पेनिस मोटा करने की होम्योपैथिक दवा – लंबा व बड़ा करने के उपाय

Penis mota karane ki homeopathic dawa.

पेनिस मोटा करने की होम्योपैथिक दवा । पेनिस का आकार बढ़ाना या मोटा करना सोचने के बहुत सारे कारण होते हैं। कुछ लोग अपने पार्टनर से खुश नहीं होते तथा वे उन्हें संतुष्ट नहीं कर पाते हैं। कुछ लोगों को आपने लिंग के आकार के बारे में शर्मिंदगी महसूस होती है या उनके अन्य लोगों से तुलना में छोटा महसूस करते हैं। कुछ लोग इसके कठोर होने का अभाव में बाधा मानते हैं और वे अपने आपको निराश महसूस न करें इसलिए, उनके लिए उपचार का प्रयास करते है ।

एक्सपर्ट के अनुसार पेनिस के आकार में बदलाव लाने के विभिन्न तरीके होते हैं। जैसे व्यायाम, आहार बदलाव और दवाओं का सेवन शामिल हो सकता है। हालांकि, महत्वपूर्ण है कि हर कोई पेनिस के आकार के लिए उपचार नहीं देना चाहिए क्योंकि इससे व्यक्ति के स्वास्थ्य पर प्रभाव पड़ सकता है और साइड इफेक्ट हो सकते हैं। इसलिए, पेनिस के आकार में किसी भी बदलाव के लिए व्यवस्थित चिकित्सा तथा व्यायाम तथा स्वस्थ आहार के साथ संतुलित जीवनशैली का पालन करना बेहद आवश्यक होता है ।

पढ़े – ढीलापन की दवा पतंजलि – सख्त करने की 5 आयुर्वेदिक दवा

पेनिस छोटा होने के कारण –

ज्यादातर पुरुषों के लिए पेनिस का औसत आकार 5.16 इंच यानी (13.12 सेमी) होता है। इससे कम या ज्यादा आकार भी समान रूप से सामान्य हो सकता है। पेनिस की साइज महत्वपूर्ण तब होता है जब यह संबंधों, स्वास्थ्य और संतुलित जीवनशैली के लिए दुष्प्रभाव डालता है। छोटे या बड़े पेनिस के साथ संबंध बनाने में कोई समस्या नहीं होती है, लेकिन संबंधों में कमजोरी, अपने शरीर पर असुरक्षित महसूस करना और संतुलित जीवनशैली न होने के कारण कुछ लोगों को इससे संताप होता है। अगर आपको इसमें भी संदेह हो तो आप अपने डॉक्टर से निवेदन कर सकते हैं जो आपको संदेह के मामलों से मुक्त करवा सकेगा। पेनिस के छोटे होने के कुछ कारण इस प्रकार से है –

  • जेनेटिक फैक्टर्स – असंतुलित जीवनशैली आदि के अलावा, जेनेटिक कारण और परिवार के इतिहास के कारण भी पेनिस के छोटे होने के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं।
  • समय पर आहार नहीं लेना – आधुनिक जीवनशैली और खाने की आदतों के कारण, बड़े पैमाने पर लोग फास्ट फूड और तले हुए चीजे खाना शुरू कर देते हैं। ऐसे में शरीर को उसकी आवश्यकताओं के आधार पर पोषक तत्व नहीं मिल पाते जिससे पेनिस भी छोटे हो सकते हैं।
  • मन की चिंताए – अधिक तनाव या मन की चिंताओं के कारण भी पेनिस के फायदे कम हो सकते हैं।
  • नियमित सेक्सुअल गतिविधियों की कमी – नियमित सेक्सुअल गतिविधियों की कमी भी यह संभव है कि यह छोटे पेनिस के मुख्य कारणों में से एक हो सकती है।
  • गुप्त रोगों, चोट और घावों का छोटा या कमजोर पेनिस के कारण हो सकता है – छोटे और कमजोर पेनिस के तथ्यों के पीछे कई बीमारियों और घावों का रूप हो सकता है, जिससे पूरे शरीर को नुकसान हो सकता हैं ।

पढ़े – टाइमिंग बढ़ाने की होम्योपेथिक दवा – शीघ्रपतन की होम्योपेथी दवा

पेनिस मोटा करने की होम्योपैथिक दवा –

पेनिस की मोटा करना कोई आसान काम नहीं है। लेकिन कुछ ऐसी होम्योपेथिक मेडिसिन है जो आपकी मदद कर सकती है हालांकि, बहुत से लोगों को अपने निजी अंग को स्वस्थ रखने की जरूरत महसूस होती है। होम्योपैथिक चिकित्सा पद्धति बहुत सारे ऐसे उपचारों के बारे में बताती हैं जो इनमें से कुछ मायने रखते हैं जो कम से कम परीक्षित हो चुके हैं। यहां कुछ उपचार हैं जो कुछ मायने रखते हैं जैसे –

  1. Agnus Castus: यह दवा स्तंभन दोष दूर करने में मदद कर सकती है जो थकावट और दुबलापन का कारण बनते हैं। यह एक बहुत ही परीक्षित एवं सुरक्षित होम्योपैथिक दवा है जो आपको बेहतर परिणाम देने में उपयोगी हो सकती है।
  2. Lycopodium: यह होम्योपैथिक की सबसे बेस्ट दवा है जो कि मुख्य रूप पुरुषों के मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य और स्तंभन दोष से संबंधित समस्त समस्याओं और रोगो का ट्रीटमेंट करती है। इनका सेवन करने से लिंग लंबा, बड़ा व ताकतवर होता है ।
  3. Yohimbinum: यह दवा शीघ्रपतन को रोकने में सहायता प्रदान करती है जो आमतौर पर सेक्सयुअल डिसऑर्डर के लिए संबंधित होता है।
  4. Caladium : यह दवा मनोवैज्ञानिक और स्तंभन दोष से संबंधित समस्याओं का इलाज करती है।
  5. Sabal Serrulata : यह दवा प्रजनन पूर्णता बढ़ाने में मदद कर सकती है। इनका सेवन करने से विभिन्न प्रकार के गुप्त रोगो व प्रजनन विकारो से निजात मिलती हैं ।
    ध्यान रखें कि होम्योपैथिक दवाओं को सेवन करने से पहले अपने होम्योपैथ डॉक्टर से सलाह लें। होम्योपैथिक उपचार दवाओं को अस्वीकार करने वाले लोगों को इन दवाओं का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए ।

पेनिस मोटा करने की होम्योपैथिक दवा एव सेवन करने का तरीका –

पेनिस को मोटा करने, लिंग ताकतवर बनाने साथ ही साथ बड़ा व और शीघ्र सख्लन को रोकने के लिए होम्योपेथी मेडिसिन उपयोग की जाती हैं। रोगी की आवश्यकता और स्थिति के अनुसार कुछ होम्योपैथिक दवाएं ली जा सकती हैं। हालांकि, इससे पहले एक पेशेवर होम्योपैथ से सलाह लेने की सलाह दी जाती है।

  1. Cypripedium pubescens
  2. Caladium seguinum
  3. Baryta carbonica
  4. Selenium
  5. Agnus castus
  6. Nux vomica

अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए निम्नलिखित सेवन विधियों का पालन करें –
1. हर बार दवाई का सही मात्रा और सही समय लें।
2. सेवन के दौरान तुरंत खाने या पानी के साथ गोलियों का सेवन न करें।
3. दवाई का सेवन भोजन से 30 मिनट पहले या बाद में करें।
4. दवाई को अनुमति दी गई मात्रा से अधिक न लें।
5. भारी भोजन न करें और आपके आहार में पोषक तत्व शामिल करें । इस बात का ध्यान दें कि होम्योपैथिक दवाओं को सन्यास सुलभ हैं, इसलिए सुझाव के बिना किसी भी दवा का सेवन न करें ।

पढ़े – पेनिस की नसो के लिए योग – पुरुषो के लिए 7 असरकारी योग

पेनिस को बड़ा व ताकतवर बनाने की होम्योपेथिक दवा –

पेनिस का आकार बढ़ाने, लंबा, कड़क व ताकतवर बनाने के लिए होम्योपेथी की कुछ मेडिसिन उपयोगी साबित हो सकती हैं, जैसे –

  1. लच्छासना (Lycopodium) – इस दवा का सेवन पेनिस के आकार को बढ़ाने व ताकतवर बनाने में मदद करती है और प्रजनन शक्ति को बढ़ाती है। इसे 30 मिलीग्राम पानी में तिन बार प्रतिदिन सेवन करना चाहिए।
  2. अश्वगंधा (Withania Somnifera) – इस औषधि से निर्मित दवाओं का सेवन भी पेनिस के आकार को बढ़ाने के साथ साथ मोटा व ताकतवर बनाने में उपयोगी साबित हो सकता है और लैंगिंग शक्ति को भी बढ़ाता है। इसे पानी में दो बार प्रतिदिन सेवन कर सकते हैं।
  3. स्टाफिसेग्रिया (Staphysagria) – यह दवा जनन शक्ति में वृद्धि करता है और पेनिस के आकार को बढ़ा कर मोटा, कड़क व कठोर बनाने कारगर हैं । इसे 6 मिलीग्राम की शक्ति वाली दवा दोनों जोड़ों में तीन-तीन बार प्रतिदिन लेना चाहिए।

यदि आप होम्योपैथिक दवाओं का सेवन करना चाहते हैं, तो इन्हें केवल होम्योपेथी विशेषज्ञ के सलाह के अनुसार लें। किसी भी तरह की दवाई और सुझाव के लिए विशेषज्ञ डॉक्टर से सलाह लें।

अंतिम शब्द – पेनिस को मोटा, लंबा, बड़ा व ताकतवर बनाने के लिए दवाओं के अतिरिक्त कुछ घरेलू उपाय जैसे योग, व्यायाम व हेल्दी लाइफ स्टाइल को अपनाकर किया जा सकता है । यहां यह भी सच हैं कि जो कुदरत ने दिया है वो काफी हैं । यह लेख आपकी जानकारी के लिए है । अंत: इन दवाओं का व्यक्तिगत जीवन मे इस्तेमाल करने से पहले योग्य डॉक्टर से परामर्श लेना आवश्यक समझे ।

Leave a Comment