पतंजलि सफ़ेद पानी की दवा – लिकोरिया की 5 आयुर्वेदिक दवा

Patanjali safed pani ki dawa.

पतंजलि सफ़ेद पानी की दवा । श्वेत प्रदर (लिकोरिया) महिलाओं में पाई जाने वाली एक लैंगिंग प्रॉब्लम है । जिस के कारण महिलाओं के गुप्तांग से सफ़ेद पानी आता है। जिससे महिलाओ को गुप्तांग खुजली, जलन और दर्द जैसी समस्याओ का सामना करना पड़ता हैं । एक्सपर्ट के अनुसार वर्तमान की बदलती लाइफ स्टाइल एव अव्यस्थित खानपान के कारण ऐसी समस्या होती हैं ।

वही एक्सपर्ट का मानना है कि महिलाओ मे सफ़ेद पानी यानी लिकोरिया एक गुप्त समस्या हैं । इसे स्त्री धात रोग भी कहते हैं । यह समस्या कभी कभी इतनी खतरनाक होती हैं कि महिलाओ को कमर दर्द, पेड़ू दर्द, थकान व शारीरिक कमजोरी का सामना करना पड़ता है ।

एक्सपर्ट के अनुसार लिकोरिया एक सफ़ेद रंग का चिपचिपा सा, कभी कभी हल्के पीले रंग का पदार्थ गुप्तांग मार्ग से निकलता है । जब यह बदबूदार हो जाता हैं तो मरीज़ को तुरंत डॉक्टर से सम्पर्क करना चाहिए । अन्यथा अपने खानपान मे बदलाव जैसे मिठा, तलवा व गर्म तासीर युक्त चीज़ो से परहेज करके बचा जा सकता है तो चलिए जानते हैं – सफ़ेद पानी की दवा के बारे में –

पढ़े – पेनिस को ताकतवर बनाने के उपाय Patanjali. लिंग सख्त करने की दवा

महिलाओ मे सफेद पानी आने के कारण –

महिलाओ मे सफ़ेद पानी की समस्या आम है । यह किसी भी उम्र मे कभी हो सकती है । आमतौर पर पीरियड्स के जस्ट पहले और जस्ट बाद मे हलका सफ़ेद रंग का पानी गिरना एक प्राकृतिक प्रक्रिया है । लेकिन कभी कभी बहुत ज्यादा हो जाती हैं । बदबू दार सफ़ेद पानी आने लगता है । कभी कभी तो गाढ़ा व पीले रंग का भी गिरता है ।

महिला रोग विशेषज्ञ की माने तो मुँह पानी जितना योनि का गिलापन तो रहेगा लेकिन जब अधिक गिरने लगे साथ ही थकान व आलस अधिक हो जाए तो तुरंत चिकित्सा परामर्श लें । स्त्रियों मे सफ़ेद पानी गिरने के कारण इस प्रकार है –

  • सिकुड़ा ग्रंथि की समस्या – महिलाओं में सफेद पानी का एक कारण अंतिम अवधि व सिकुड़ा ग्रंथि संबंधी समस्या हो सकती है।
  • खानपान के कारण – अधिक मिठा, तलवा, तैलीय व चटपटा खाने से सफ़ेद पानी गिरने की समस्या हो सकती हैं ।
  • मानसिक रूप से तनाव व डिप्रेशन – मानसिक रूप से अधिक तनाव या चिंता के कारण भी श्वेत प्रदर की प्रॉब्लम हो सकती हैं ।
  • अन्य कारण – सफेद पानी के लिए अन्य कारण जैसे योनि के संक्रमण के कारण, अन्य संक्रमण जैसे सोरायसिस, पीरियड्स शुरू होने वाले समय में श्वेत प्रदर और एलर्जी के कारण भी यह प्रॉब्लम हो सकती हैं ।

पतंजलि सफ़ेद पानी की दवा –

पतंजलि की दवा एक प्रकार आयुर्वेदिक दवा है जो प्राकृतिक तत्वों से बनती है। यह दवा उन सभी महिलाओं के लिए उपयोगी होती है जो सफेद पानी से पीड़ित होती हैं।

इस दवा के मुख्य घटक श्वेत अर्जुन के छाल, बंदीपाल छाल, शिवलिंगी बीज, सफेद जीरा, नागरमोथा, दालचीनी, जायफल, काली मिर्च, जंगली प्याज़, लोंग, आदि हैं। इसके अलावा इसमें ऑयल ऑफ अजवाइन और गन्धक भी मिलाया जाता है।

व्यक्ति को पतंजलि सफेद पानी की दवा का अनुसरण करना चाहिए । आमतौर पर, यह दवा सुबह और शाम एक गोली के रूप में सेवन की जाती है। इसे एक गिलास गर्म पानी के साथ ली जाना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इस दवा का सेवन केवल डॉक्टर द्वारा सिफारिश किए जाने पर किया जाना चाहिए ।

पढ़े – महिलाओ को जोश की गोली का नाम प्राइस – 5 असरकारी दवा

दिव्य स्त्री रसायन वटी – पतंजलि सफ़ेद पानी की दवा –

यह दवा स्त्रियों मे सफेद पानी के लिए उपयोग में ली जाती है। यह दवा महिलाओ की प्रजनन शक्ति को बढ़ाती है और फंगल इंफेक्शन से बचाने में मदद करता है। इनका सेवन दिन में दो बार एक गोली के साथ गर्म दूध या पानी के साथ कर सकते हैं। दिव्य स्त्री रसायन वटी एक आयुर्वेदिक दवा है जो महिलाओं के स्वास्थ्य सम्बंधित समस्याओं के लिए उपयोग की जाती है। इसमे उपस्थित घटक जो कि विभिन्न की स्त्री जनित प्रॉब्लम के लिए उपयोगी है । दिव्य स्त्री रसायन वटी के घटक व फायदे –

  1. आंवला – यह आंखों के स्वास्थ्य को बढ़ाता है।
  2. गुड़ूची – इसके विशिष्ट गुणों से महिलाओं के स्तनों के स्वास्थ्य को बढ़ाता है।
  3. शतावरी – इसे पानी में उबालकर दी जाने वाली जड़ें मुंह के अलावा वजन बढ़ाती हैं।
  4. खजूर – इससे महिलाओं की ताकत बढ़ती है और अनेक भयों से मुक्त होती हैं।
  5. गोखरू – इससे ब्लड प्रेशर होने के कारणों से मांसपेशियों के स्वास्थ्य को बढ़ाता है।

इस दवा का उपयोग महिलाओं के लिए नपुंसकता और स्तनों में दर्द जैसी समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता है। यह महिलाओं की स्किन को भी सुधारता है और उन्हें काले अंग दूर करने में मदद करता है। इसका उपयोग पीरियड्स से जुड़ी समस्याओं जैसे कि अधिक या कम ब्लड डिस्चार्ज, पीरियड्स के दर्द आदि के लिए भी किया जाता है।

दिव्य स्त्री रसायन वटी छोटे बच्चों के लिए अनुशंसित नहीं है। अन्य दवाओं के साथ इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए। इसका अधिक सेवन करने से स्वास्थ्य को खतरा हो सकता है।

दिव्य शिलाजीत रसायन वटी – सफ़ेद पानी की दवा ayurvedic. –

यह स्त्री जनित रोगो जैसे वाइट डिस्चार्ज, महिला बाँझपन, थकान आदि के लिए रामबाण औषधि हैं । जो अश्वगंधा, शिलाजीत, आंवला, बहेड़ा, हरड आदि प्राकृतिक घटको से मिलकर बनी है । यह दवा शरीर में विभिन्न प्रकार के पोषक तत्वों की कमी को पुरा करके बॉडी को हेल्दी बनाती है । वही हार्मोनल असंतुलन को भी ठीक करती है । यह महिलाओ मे होने गुप्त रोग जैसे लिकोरिया, गुप्तांग संक्रमण आदि के लिए रामबाण दवा है ।

सफ़ेद पानी यानी वंजयना वाइट डिस्चार्ज के उपचार के लिए इस दवा को एक – एक गोली सुबह – शाम गुनगुने दूध के साथ भोजन करने के उपरांत सेवन करे । इस दवा का कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं है फिर भी अनुशासित खुराक के रूप मे डॉक्टरी परामर्श से सेवन करें ।

पतंजलि लिकोरिया की दवा –

लिकोरिया के लिए पतंजलि की कई दवाए हैं जिनका विवरण हम उपर बता चुके हैं । और अन्य दवाओं के बारे में भी नीचे बताने जा रहे है । ये दवाइयां उपयोगी होने के साथ साथ किफायती भी है तो चलिए जानते हैं –

  1. पतंजलि दिव्य पत्रांगासव – यह सफेद पानी, मौसम बदलने से होने वाली त्वचा समस्याओं जैसे ऐसे रोगों के लिए उपयोग किया जाता है। इनके अलावा थकान व कमजोरी के लिए भी लाभकारी है ।
  2. पतंजलि दिव्य शतावर वटी – यह वटी सफेद पानी, असामान्य योनि संक्रमण और योनि के रक्त विकारों, ब्रेस्ट बढ़ाने के लिए उपयोग में लाया जाता है। आप दिन में 2-3 गोलियों को छः महीने के लिए खा सकते हैं।
  3. पतंजलि करेला आंवला जूस – यह एक पेय पदार्थ है जो आवला व करेला से तैयार किया जाता हैं । यह लिकोरिया के अलावा मधुमेह रोग के लिए भी कारगर है ।

पढ़े – सफ़ेद पानी का रामबाण घरेलू इलाज । Likoriya ka gharelu ilaaj.

महिलाओ मे सफ़ेद पानी की दवा Gharelu.

लिकोरिया यानी वाइट डिस्चार्ज की आयुर्वेदिक दवा के अलावा कुछ घरेलू उपाय भी है जिसे आप घर पर भी कर सकते है । तो चलिए जानते हैं –

  • ज्यादा से ‌ज्यादा पानी पीने से शरीर से विषैले तत्व बाहर निकलते हैं और सफेद पानी को कम करने में मदद करते हैं।
  • हल्दी, नीम, नारियल का पानी और नींबू का रस सफेद पानी के इलाज में उपयोगी होते हैं। आप इन्हें अपने आहार में शामिल कर सकते हैं या इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • लिकोरिया के ट्रीटमेंट के लिए असाधारण तरीके शामिल होते हैं । अपने निजी अंगों को स्वच्छता रखें, सुषम्णा नली का पानी पियें, संतुलित आहार लें।
  • कोई भी डेट इस्तेमाल करने से पहले स्पष्ट हाथों से धोते रहें।
  • डॉक्टर द्वारा मुख्य उपचार के रूप में औषधि दी जाएगी, सफेद पानी के कारण जो संक्रमण संबंधित हैं, तो ऑटिबायोटिक्स संबंधी दवाएं दी जा सकती हैं।
  • एन्टीफंगल या एंटीबाइटिक दवाओं का सेवन कर सकते हैं। डॉक्टर से मिलना और उपचार के लिए सलाह लेना जरूरी है।
  • स्वस्थ जीवनशैली, गुप्तांगो की साफ सफाई, योग और व्यायाम भी मददगार उपाय हो सकते हैं।

अंतिम शब्द – आज के लेख में दी गई समस्त जानकारी का उद्देश्य केवल शैक्षणिक है । यदि आप सफ़ेद पानी की समस्या के शिकार है तो तुरंत खानपान मे बदलाव करते हुए चिकित्सक से परामर्श लें । LRseju.

Share