ब्लड कैंसर का इलाज संभव है ? Blood cancer in hindi.

Blood cancer in hindi.

Blood cancer in hindi. कैंसर, जी हां ! इस बीमारी का नाम सुनते ही यह मान लिया जाता है कि यह बीमारी व्यक्ति को साथ लेकर ही जाएगी, क्योंकि कैंसर को लाइलाज बीमारी माना जाता है।
यदि कैंसर का इलाज बीमारी के शुरू होते ही नहीं किया जाता है। तो इस पर कंट्रोल कर पाना बहुत मुश्किल हो जाता है और ब्लड कैंसर का पता जब तक पीड़ित व्यक्ति को चलता है, तब तक कैंसर दूसरी या तीसरी स्टेज में पहुंच चुका होता है। याने काफी देर हो चुकी होती हैं। तो चलिए जानते है Blood cancer in hindi.

Also read 

ब्रैस्ट कैंसर के कारण व उपाय । Breast cancer in hindi.

मधुमेह के लक्षण व इलाज । Diabetes ka gharelu upchar.

Table of Contents

ब्लड कैंसर क्या है ? What is blood cancer.

हमारे शरीर में तीन तरह की कोशिकाएं या सेल्स होते हैं। पहला रेड प्लेट सेल्स दूसरा व्हाइट प्लेट सेल्स तीसरा प्लेटलेट्स । जो ब्लड कैंसर होता है वह मुख्यता व्हाइट सेल्स में होता है । व्हाइट सेल्स यानी रोगों से लड़ने वाली कोशिकाएं के कारण व्यक्ति बीमारी से मुकाबला करने में धीरे धीरे असमर्थ होता जाता है।

हमारे शरीर में आरबीसी एवं डब्ल्यूबीसी में से WBC के मुख्य घटक के कारण होती है । WBC यानी श्वेत रक्त कोशिकाओं जो रोग प्रतिरोधी क्षमता बढाती है ।लेकिन जब इनकी संख्या कम होती हैं तो ब्लड कैंसर का खतरा बढ़ जाता हैं । Blood cancer के 4 स्टेज होते है । जिसमें अंतिम दो स्टेज घातक साबित होते है ।

सही तरीके से जांच करवाएं | Blood cancer test in hindi.

ब्लड कैंसर में प्लेटलेट्स कम होने लगते हैं । और कई बार हमें इन प्लेटलेट्स को बीमार व्यक्ति को देने की जरूरत पड़ती है। यदि प्लेटलेट्स 30,000 से ज्यादा है, तो कोई परेशानी नहीं है। पर यदि किसी बुखार या अन्य कारण से प्लेटलेट्स 20,000 से 30,000 के नीचे होते हैं, तो समस्या हो सकती है।

आजकल मशीनों से सभी प्रकार की जांच होती है। यदि अच्छे से डाटा एनालिसिस ना हुआ तो परेशानी हो सकती है। जैसे बीमारी में ब्लड टेस्ट यदि देर से किया गया हो, तो प्लेटलेट बांड या समूह बना लेते हैं, और मशीन में जा नहीं पाते और प्लेटलेट की गिनती कम आ जाती है। जिससे कैंसर होने की गलत रिपोर्ट भी कई बार आ जाती है।

ब्लड कैंसर के प्रकार ? Type of blood cancer.

ब्लड कैंसर को हम दो भागों में बांट सकते हैं। पहला क्रोनिक दूसरा एक्यूट।
क्रोनिक ब्लड कैंसर – यह ब्लड कैंसर धीरे-धीरे होता है और इसका इलाज भी संभव है।
एक्यूट ब्लड कैंसर – यह कैंसर बहुत तेजी से फैलता है और समय पर इलाज ना मिले तो जान को खतरा भी हो जाता है।

एक्यूट ब्लड कैंसर के अन्य नाम क्या है ?

इसे कई नाम से जानते हैं। अगर लीवर बढ़ता है और शरीर में गठान हो जाती है, तो इसे लिंफोमा कहते हैं । और यदि ब्लड कैंसर ब्लड में ही फैलता है, तो एनीमिया हो जाता है, इंफेक्शन हो जाता है, या प्लेटलेट्स कम होने से रक्त स्त्राव होने लगता है, इसे लयूकीमिया कहते हैं।

पढ़े – ईडी बूस्टर कैप्सूल  । ED booster capsule uses in hindi.

ब्लड कैंसर होने का कारण क्या है ? Causes of blood cancer in hindi.

ब्लड कैंसर की कोशिकाएं शरीर में रक्त नहीं बनने देती हैं। इस कारण कैंसर ग्रस्त व्यक्ति के शरीर में धीरे-धीरे खून की कमी होने लगती है। कैंसर के कारण बोन मैरो को भी काफी हानि पहुंचती है ।

जब किसी स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में असामान्य और अपरिपक्व रक्त कोशिकाएं पैदा होती हैं, तथा रक्त कोशिकाओं के कार्य को प्रभावित करती हैं, तो स्वस्थ रक्त कोशिकाएं अपना कार्य ठीक ढंग से नहीं कर पाती हैं। जिससे कैंसर नामक बीमारी पैदा हो जाती है ।

इसके अलावा कैंसर शराब तंबाकू तथा सिगरेट आदि का अधिक मात्रा में सेवन करने से भी होता है।
कैंसर के विभिन्न प्रकारों में से ब्लड कैंसर को सबसे ज्यादा खतरनाक माना जाता है। यह शरीर में रोगों से लड़ने यानी रोग प्रतिरोधी क्षमता वाली सफेद रक्त कोशिकाएं नहीं बन पाती हैं। इस कारण बीमार व्यक्ति धीरे-धीरे और ज्यादा बीमार होता जाता है।

धूम्रपान – जो लोग बहुत लंबे समय से धूम्रपान या सिगरेट का सेवन कर रहे हैं। ज्यादा शराब आदि का सेवन करते हैं। ऐसे लोगों में मुंह, फेफड़े तथा ब्लड कैंसर का खतरा ज्यादा होता है। ऐसी आदतें फेफड़े तथा खून को दूषित करती है।

अनुवांशिक – कैंसर या ब्लड कैंसर का कारण कई बार अनुवांशिकी भी होता है। यदि परिवार में पहले किसी को कैंसर हुआ है, तो उस व्यक्ति को भी यह बीमारी आसानी से अपनी गिरफ्त में ले सकती है। अतः ब्लड कैंसर को विरासत में मिली बीमारी भी कहते हैं। वैसे तो विशेषज्ञों के अनुसार कैंसर बीमारी नहीं है। सामान्य भाषा में कहें, तो कैंसर में शरीर की कोशिकाएं अपने आप बढ़ने लगती हैं। किसी भी जींस में कुछ खराबी आने पर कैंसर हो सकता है।

कैंसर के प्रमुख कारण – वैसे कैंसर के दो प्रमुख कारण है। पहला रेडिएशन एक्सपोजर दूसरा केमिकल एक्स्पोज़र के कारण भी कैंसर हो सकता है।

ब्लड कैंसर के लक्षण क्या है ? Symptoms of blood cancer in hindi.

ब्लड कैंसर होने पर पीड़ित व्यक्ति में कई तरह के बदलाव दिखाई देते हैं। जैसे –
1. बुखार आना
2. भूख और वजन में कमी होना।
3. हड्डियों तथा जोड़ों में दर्द होना
4. खून की कमी या एनीमिया होना।
5. हरदम थकान तथा कमजोरी लगना।
6. शरीर के अंगों में रक्त स्राव होना।
7. लिंफ नोड्स मे सूजन ।

Treatment of blood cancer in hindi.

ब्लड कैंसर का इलाज संभव है, या नहीं ? Treatment of blood cancer in hindi.

जी हां, बहुत हद तक ब्लड कैंसर का इलाज संभव है। अन्य कैंसर तथा ब्लड कैंसर की स्टेज में बहुत अंतर होता है। देखिए यदि ब्लड कैंसर है, तो शरीर के प्रत्येक सेल्स में ब्लड होता है। इसमें स्टेज का ज्यादा लेना देना नहीं होता है बल्कि हमें यह पता लगाना होता है की ब्लड कैंसर हुआ कैसे अब हम आपको ब्लड कैंसर का ऐसा इलाज बता रहे हैं। जिससे पता चल जाता है, कि ब्लड कैंसर की शुरुआत किस कोशिका से हुई है हम उस दवाई के द्वारा कोशिका को ही मार देते हैं । जिससे ब्लड कैंसर पैदा हुआ है। पर इस इलाज को कीमोथेरेपी नहीं कहते हैं। यह नई तकनीक आई है जिससे ब्लड कैंसर की शुरुआती सेल्स का पता चल जाता है।

शायद कुछ समय बाद ऐसा हो जाएगा कि शुगर की तरह कैंसर की बीमारी से भी लोग जिंदगी की जंग लड़ेंगे और जीतेंगे भी या फिर इस बीमारी के साथ ही जिंदगी सामान्य तरीके से बिताई जाएगी। वैसे तो कैंसर का उम्र के साथ कोई संबंध नहीं होता है। यह छोटे बच्चों से लेकर उम्र दराज लोगों तक किसी को भी कभी भी हो सकता है। जैसे – acute leukemia यह छोटे बच्चों में ज्यादा होता है। और इसमें ठीक होने के चांस 85 से 90% तक होते हैं । अतः इससे डरने या घबराने की कोई जरूरत नहीं है । बस समय पर तथा पूरा इलाज करवाएं।

पढ़े – अश्वशक्ति पाउडर के फायदे व नुकसान । Ashwashakti powder ke fayde.

भारत में ब्लड कैंसर के मुख्य हॉस्पिटल कहाँ है ? Best hospital blood cancer treatment in India.

कैंसर दूसरी सबसे बड़ी खरतनाक बीमारी है, जो लोगो को काल के गाल में धकेल देती है। WHO के अनुसार देश में हर आठ मिनेट में किसी की मृत्यु कैंसर के कारण हो जाती है। इस बीमारी से निपटने के लिए देश के हर राज्य में आज सर्वसुविधायुक्त हॉस्पिटल उपलब्ध है, जहाँ बेहतर से बेहतर इलाज किया जाता है। देश के सबसे प्रसिद्ध 5 हॉस्पिटल के बारे में आपको बताते हैं –

टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल | Tata memorial hospital.

यह हॉस्पिटल मुंबई में स्थित है और देश के सबसे पुराने अस्पतालों में से एक है। देश के हर कोने से लोग यहाँ इलाज करवाने पहुंचते हैं और नव जीवन पाते हैं। टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल कैंसर का सबसे विश्वसनीय हॉस्पिटल है।

होमी भाभा कैंसर अस्पताल | Homi Bhabha cancer hospital Mumbai.

यह हॉस्पिटल वाराणसी, उत्तर प्रदेश में स्थित है। इस अस्पताल का सारा मैनेजमेंट टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल मुंबई द्वारा किया जाता है। इस अस्पताल का मुख्य उद्देश्य कैंसर पीड़ितों को कम लागत पर इलाज मुहैया करवाना है।

होमी भाभा कैंसर अस्पताल एवं अनुसन्धान केंद्र | Homi Bhabha cancer hospital and research center.

यह अस्पताल विशाखापट्टनम, आंध्रप्रदेश में स्थित है। यह अस्पताल भारत सरकार द्वारा स्थापित एक इकाई के तौर पर कार्य करता है।

किन्दवई मेमोरियल इंस्टिट्यूट ऑफ़ आंकोलॉजी | Kindavai Memorial institute of Akology.

यह हॉस्पिटल बैंगलोर में स्थित है। यह भारत के प्रतिष्टित कैंसर अस्पतालों में से एक है। यहाँ अत्याधुनिक मशीनों के जरिये बीमारी का इलाज किया जाता है। यह अस्पताल भारत सरकार से वित्त प्राप्त संस्थान है, इसलिए यहाँ गरीबो का मुफ्त इलाज किया जाता है |

डॉ, भुवनेश्वर बोरुहा कैंसर संस्था | Dr. Bhuvaneshvar Boruha cancer center.

यह अस्पताल गुवाहाटी, असम में स्थित है। इस अस्पताल की स्थापना एक स्वैच्छिक संगठन द्वारा की गयी थी। वर्तमान में यहाँ कैंसर की सस्ते एवं किफायती इलाज की सुविधा उपलब्ध है।
थोड़ी सावधानी रखते हुए डॉक्टर के दिशा निर्देश का पालन करें । ताकि समय पर इलाज शुरू किया जा सके, और व्यक्ति ब्लड कैंसर या कैंसर से जंग जिंदगी की जीत जाए। सादर धन्यवाद

Share