Site icon Global Health Tricks

मसूर दाल के फायदे, नुकसान । Masoor dal ke fayde in hindi.

Masoor dal ke fayde.

Masoor dal ke fayde in hindi. भारत एक कृषि प्रधान देश है। जिसमे अनेक प्रकार की फसलो का उत्पादन किया जाता है। जिसमे दलहन फसल भी अपनी मुख्य भूमिका निभाती है। Lentils यानी मसूर दाल विभिन्न प्रकार पोषक तत्वों से भरपूर होती है । जो हमेशा जवान एवं हष्टपुष्ट बनाये रखते हैं  मसूर उत्पादन में विश्व में भारत का दूसरा स्थान आता है। 14 लाख हैक्टेयर मे उत्पादन होता है। जो उत्पादन लगभग 9 लाख टन होता है।

मसूर मुख्यत तीन प्रकार की होती है । काली मसूर, (साबुत ) – यह मसूर काली रंग की होती है।  मलका मसूर – काली मसूर के छिलका उतारकर इस मसूर को बनाया जाता है। लाल या गुलाबी मसूर ( Red lentils ) – इस मसूर का रंग लाल या गुलाबी होता है। तो चलिए जानते है Masoor dal ke fayde aur nuksaan के बारे में –

Also read

तुलसी के 11 फायदे नुकसान । Tulsi ke fayde nuksan in hindi.

महिलाओं के लिए अश्वगंधा के फायदे । Ashwagandha benefits for women.

मसूर के पोषक तत्व | Masoor Dal ke poshak tatwa.

मसूर दाल में अनेक प्रकार पोषक तत्व पाए जाते है । जैसे प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, केल्शियम, आयरन, पोटेशियम, विटामिन, वसा, रेशा, राइबोफ्लेविन, थाईबिन आदि ।

इसके अलावा नियासिन, माइक्रोन्यूट्रीएंटस, प्रीबायोटिक, प्लेवोनोइड, पेप्टाइडस, मैग्नीशियम, फास्फॉरस, न्यूरोजेनिस, माइक्रोग्राम फॉलेट, एंटीऑक्साइडेट, और लेक्टिनएंटी भी पोषक तत्व पाए जाते हैं।

मसूर दाल के फायदे । Masoor dal ke fayde in hindi.

मसूर के प्रत्येक भाग में औषधिय गुण पाई जाती है।  पत्ता – मसूर के पत्तों को सुखाकर फिर इन पत्तों को पीसकर औषधि बनाई जाती है। बीज – मसूर के बीज को पीसकर पाउडर बनाया जाता है । जो औषधि बनाने में काम मे लिया जाता है। जो अनेक प्रकार रोगों का निवारण मे सहायक है। मसूर की दाल विभिन्न प्रकार रोगों को भी मिटाती है । जैसे – दस्त, बहुमूत्र, प्रदर, आदि रोगों को जड़ से खत्म कर देती है। यह बालों व स्किन के लिए भी फायदेमंद है । तो चलिए जानते हैं – Masoor Dal ke fayde.

मसूर दाल कैंसर से निजात । Masoor Dal ke fayde in cancer.

इस दाल के उपयोग करने से कैंसर रोग को कम कर सकता हैं। क्योकि इस दाल में लेक्टिनएंटी प्रोटीन मे कैंसर के गुण पाए जाते हैं। और फेनोलिक योगिको के साथ घुलीन होकर टयूमर बढ़ने ovVकी क्षमता को रोकता है। इसकी क्रिमोप्रिवेटिव क्षमता यानि कैंसर रोग की बचाव क्षमता भरपुर गुणयुक्त है। इस प्रकार यह दाल का उपयोग करने से कैंसर रोग से निजात मिल सकती हैं।

मसूर दाल वजन घटाने मे सहायक । Lentils benefits for weight loss.

मसूर की दाल सेवन करने से वजन घटाने मे सहायक सिध्द हो सकती है। क्योकि इस दाल में भरपुर मात्रा में फाइबर व प्रोटीन पाया जाता है। जो भूख को तत्काल बुझा देती है। इस कारण से यह वजन घटाने मे सहायता करता है। लेकिन इसके साथ – साथ व्यायाम करना भी जरूरी है।

मसूर दाल पाचन क्रिया में लाभदायक ।
कभी – कभी हम भारी भोजन कर लेते हैं। तब पाचन क्रिया में विपरीत प्रभाव पडने लगता है। जिससे पेट दर्द होने लगता है। तब पाचन क्रिया प्रभावी ढंग से नही हो पाती है। उस समय एक कटोरी दाल पीने से पाचन क्रिया सुचारु रूप से कार्य करने लग जाती है।

मसूर दाल हड्डीयो व दाँतो को सुरक्षित । lentils benefits for teeth.

हमारे जोड़ो मे दर्द और दाँतो मे पायरिया रोग तब होता है। जब हमारे शरीर में कल्शियम की कमी होती है। इस दाल का उपयोग करने से हमारे दाँत मजबूत और जोड़ों मे दर्द से काफी राहत मिल सकती है। क्योकि इसमे केल्शियम, मैग्नीशियम और फास्फॉरस होता है। जो यह जोड़ो मे दर्द और दाँतो का रोग को जड़ से मिटाता है।

मसूर दाल माँसपेशियो मे वृध्दि ।
सुडोल शरीर हमारे किसी भी कार्य करने मे सहज प्रदान करता है। क्योकि इस दाल मे भरपुर मात्रा में प्रोटीन पाई जाती है। जो माँसपेशीयो को मजबुत और वृध्दि करता है। जिससे शारीरिक विकास होता है।

मसूर दाल प्रजनन शक्ति मे सहायक । lentils benefits for infelity.

जब हमारा शरीर दुर्बल होगा तब हम आन्तरिक व बाहरी कार्यो को अच्छी तरह से नही कर पाते हैं। और जीवित गुणसूत्र बहुत कम मात्रा मे होने लगते हैं। तो इस दाल का उपयोग करने से जीवित गुणसूत्रों की मात्रा बढने लगेगी। क्योकि इसमे भरपुर मात्रा मे प्रोटीन तत्व मौजुद होता है। जो प्रजनन क्षमता को बढ़ाता है।

मसूर दाल गर्भधारण मे सहायक ।
अगर किसी महिला को गर्भधारण करने मे समस्या हो रही हो तो इस दाल का जरूर करना चाहिए। क्योकि इसमे फॉलिक एसिड पाया जाता है। जो न्यूरल टयूब को दूषित होने से बचाता है। जो महिला सुरक्षित गर्भधारण कर सकती है।

मसूर दाल जवानी बनाए रखे । Masoor dal ke fayde in body.

मसूर की दाल नियमित सेवन करने से आप अपनी जवानी को निरंतर बनाए रख सकते हो। क्योकि इस दाल में सभी तत्व मौजुद है। जो हमारी कोशिका तंत्र का संचालन करने मे सहायक होता है। और हमारे हृदय को संचालन करने मे कोई समस्या नही आती है।

मसूर दाल बालो की देखभाल मे सहायक । masoor Dal ke fayde balo ke liye.

आप अपने बालो को मुलायम और चमकदार बना सकते हैं। क्योकि मसूर की दाल में प्रोटीन और एंटीऑक्साइडेट तत्व मौजुद होते हैं। यह दोनों तत्व बालो का रूखापन दूर करने मे एवं बाल नही झड़ते है व मजबुत बनाने मे सहायक होते हैं।

मसूर दाल रक्त वृध्दि मे सहायक ।
मसूर की दाल उपयोग करने पर खुन की बढ़ोतरी हो सकती है। और खुन को गाढा बनाता है। क्योकि इस दाल मे सभी तत्व अधिक पाया जाता है।

मसूर दाल के फायदे डायबिटीज के लिए । Masoor Dal ke fayde Diabetes ke liye.

डायबिटीज वालो के लिए मसूर की दाल रामबाण औषधि हो सकती है। क्योकि इस दाल में कई प्रकार के औषधिय गुण पाये जाते हैं। बस जरूरत है जानकारी प्राप्त करने की जो अनेक रोगों मे दवाई के रूप मे काम ले सकते हैं। क्योकि इसमे पॉलीफेनोल्स और बायोक्टिव मनुष्य के ब्लड शुगर, लिपिड व लिप्रोटीन मेटाबाँलिज्म को नियत्रित करने की क्षमता रखता है। डायबिटीज वाले को 55 जी आई यानि ग्लाइसेमिक इंडेक्स से नीचे वाली दाल खानी चाहिए। जो इस दाल के अलावा चना, राजमा, मूंग, उडद, तुर, छोले, काले चने आदि दाले शुगर को लेवल मे रखती है। जो 55 जी आई से कम है। इन दालो मे घुलनशील फाइबर ब्लड शुगर को नियत्रित रखता है।

मसूर दाल के फायदे कोलेस्ट्राल लेवल मे रखे । Masoor dal ke fayde in cholesterol.

अगर आपको कोलेस्ट्राल को लेवल मे रखना है। तो इस दाल का जरूर उपयोग मे करना चाहिए। क्योकि इसमे अघुलनशील फाइबर तत्व मौजुद होते हैं। जो मल त्यागने मे आसानी होती है। जिससे कोलेस्ट्राल नही बनता है। इस दाल में काम्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट बहुत अधिक मात्रा में होता है। जिससे रक्त में ग्लूकोज का टुटना कम हो जाता है। और रक्त को पतला करता है। जिससे हृदय मे रक्त का संचालन निरन्तर होता रहता है। मूंग और मसूर की दाल दोनों को मिक्स करके भी उपयोग कर सकते हो। क्योकि इन दोनों मे पोषक तत्व की मात्रा समान पाई जाती है।

मसूर दाल के फायदे इन स्किन । masoor dal ke fayde in skin.

आज के युग में हर कोई अपनी त्वचा को चिकनी और सुंदर रखने के लिए अनेक प्रकार के फेस पैक का उपयोग करते है। तो आइए इस दाल से फेस पैक किस तरह से घर पर बना कर उपयोग मे ले सकते हैं।

◆ आवश्यकतानुसार मसूर की दाल को पानी में भींगो कर रख दे। आवश्यकतानुसार बादाम का तेल ले। और दाल मसल कर दोनों को मिलाकर चेहरे पर लगाए। फिर आधे घंटे बाद ठंडे पानी से धो दे। चेहरा निखरने लगेगा।

◆ अगर आपकी त्वचा रूखी है तो एक कटोरी दाल को पानी में भींगो कर रख दे। और एक कटोरी दुध बिना गर्म किया हुआ ले। फिर दोनों को मिलाकर रूखी त्वचा पर लगा ले। और आधे घंटे तक मलते रहे। फिर ठंडे पानी से धो ले। यह कम से कम सात दिन में एक बार जरूर करे। त्वचा चिकनी होने लगेगी।

मसूर दाल से झाइयां कैसे हटाए । Masoor Dal face pack.

◆ अगर आपके चेहरे पर काले धब्बे है तो आवश्यकतानुसार बादाम का तेल और थोडा सा नारियल का तेल ले। और भींगोइ हुई मसूर की दाल में मिलाकर फेस पैक बना ले। फिर काले धब्बे पर लगाए। चेहरा साफ होने लगेगा। यह फेस पैक महीने में चार बार जरूर लगाए ।

◆ अगर आपका रंग सावला है तो चंदन और संतरे के छिलके को बारीक पीसकर पाउडर बना ले। फिर मसूर की दाल को भींगोकर रख दे। उसके बाद तीनो को मिलाकर लगाए। आधा घंटे बाद ठंडे पानी से धो ले। त्वचा गोरी होने लगेगी।

◆ आवश्यकतानुसार मसूर की दाल को पीसकर पाउडर बना ले। इसमे अंडे की जर्दी को मिलाकर धुप में सुखा ले। फिर एक शीशी मे भरकर रख ले। उसके बाद 2 बूँध नींबू का रस 1 बड़ा चम्मच दुध इन सभी को मिलाकर सोने से पहले लगा ले। फिर आधे घंटे बाद ठंडे पानी से धो ले। आपका सावला रंग भी गोरा होने लगेगा।

◆ आवश्यकतानुसार मसूर की दाल को पीसकर रख ले। शहद और हल्दी ले। फिर तीनो को पानी मे घोलकर मिला ले। फिर थोड़ा – थोड़ा चेहरे पर लगाए। चेहरा निखरने लगेगा।

◆ एक चम्मच चावल के आटा मे आधा कप मसूर की दाल ले। फिर इसमे शहद मिला ले। चेहरे पर लगाने के बाद आधा घंटा तक रहने दे। फिर ठंडे पानी से धो ले। चेहरा चमचमाने लगेगा।

मसूर दाल के नुकसान । side effects of Lentils in hindi.

अति हमेशा हानि कारक ही होता है। इसलिए अति से हमेशा बचना चाहिए।

1. मसूर की दाल का अधिक उपयोग करने से उदर में गैस एवं एठन जैसी समस्या उत्पन्न हो सकती है। क्योकि इसमे अधिक फाइबर होता है।
2. इस दाल का निरंतर उपयोग करने पर हमारे शरीर में मौजुद आयरन, जिंक, मेग्नीशियम और कैल्शियम जैसे तत्वों को रोक सकता है।

3. दाल को अच्छी तरह से पकाकर उपयोग करे। नही तो गुर्दे की बिमारी उत्पन्न हो सकती है।
4. इसका अधिक सेवन करने पर एसिडिटी की शिकायत हो सकती है।

5. अगर आप मसूर की दाल से फेस पैक बना कर रोज लगाते हो तो स्कीन ड्राई बढ़ सकती है।
6. चेहरे पर झुर्रिया मिटाने के लिए लगातार उपयोग करने पर त्वचा पतली हो सकती है।

7. अगर आपकी त्वचा बहुत रूखी है। तो मसूर दाल का फेस पैक लगाने से बचे।
8. अगर आपके किडनी मे पत्थरी है। तो इस दाल का उपयोग करने से बचना चाहिए। नही तो स्टोन का आकार बढ़ सकता है।

9. अगर आपकी तेलीय त्वचा है तो इस दाल का उपयोग नही करे। नही तो आपको रूखापन त्वचा की शिकायत हो सकती है।
10. किसी भी चीजो को आवश्यकता से अधिक उपयोग करने पर हानि कारक प्रभाव डालती है। इसलिए सभी चीजो को आवश्यकता के अनुरूप  उपयोग करना ही बेहतर है ।। राम सिंह राजसमन्द, राजस्थान ।।

Share
Exit mobile version