डोलो 650 के फायदे, नुकसान व उपयोग विधि – Dolo 650mg tablet.

dolo 650mg tablet

डोलो 650 के फायदे । आज कल मार्केट में अनेक प्रकार की एलोपेथी टेबलेट उपलब्ध है । यह टेबलेट सामान्य तौर बिना किसी डॉक्टरी पर्चे से मिल जाती हैं । उन दवाइयों मे से Dolo 650mg tablet एक है । यह एक ऐसा टेबलेट है जिसके माध्यम से बीमार व्यक्ति की जिसके सर में दर्द और जो बुखार से ग्रसित हो उसे आराम मिलता है। इसमे एक्टिव इंग्रीडिएंट्स Peracitamol है जिसके माध्यम से सिर दर्द, पीठ, माइग्रेन, दांत दर्द, शरीर में दर्द जैसी प्रॉब्लम से व्यक्ति को राहत मिलती है।

शरीर में चोट लगने पर रिलीफ पहुंचता है । यह कुछ केमिकल की बनने से होता है जिसमें दोनों टेबलेट केमिकल को बनने से रोकता है । यही कारण है कि बुखार और दर्द से ग्रसित व्यक्ति को खाने से आराम मिलता है । इस टेबलेट का सेवन कभी भी किया जा सकता हैं । लेकिन इस दवा का इस्तेमाल डॉक्टर के निर्देशानुसार ही करें । तो चलिए जानते हैं – डोलो 650 के फायदे के बारे में –

पढ़े – ब्रेस्ट बढ़ाने की दवा हिमालय – स्तन बढ़ाने की 5 टेबलेट व क्रीम

डोलो टेबलेट किस काम आती है ?

व्यक्ति जब असामान्य रूप से बुखार और शरीर के किसी भी भाग के दर्द से ग्रसित होता है उस वक्त इस दवाई का इस्तेमाल किया जाता है।

  • सर दर्द,
  • बुखार,
  • दांत दर्द,
  • खिचाव,
  • माइग्रेन,
  • चोट – मोच,
  • बैक पैन,
  • कमर या बदन दर्द,
  • मस्कुलोस्केलेटल दर्द आदि ।

व्यक्ति को इन सभी दर्द और शारीरिक परेशानियों से मुक्ति में टेबलेट काम आती है। लेकिन इसका इस्तेमाल 12 साल से ऊपर के बच्चों में ही दी जाती है उस दवाई का इस्तेमाल डॉक्टर के परामर्श से ही करना चाहिए ।

पढ़े – पेनिस को ताकतवर बनाने के उपाय Patanjali. लिंग को सख्त करने की दवा

डोलो 650 mg के फायदे –

वैसे तो इस दवाई को देने का मुख्य कारण बुखार वाले व्यक्ति को राहत दिलाने से हैं इसके अलावा बहुत सारे दर्द में इस दवा का इस्तेमाल का निर्देश दिया जाता है।
बुखार से राहत में देती है क्योकि इसमे उपस्थित पैरासिटामोल जो बॉडी का टेम्प्रेचर को कम करने में सहायक है ।

यह टेबलेट पैन किलर के रूप में कारगर है जो मासपेशियों में हुए कई तरह की दर्द, सर दर्द, बदन दर्द एव बॉडी के अन्य पार्ट के दर्द में यह दवा दी जाती है। इसी प्रकार दांत दर्द, पैरों की दर्द और जोड़ों के दर्द में वह दवाई से बहुत आराम मिलता है।

शरीर के सामान्य दर्द को तो छूमंतर करती है इसके साथ-साथ डेंगू या मलेरिया में भी यह राहत देती हैं।
प्रेगनेंसी के दौरान अगर किसी गर्भवती महिला को कमर, पीठ में दर्द हो या ब्रेस्ट या अन्य अंगों में दर्द हो तो उसमें भी या दवा रहा तो देती है।

क्योंकि इस टेबलेट में मुख्य तत्व पेरासिटामोल है । जिसके कारण Dolo 650 टेबलेट को पानी के साथ खाने से बॉडी के पाचन एंजाइम के साथ केमिकल रिएक्शन होता है और वह बुखार और शरीर के दर्द और सूजन से मुक्ति देने में मदद करता है ।

डोलो 650 mg के फायदे व डोज़ –

यह एक ऐसी टेबलेट है जिनका उपयोग सामान्य तौर पर बुखार, जुकाम व दर्द निवारण के लिए किया जाता है । इस टेबलेट का सेवन करने के लिए इनके टुकड़े करने या पानी मे घोलने की आवश्यकता नही है । इसे पानी के साथ निगल लेना चाहिए ।

डॉक्टर के अनुसार व्ययस्क व्यक्ति दिन में 2 टेबलेट सेवन कर सकता है । इसी स्थिति अधिक खराब होने पर 4 घंटे के अंतराल मे इन टेबलेट का सेवन कर सकते हैं । इन टेबलेट को भोजन के उपरांत सेवन करना चाहिए ।

इस टेबलेट का सेवन एसिटामिनोफेन की दवाओं जैसे ओटीसी के साथ न करे । साथ ही साथ एल्कोहल का सेवन न करे । इसी प्रकार टेबलेट की बार बार आवृति करने से बचे अन्यथा अस्थायी दुष्प्रभाव नजर आ सकते हैं ।

इस टेबलेट का सेवन करने के उपरांत पर्याप्त मात्रा मे जल सेवन करे । यह टेबलेट केवल दर्द, बुखार मे राहत देती हैं लेकिन सूजन में को कम नही करती है । इनके लिए अलग से सूजन विरोधी दवाओं का सेवन डॉक्टर की सलाह से करे ।

डोलो टेबलेट के साइड इफेक्ट –

अगर किसी व्यक्ति को इस दवा से एनर्जी ना हो तो उस व्यक्ति को यह दवाई के खाने से फायदे मिलेंगे निश्चित डोज के आधार पर इस दवाई का सेवन करना चाहिए अन्यथा दुष्परिणाम भी हो सकते हैं।

  • निश्चित खुराक के आधार पर अगर इसका सेवन ना किया जाए तो इसके कारण स्कीम में खुजली और जलन भी हो सकती है।
  • कुछ लोगों को साइड इफेक्ट के कारण दस्त भी होने लगते हैं।
  • शरीर में सूजन होने की भी संभावना रहती है और सांस लेने में दिक्कत होने लगती है।
  • अगर किसी व्यक्ति को पेरासिटामोल से एलर्जी है तो अगर वह सेवन करता है तो उसकी कारण शरीर पर छोटे छोटे दाने और खुजली की समस्या हो सकती है।
    भूख लग सकती है और लीवर को भी प्रभावित करती हैं। इसीलिए अपनी समस्या को डॉक्टर से खुलकर बात करें और डॉक्टर के परामर्श से इस दवा का सेवन करें ।
  • इसी प्रकार ह्रदय रोगी, लिवर, किडनी व फेफड़ों व सांस की तकलीफ वाले मरीज़ो को सेवन करने से पहले योग्य डॉक्टर की सलाह ले ।

पढ़े – ढीलापन की दवा पतंजलि – सख्त करने की 5 आयुर्वेदिक दवा

Dolo 650mg tablet. गर्भाव्यस्था में –

डॉक्टर मरीज की स्थिति देखते हुए उसे यह दवा खाने की अनुमति देते हैं। डॉक्टर के परामर्श से प्रेगनेंसी के दौरान dolo-650 का इस्तेमाल किया जा सकता है। वैसे भी गर्भाव्यस्था मे किसी भी टेबलेट का सेवन करने से पहले योग्य डॉक्टर से परमर्श करना बहुत जारी होता है ।

अब बात करे डोलो 650 mg टेबलेट की कीमत के बारे में तो यह टेबलेट मेडिसिन दुकान में आसानी से मिल जाता है इसके एक पत्ती की कीमत ₹30 है जिसमें 15 टैबलेट रहते हैं।

पढ़े – पेनकिलर टेबलेट के इस्तेमाल व साइड इफ़ेक्ट । Pain killer side effects.

डोलो 650 की अन्य दवाओं के साथ प्रतिक्रिया –

मरीज जगह खून को पतला करने की दवाई के सेवन कर रहे हैं जैसे वार्फरिन का इस्तेमाल करते हैं तो डॉक्टर के अनुसार है डोलो 650 टेबलेट का सेवन करें।

अगर मरीज किसी भी दवाई का या सप्लीमेंट या हर्बल दवाओं को इस्तेमाल कर रहे हैं तो यह डॉक्टर को अवश्य बताएं तभी इसका इस्तेमाल करें अन्यथा रोगी को किसी भी तरह की शारीरिक परेशानी हो सकती है।

अन्य दवाओं के साथ दुष्प्रभाव इनके कुछ दुष्प्रभाव हो सकते हैं । इन दवाओं में निमेसुलाइड ( Nimsun, Neil, इसूलीडे ), ऑक्सीफेनब्यूटाजोन ( Oxy Triactin, Sioril ), मेटामिजोल ( Pyregin, Alpagin, Novalgin RC ) आदि मुख्य है ।

ध्यान रहे सिमी दवा का सेवन मरीज तभी करता है जब वह अस्वस्थ रहता है स्वास्थ्य स्वास्थ्य को देखते हुए डॉक्टर उसके आधार पर मरीज को दवाई लेने की सलाह देते हैं इसीलिए अपने पूर्व बीमारी की पूरी तरह विवरण डॉक्टर को अवश्य दें तभी वह आपको दवाई खाने के निर्देश देंगे। बिना डॉक्टर के परामर्श के किसी भी दवाई का सेवन ना करें ।

Leave a Comment