Harira se Periods jaldi lane ke upay.

हरीरा जापे में बना कर जच्चा को पेट की सफाई हेतु खिलाया जाता है। इसे देशी घी अथवा सरसों के तेल में बनाया जाता है। हल्दी, सोंठ, छोटी पीपल और अजवाइन साथ ही सूखे मेवा का भी प्रयोग किया जाता है।हरीरा खाने से महावारी जल्दी आ जाती है ।

जीरा से जल्दी पीरियड्स लाने के उपाय । zire se Periods jaldi lane ke upay.

जीरा की तासीर अजवाइन की तरह गर्म होती है । निश्चित तिथि के 15 दिन पूर्व से ही जीरे को पानी में भिगोकर  उबाले और उस पानी को छानकर नियमित रूप से दिन में तीन बार सेवन करें । जो महावारी को चलाने में मदद करता है। कच्चा जीरा और गुण दोनों को एक साथ मिलाकर खाने से भी महाबली कोशिक रुलाने में मदद मिलती है साथ ही पेट की गंदगी भी साफ होती है।

जायफल से जल्दी पीरियड्स लाने के उपाय । Jayfal se Periods jaldi lane ke upay.

जायफल का सेवन करने से महावारी को समय से पूर्व लाया जा सकता जा सकता है क्योंकि जायफल स्वयं में इतना गर्म होता है कि छोटे बच्चे को जब सर्दी लग जाती है । तब हम जायफल का प्रयोग करते हैं और जायफल का प्रयोग किस तरह से किया जाता है । उसे दूध में उबाला जाता है । उस की तासीर गर्म होती है इसलिए पहले हम दूध में उबालते हैं फिर उसे ठंडा होने पर घिस कर के उसका लोशन जो लिक्विड होता है । वह बच्चे की हथेली में या पैरों में लगाया जाता है ‌अब आप समझ जाइए कि जायफल की तहसीर कितनी गर्म होती है।

पीरियड की तारीख से 15 दिन पहले जायफल को घिस कर के उस लिक्विड को दिन में दो बार अगर सेवन करते हैं तो महामारी शीघ्र आ सकती है।

Periods jaldi lane ke Gharelu upay.

पीरियड्स जल्दी लाने के उपाय । Periods jaldi lane ke Gharelu upay.

संभोग – पीरियड्स जल्दी लाने में संभोग सबसे अहम भूमिका निभाता है । शारीरिक संबंध बनाने से हार्मोन्स का नियमन होता हैं । तनाव से मुक्ति मिलती हैं । जो पीरियड चक्र को नियमित लाने में कारगर होता है ।
दाना मैंथी को पानी में भिगोकर रख दें। फिर पानी छिनकर पीने महावारी जल्दी आने में सहायक होती है
● अनार का जूस – अनार का जूस कम से कम दिन में दो बार पी लेना चाहिए।इसकी की तासीर गरम होती है।
तिल के लड्डू या गुड़ और तिल की गजक भी बहुत ही गुणकारी होती है।

पढ़े – इज़ोल टॉनिक के फायदे व नुकसान । Eazol health tonic uses in hindi.

क्या खाने से पीरियड्स आते है ? Kya khane se Periods jaldi aate hai.

गुड़ खाने से पीरियड्स आने के चांस ज्यादा होती है क्योंकि इनकी तासीर गर्म होती है ।
दालचीनी, गाजर व अदरक भी काफी असरदार मानी जाती है ।
सिट्रस फल से विटामिन सी मिलता है जो महावारी का शीध्रपतन होता । प्रोजेस्ट्रन में बढ़ोतरी होती है। जिससे पीरियड़स जलदी होते हैं।
कच्चा पपीता – कच्चा पपीता आसानी से मिल जाता है। पपीता खाने से गर्भाशय में तनाव या कसाव रहता है जिस कारण महावारी समय पर आती है। कच्चे पपीते का जूस बनाकर पीने से भी लगभ मिलता है।
सौंफ – सौंफ को पानी में भिगोकर । उबाल कर उसे छानकर पानी को पीने से लाभ होता है ।

सलाहमहावारी ( Periods ) सम्बंधित परेशानी हेतु बिना किसी गायनिक के परामर्श बिना कदम नहीं उठाना है। घेरलू उपाय कभी कभी विकराल परेशानी बन जाते हैं । यही कारण है कि डॉक्टर इन उपायों को नहीं मानते हैं । अतः इस विषय पर योग्य डॉक्टर से परामर्श लेना अनिवार्य समझे