लीची के फायदे और नुकसान । litchi khane ke fayde.

Litchi khane ke fayde

Litchi khane ke fayde in hindi. लीची एक प्रकार से ट्रॉपिकल फल है । यह एक सुगंधित होने के साथ स्वादिष्ट भी है । लीची में कई प्रकार के पोषक तत्व पाए जाते हैं जो हमारे शरीर के लिए बहुत फायदेमंद है । जिसे बच्चे, बूढ़े सभी जन पसंद करते हैं । इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व हमेशा सेहतमंद रखते हैं ।

लीची एक ऐसा फल है जो अधिकतर गर्मी में पाया जाता है इसलिए इनकी तासीर भी गर्म होती है । यही कारण है कि इनका अत्यधिक सेवन नहीं करना चाहिए । क्योंकि अधिक सेवन करने से नुकसान भी हो सकता है । तो आइए आज हम इस लेख के माध्यम से जानेंगे कि लीची खाने से क्या फायदा है ? इसे कब, कैसे खाये एवं नुकसान क्या है। प्रेगनेंसी में लीची के फायदे और नुकसान पर भी प्रकाश डालते हैं ।

Also read

कच्चा पालक खाने के फायदे नुकसान । Palak khane ke fayde.

खाली पेट कीवी खाने के फायदे । Kiwi khane ke fayde.

Table of Contents

लीची में कौन सा विटामिन पाया जाता है ? Vitamin in lychee.

लीची विभिन्न प्रकार पोषक तत्वों से भरपूर होता है जैसे विटामिन सी और बी6, नियासिन, बीटा कैरोटीन, राइबोफ्लेविन, तांबा पोटेशियम, फोलेट, फॉस्फोरस, मैग्नीशियम और मैग्नीज जैसे पोषक भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं जो हमारी बॉडी में ठंडक प्रदान करते हैं । इतना ही नहीं लीची खाने से इम्युनिटी भी मजबूत बनाने में सहायक होते हैं ।

सबसे ज्यादा लीची कहां होती है ?

सबसे ज्यादा लीची बिहार में होती है । इनके अलावा महाराष्ट्र, पंजाब, तमिलनाडु एवं कर्नाटक के कुछ हिस्सों में भी लीची की खेती होती है । दुनिया में चीन के बाद भारत ही एक ऐसा देश है जहां सबसे ज्यादा लीची उगाई जाती है । 50 लाख से ज्यादा लोग इस प्लांट से जुड़े हैं । देश में लीची उत्पादन में बिहार का हिस्सा लगभग सबसे ज्यादा 65% हैं । बिहार में कुल 30,600 हेक्टेयर भूमि पर लीची की खेती की जाती है । इसलिए भारत का यही राज्य सबसे ज्यादा लीची का उत्पादक राज्य है ।

लीची खाने के फायदे । litchi khane ke fayde in hindi.

हाइपरटेंशन तनाव को कम करने के लिए लीची का सेवन करना सेहतमंद है । सांस की प्रॉब्लम दूर हो जाती है। कई प्रकार के पोषक तत्व लीची में पाए जाते हैं । अधिक मात्रा में लीची खाने पर भी शरीर में ब्लड प्रेशर कम हो जाता है । सुस्ती एवं बेहोशी भी महसूस होती है । अगर आप ब्लड प्रेशर की दवाई खाते हैं तो इसे आपको लीची खाने में सावधानी रखनी होगी । दिन में 2 से 5 तक ही लीची खानी चाहिेए ।

रोजाना लीची खाने से फायदे । Rojana Litchi khane ke fayde.

नियमित रूप से लीची सेवन करने से चेहरे पर चमक एवं निखार आता है । वही बढ़ती उम्र के लक्षण भी कम नजर आते हैं । इसके साथ ही हमारे शरीर का विकास करने में भी लीची सहायक होती है ।

लीची खाना दिल के लिए फायदेमंद | Lychee benefits for heart.

बीटा कैरोटीन और ओलीगोनोल से भरपूर लीची हमारे दिल को स्वस्थ रखने में सहायक होती हैं ।

लीची से कैंसर कोशिकाओं को फायदा | Cancer ke liye litchi khane ke fayde.

लीची में कैंसर विरोधी तत्व पाया जाता है जो हमारे शरीर में कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकने में मदद करतीं हैं ।

लीची को ठंडक से फायदा | lychee benefits in winter.

अगर यदि किसी को ठंड लग रही है और आप थरथर कांप रहा है तो लीची का सेवन करने से भी उसे तुरंत फायदा मिलता है और ठंडक भी थोड़ी कम होती है ।

लीची से अस्थिमा को फायदा । Asthma me litchi khane ke fayde.

अगर यदि किसी व्यक्ति के अस्थिमा हैं और सांस लेने में दिक्कत आ रही है, तो लीची को खाने से सांस लेने में परेशानी या कम होती है ।

लीची से कब्जी में फायदा । Kabj me litchi khane ke fayde.

यदि किसी को कब्ज की शिकायत है तो लीची का प्रयोग करने से कब्ज दूर होती है ।

लीची से सेक्स लाइफ स्मूद । sexual life ke liye litchi ke fayde.

हमारी सेक्स लाइफ में कुछ गड़बड़ी आ रही है तो सेक्स लाइफ को हेल्दी बनाने के लिए भी लीची खाना फायदेमंद रहता है ।

लीची पाचन शक्ति के लिए फायदेमंद । Pachan shakti ke liye litchi ke fayde.

लीची हमारे पाचन शक्ति को मजबूत बनाती है । कब्जी से बचाती है । पेट संबंधी रोग से हमें राहत मिलती है । इसलिए लीची का सेवन सीमित मात्रा में जरूर करना चाहिए ।

लीची खाने से मोटापे को फायदा । Motapa me litchi khane ke fayde.

लीची में पॉलीफेनोल नामक तत्व से भरपूर होती है जो हमारे शरीर का मोटापा जैसी प्रॉब्लम को नियंत्रित करती है । इतना ही है लीवर के लिए भी फायदेमंद होती है । साथ में अधिक समय तक हमारे शरीर के अंदर भरा भरा सा महसूस करता है। यानी हमें भूख भी जल्दी नहीं लगती है । खाने के बाद फलों में हमें लीची का सेवन करना चाहिए ।

लीची खाने से गठिया में फायदा । Gathiya me Lychee khane ke fayde.

लीची खाने से दोस्तों हमारे गठिया के जोड़ों का दर्द कम होता है तथा शरीर के ऐठन को भी कम करती हैं।

लीची खाने से गले को फायदा । lychee benefits for thought.

लीची खाने में रसीली होती है । जिससे हमारे गले की खराश और खुश्की दूर हो जाती है। । गले को एक राहत सी महसूस होती है । हम आराम से कुछ खा सकते हैं ।

डायबिटीज के लिए फायदेमंद | Diabetes me litchi ke fayde.

वैज्ञानिको के अनुसार लीची में एंटी ऑक्सीडेंट anti-diabetic और इग्नूयोमॉडूयूलेटरू गुण पाए जाते हैं । जो हमारे शरीर में इंसुलनिन का काम करते हैं । इसीलिए डायबिटीज के मरीजों को लीची खाना फायदेमंद है ।

ब्लड सरकुलेशन के लिए लीची से फायदे । Lychee benefits for blood saculations.

लीची में विटामिन सी होता है, जो हमारे शरीर के आयरन के अवशोषण के लिए लाभकारी होता है इसलिए लीची का सेवन करने से ब्लड का संचार बढ़ता है । वही आयरन व हिमोग्लोबिन का स्तर को सही बनाए रखता है । यही कारण है कि यह एनिमिया जैसे रोग के लिए कारगर सिद्ध होता है ।

ऊतको के विकास में फायदेमंद । Utako ke liye litchi khane ke fayde.

हमारा शरीर पंचतत्व के अलावा कई उसको से मिलकर बना हुआ है जिसमें हमारे शरीर को अंदर से मजबूत बनाए रखने के लिए पर्याप्त मात्रा में विटामिन औरएंटीऑक्सीडेंट की जरूरत होती है जो दरअसल हमें लीची से प्राप्त हो सकती है इसलिए हमें निश्चित मात्रा में रोजाना खाना फायदेमंद है । वही हमारी बॉडी को हाइड्रेट रखने में सहायक होती है ।

लीची लाए त्वचा में चमक । lychee benefits for skin in hindi.

लीची में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट विटामिन सी पाया जाता है जो त्वचा की प्रॉब्लम को दूर करता है यह हमारे मुंहासे पिग्मेंटेंशन, जियो की समस्या है तो हम गर्भावस्था में कम मात्रा में लीची खा सकते हैं ।

लीची कैसे और कब खाएं ?

हमारे शरीर की आंतों को स्वच्छ रखने के लिए लीची का प्रयोग किया जाता है जैसे शरीर में आंतों का अस्वस्थ होने के कारण पेट में दर्द, एसिडिटी जैसे लक्षण दिखने लगते हैं । साथ ही साथ बदहजमी दस्त उल्टी आदि जैसी परेशानियां भी दिखाई देने की स्थिति में लीची को मज्जा या गूदे 2 से 4 ग्राम को कांजी में पीस लें और फिर इसका सेवन करने से पेट की सभी प्रॉब्लम दूर हो जाती है ।

लीची खाने से नुकसान या साइड इफेक्ट । Lychee side effects in hindi.

लीची की तासीर गर्म होती है इसलिए इससे अधिक मात्रा में सेवन करने से नाक से खुन आना, दस्ते लगना, बुखार आना आदि की प्रॉब्लम हो सकती है । वही लो ब्लड प्रेशर, थकान कमजोरी महसूस, याददाश्त कमजोर होना की प्रॉब्लम हो सकती है इसलिए हमें उचित मात्रा में इसका सेवन करना चाहिए है ।

क्या गर्भावस्था में हम लीची खा सकते हैं ? Is lychee safe in pregnancy.

लीची एक ऐसा फल है जिसमे विटामिन सी, मिनरल वाटर, Vitamin B6, कॉलेज कॉपर कोटेशन जैसे पोषक तत्व होते हैं, इसलिए गर्भावस्था में लीची खाना फायदेमंद होता है लेकिन एक निश्चित मात्रा से अधिक इसका सेवन शरीर के लिए नुकसानदायक भी हो सकता है ।

pregnancy me litchi khane ke fayde.

प्रेगनेंसी में लीची खाने से फायदे । pregnancy me litchi khane ke fayde.

लीची डाइटरी फाइबर से युक्त होती है जिससे पाचन ठीक रहता है और कब्जी से बचते है । लीची में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो फ्री रेडिकल्स से लड़ने और ऑक्सीडेटिव डैमैज से बचाते हैं । लीची में फेनोलिक योगिक भी होता है जो लिवर डैमेज होने से बचाता है और वजन को कंट्रोल रखता है ।

लीची की तासीर गर्म होती है । लीची हमारे शरीर की गर्मी को और अधिक बढ़ा देती है जिससे हमारी बॉडी में हम कोमप्लीकेशन बढ़ जाता है जो शिशु के लिए नुकसानदायक हो सकता है । इसलिए कम से कम लीची खाये जो हमारे और हमारे बच्चे के लिए लाभदायक हो । फिर भी हमें एक बार खाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लेनी चाहिए । गर्भावस्था के दौरान उचित मात्रा में लीची का सेवन करना लाभदायक होता है ।

 

प्रेगनेंसी में लीची से इम्यून सिस्टम बूस्ट होता है ।

लीची में विटामिन सी होता है जो हमारे शरीर में एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट होता है और इम्यून सिस्टम बूस्ट करता है । फ्लू, सर्दी व जुखाम से बचने के लिए लीची खाना लाभदायक होता है ।

लीची पाचन में सहायक । Litchi khane ke fayde.

गर्भावस्था के समय महिलाओं की पाचन संबंधी कई समस्याओं जैसे सुबह एग्जाम उल्टी होना जी मचलना पेट में दर्द होने की समस्या बढ़ना ऐसे में हम ऋषि को अपने लाइफ में शामिल करते हैं तो लिखी में फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता है जिससे हमारे शरीर से मौसम में सुधार आता है और साथ ही कब्ज की समस्या खत्म होती है इसीलिए हमारे खाने के साथ एक सीमित मात्रा में लीची का प्रयोग आवश्यक है।

लीची एंटी ऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर । Litchi khane ke fayde.

लीची खाने के साथ-साथ पोषक तत्वों से परिपूर्ण होता है लीची में एक्सीडेंट योगिक फ्लेवोनॉयड्स और क्वेर्सिटिन होते हैं जो हमारे हृदय रोग से संबंधित लक्षण को कम करने में सहायक होती हैं वही केंप्रोल दिल को मजबूत करता है जिससे मां और बच्चे दोनों को फायदा होता है साथ ही साथ स्क्रीन भी हेल्दी बनती है ।

लीची से गर्भ पर साइड इफेक्ट । Litchi side effects in pregnancy.

लीची में बहुत अधिक न्यूट्रिए़ंट्स और मिनरल पानी होता है । इसीलिए गर्भावस्था में लीची खाने के लिए मना किया जाता है ।
गर्भावस्था में अधिक मात्रा में लीची खाने से ( स्टिलबर्थ ) ‌भी हों ‌सकता है। और पेट में पल रहे बच्चे को भी इंफेक्शन हो सकता है। स्टिलबर्थ मतलब मृत शिशु को जन्म देना है । इसलिए लीची का सेवन नहीं करें तो बेटर है ।

गर्भावस्था में लीची से एलर्जी ।

एंटीक लीची के सेवन से कई प्रकार की एलर्जी हो सकती है जैसे आप को खुजली आना हो तो पर सूजन आना और भी कई प्रकार की समस्याएं हो सकती है ।

गर्भावस्था में अधिक लीची का असर ।

लीची अधिक मात्रा में सेवन से इन्फेक्शन का खतरा होता है । और बच्चा समय से पहले पैदा हो सकता है। हमारे शरीर के आंतरिक गर्मी को बनाती है जो गर्भावस्था के दौरान कई जटिलताओं को कई समस्याओं को जन्म दे सकती है इसलिए डॉक्टर की सलाह लेना आवश्यक समझे ।

गर्भावस्था में लीची का प्रयोग सुरक्षित नहीं है क्योंकि इससे ब्लड शुगर बहुत जल्दी बढ़ता है । जो हमारे जेस्टेशनल डायबिटीज होने संभावना बढ़ा देता है । लीची खाने से इंफेक्शन हो सकता है जो मां और बच्चे के लिए घातक हो सकता है ।

गर्भावस्था में लीची से सावधानी ।

● गर्भावस्था में लीची नहीं खाना चाहिए क्योंकि यह महिलाओं के स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डालता है ।
● अधिक लीची खाने से ब्लड शुगर बढ़ जाता है जो हमारे शिशु के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है ।
● प्रेगनेंसी में लीची से फायदे हैं तो नुकसान भी हैं अधिक मात्रा में सेवन से पेट में दर्द और कब्ज की समस्या हो सकती है ।
● बहुत ज्यादा लीची खाने से हमारे शरीर में एलर्जी की समस्या उत्पन्न हो जाती है इसलिए लीची का सावधानी से प्रयोग करें ।
● लीची गर्मी के दिनों में हमारे शरीर में हेडिंग इफेक्ट पैदा कर सकता है जिससे हमें अधिक परेशानी हो सकती है ।
अंत में हम यही कह सकते हैं कि लीची खाने में जितनी फायदेमंद है उतनी ही नुकसानदायक भी है । यहां गर्मी का फल है जो हमारे शरीर में ठंडक देता है इसे अधिक ना खाएं इसलिए लीची का प्रयोग करते समय हमें सावधानियां अवश्य वरते समय समय पर बीमारी संबंधी डॉक्टर से राय भी लेते रहना चाहिए ।। शिवा अग्रवाल ।।