भूख बढ़ाने की दवा पतंजलि, आयुर्वेदिक, हिमालय व अंग्रेजी tonic

Bhukh badhane ki dawa patanjali.

भूख बढ़ाने की दवा पतंजलि । पाचन एक ऐसी क्रिया हैं जो आहारनाल में भोजन मे मौजूद जटिल, अघुलनशील पोषक पदार्थो को शरीर की कोशिकाओं मे खपाने के लिये सरल, घुलनशील एवं विसरणशील पदार्थो मे बदलने की क्रिया को भोजन का पाचन कहते है । यह प्रक्रिया 2 चरणों मे होती हैं जैसे भौतिक प्रक्रिया इसमे भोजन लेना होता है । भोजन को चबाना, निगलना, पीसना, मथना, आहारनाल से गटकना आदि ।

अब दूसरी रासायनिक प्रक्रिया है जिसमे भोजन मे पोषक पदार्थ बडे अघुलनशील और जटिल अणुओं या बहुल के रुप मे होते है। इन बडे अणुओं मे इनकी छोटी संघटक इकाइयाँ यानी एक लक निर्जलीकरण बंधो द्वारा आपस मे जुडे होते है।

इन दोनो प्रक्रिया के माध्यम से भोजन से प्राप्त पोषक तत्वों का अवशोषण किया जाता हैं जिससे बॉडी को नई ऊर्जा मिलती हैं । कभी कभी गलत खानपान या गंभीर रोगो के कारण पाचन क्रिया सही तरीके से नहीं हो पाती हैं । या यूँ कहे की पाचन शक्ति कमजोर हो जाती हैं और भोजन पच नहीं पाता है । ऐसे मे दवाई अंतिम विकल्प होता हैं । मार्केट से कुछ इसे सिरप, टेबलेट उपलब्ध है जो पाचन तंत्र को मजबूत करने में लाभकारी होते हैं तो चलिए जानते हैं – भूख लगने के सिरप के बारे में –

पढ़े – औजार मोटा करने की दवा घरेलु उपाय – लंबा करने के 7 नुस्खे

भूख न लगने के कारण –

हमारी पाचन शक्ति कमजोर होने व भूख न लगने के पीछे कई कारण हो सकते हैं जैसे गलत खानपान, भारी भोजन का सेवन करना, योग व्यायाम न करना आदि । कुछ मुख्य कारण इस प्रकार से है –

  • शारीरिक समस्या – पेट से जुडी समस्या जैसे जीईआरडी खराब पाचन का एक एक बडा कारण है। इसमे आपकी इसोफेजियल मांसपेशियों का कार्य कम हो जाता है । ओर भूख कम लगती हैं ।
  • हार्मोनल असंतुलन – असंतुलित हार्मोन के कारण भी कई स्वास्थ्य समस्या देखने को मिलती है ।
  • आंत मे सुजन – आंत मे सूजन कि समस्या भी इस दौरान आप जो कुछ भी खाते है उसे पचाने मे दिक्कत होती है। पेट संबंधी समस्याये देखने को मिलती है ।
  • क्रॉनिक मेडिकल कंडिशन – कुछ क्रॉनिक समस्या भी पाचन संबंधी समस्याओं को ट्रिगर कर सकती है। जो आपकी वेगसनर्व को प्रभावित करती है और उन्हें हानी पहुँचाती है ।
  • लिवर की प्रॉब्लम व कैंसर के कारण भी भूख बहुत कम लगती हैं । इसी प्रकार शारीरिक से कम श्रम करने पर भी भूख कम लगती हैं ।

भूख बढ़ाने की दवा पतंजलि –

पाचन क्रिया को दुरस्त करने व भूख को बढ़ाने मे आज कल मार्केट में अनेक प्रकार के Syrup व tablet उपलब्ध है । जो आपके पाचन तंत्र को मजबूत करने का कार्य करते है । यह दवा आयुर्वेदिक व अंग्रेजी मेडिसिन के रूप मे हो सकती हैं । एक्सपर्ट के अनुसार इन दवाओं का उपयोग डॉक्टर की पर्ची के अनुसार अनुशासित खुराक के रूप में करे ।

इन सिरप के दुष्प्रभाव की बात करें तो यदि आप अनुशासित खुराक में करते हैं तो न के बराबर है । इसी प्रकार यदि आप अपनी मनमरजी से करते हैं तो कब्ज, पेट दर्द की प्रॉब्लम हो सकती हैं । क्योकि यह सिरप आपकी पाचन क्रिया को जल्दी सम्पन्न कराने के साथ भूख लगने मे मदद करते हैं तो चलिए जानते हैं – भूख बढ़ाने के Syrup व tablet के बारे में –

पढ़े – महिलाओ को जोश की गोली का नाम प्राइस – 5 असरकारी दवा

पतंजलि लिव अमृत सिरप – भूख बढ़ाने की दवा पतंजलि

यह भूख बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवाओं मे से एक है । इनका सेवन करने से अनेकों पोषक तत्वों की पूर्ति होती है जैसे – विटामिन, प्रोटीन, कैल्शियम, आयरन, जिंक, पोटेशियम आदि । जो पाचन तंत्र को बूस्ट करके भूख बढ़ाने के लिए कारगर है । वही इसमे मौजूद एंटी ऑक्सीडेंट्स व एंटी बेक्ट्रियल नामक तत्व जो बॉडी को फिट एव हेल्दी रखने मे उपयोगी है ।

इसमे मौजूद प्राकृतिक घटक जैसे भूमि, पुनवसू, दारु हल्दी, भृंगराज, अर्जुन, गिलोय, मुलेठी व त्रिफला जो अपच, गैस, बदहजमी, पेट की प्रॉब्लम से राहत देती हैं । इनका रोजाना अनुशासित खुराक में सेवन करने से पाचन क्रिया दुरस्त होती हैं जिसे खाना समय पर पच जाता है और भूख लगने लगती हैं ।

यह दवा एनिमिया, पीलिया एव पेट से जुड़ी प्रॉब्लम के लिए बहुत ही लाभकारी है । इनका उपयोग कोई भी कर सकता है । मगर 5 साल से छोटे बच्चो के लिए उपयोगी नहीं है । इनका सेवन अधिकतम 2 से 3 बार किया जा सकता है ।

पढ़े – मल्द्वार मे जलन की tablet एव 5 बेस्ट दवा पतंजलि

पतंजलि लवन भास्कर चूर्ण – भूख बढ़ाने की दवा पतंजलि –

यह खाना पचाने एव भूख बढ़ाने के लिए बेस्ट आयुर्वेदिक चूर्ण है । जो कई हर्बल जड़ी बुटियों से मिलकर बना है । इस चूर्ण मे काला नमक, सेघा नमक, पीपली मूल, काला जीरा, छोटी पीपली, धनिया, तेजपात्रा, समुंद्र नमक, काली मिर्च, जीरा, सौंठ, अनारदाना, दाल चीनी, बड़ी इलायची, नागरमोथा, तालीसपत्र, सोचर नमक व अमलताश । जो पेट की प्रॉब्लम जैसे गैस, कब्ज व अपच आदि के लिए लाभकारी है ।

यह चूर्ण पूर्ण से पाचन तंत्र को दुरस्त करता है । साथ ही साथ आंतो को मजबूत करता है । यह गैस, एसिडिटी को मिटाकर पेट को हेल्दी रखता है । जिससे भूख भी लगने लगती हैं । इनका सेवन 2 से 5 ग्राम तक सुबह शाम गुनगुने पानी मे किया जा सकता हैं । इस चूर्ण का कोई साइड इफ़ेक्ट्स नहीं है । फिर योग्य डॉक्टर की सलाह से सेवन करे ।

पतंजलि लोहासव सिरप – भूख बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा पतंजलि –

यह एक आयुर्वेदिक दवा हैं। जो पाचन तंत्र को दुरस्त करके या यूँ कहे कि पाचन शक्ति बढाकर अपच व गैस जैसी पेट की प्रॉब्लम को मिटाकर भूख बढ़ाने का कार्य करती है । साथ ही साथ शरीर में आयरन की कमी को भी पुरा करती है । इसमे मौजूद विभिन्न प्रकार के प्राकृतिक घटक जैसे – लौह भस्म, हरड़ चिल्का, सौठ, आंवला सूखा, काली मिर्च, लोहासव प्रक्षेप, पीपल, अजमोद, विंडिंग, नगर मोठा, चित्रक मूल, गुड़, शहद व धातकी पुष्प आदि ।

जो कि प्राकृतिक रूप से पेट की प्रॉब्लम को दूर करने मे सहायक होती हैं । यह भूख को बढ़ाने के लिए पाचन तंत्र के लिए भी फायदेमंद है । यह आयरन की पूर्ति करने के कारण पीलिया व एनिमिया जैसे रोगो के लिए फायदेमंद हैं । इनके आलावा वात व कफ की प्रॉब्लम को भी दूर करता है । वही यह लिवर को भी मजबूत करके मेटाबॉलिज्म को सही करने मे कारगर है ।

इनका सेवन सुबह शाम 24ml की खुराक गुनगुने के साथ ले सकते है । इस दवा का कोई साइड इफ़ेक्ट्स नहीं है । लेकिन अधिक मात्रा में सेवन करने से सीने मे जलन, कब्ज आदि की हो सकती हैं । इसलिए डॉक्टर की देख रेख मे सेवन करें ।

लिव डी 38 टेबलेट – भूख लगने की दवा पतंजलि

पतंजलि ब्रांड की यह एक ऐसी टेबलेट है जो आपके लिवर का केयर करती है । यानी आपके लिवर को मजबूत करके डाइजिस्ट को बेहतर बनाती है । पाचन शक्ति को बढ़ाती है । इस टेबलेट का सेवन करने से गैस, कब्ज एव पेट की प्रॉब्लम दूर होती हैं । यह टेबलेट सभी को बेहतर परिणाम देती हैं ।

इस आयुर्वेदिक टेबलेट का उपयोग योग्य वैध या डॉक्टर की सलाह से सेवन करना चाहिए । इस मौजूद 11 से अधिक प्राकृतिक घटक जो की आपकी पाचन तंत्र को स्ट्रांग करते हैं । इनका सेवन दिन मे 2 टेबलेट के रूप मे कर सकते हैं । पर इस का ध्यान रखे की अनुशासित मात्र मे सेवन करें ।

डेक्सोरेंज सिरप 200 एम एल – भूख बढ़ाने की आयुर्वेदिक सिरप

यह सिरप एक हेमेटिनिक एजेंट है,ये रक्त कोशिकाओं के निर्माण के लिये सहायक होता है। इसका उपयोग एनीमिया के इलाज और रोकथाम के लिये किया जाता है। इस मे सक्रिय संघटक फोलिक एसिड सायनोकोबालमिन और आयरन का मिश्रण होता है ।

उपयोग – आयरन, फोलिक एसिड और विटामिन बी12 की कमी के कारण एनीमिया के विभिन्न रुपो के उपचार और रोकथाम के लिये इस सिरप का इस्तेमाल किया जाता है। ये सर्जरी के बाद ठीक होने मे मदद करता है। ये सिरप गर्भावस्था, स्तनपान, सर्जरी के पश्चात या पोषक तत्वों की खराबी की स्थिती मे पोषक पूरक के स्वरुप भी उपयुक्त है।

लाभ

  • यह सिरप मे विटामिन B9 ( फोलिक अँसिड) विटामिन बी 12 और आयरन होता है।
  • लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन और DNA संश्लेषण के लिये दिमाग और नसो के कामकाज के लिये विटामिन B12 आवश्यक है। ये प्रोटीन और वसा के चयापचय, प्रजनन, हार्मोन के कामकाज मे भी सहायक है।
  • बढते बच्चे के दिमाग एवं रीड कि हड्डी के विकास हेतू यह आवश्यक है। ये कोशिका विभाजन और रक्त कोशिकाओं के विकास मे भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
  • एच बी फेफडो से ऑक्सीजन को पूरे शरीर मे पहुंचाता है। ये हिमोग्लोबिन का भी हिस्सा है जो मांसपेशियों को ऑक्सीजन पहुँचाता है । ये रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने मे महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। कुछ हार्मोन का निर्माण और शरीर के तापमान को नियंत्रित करता है।

डिजेस्टर हर्बल डायजेस्टीव टॉनिक – भूख लगने का tonic

पाचन को स्वस्थ बनाने के लिये यह डायजेस्टीव टॉनिक लाभदायक हो सकती है । इसमे किसी भी प्रकार के हानिकारक रसायन का इस्तेमाल नही किया जाता है। इस के सेवन से आपको बेहतर पाचन शक्ति व भूख लगने लग सकती है।

क्युअर वेदा हर्बल डायजेस्ट इलिक्सीर – यह शुद्ध नैसर्गिक पाचन टॉनिक मानी जाती है। इस मे एलोवेरा, गिलोय, चित्रक जैसे कई जडीबुटि़या शामिल है।अगर आप एसिडिटी से परेशान होतो इससे आपको लाभ मिलेगा।

पढ़े – बच्चों की बोलने की होम्योपेथिक एव उपचार

भूख बढ़ाने की दवा हिमालय – भूख लगने का टॉनिक Himalaya.

हिमालय भी भारत के लोकप्रिय ब्रांडो मे से एक है । इनकी दवाए भी प्रभावशाली मानी जाती हैं । जो कि विभिन्न प्रकार के प्राकृतिक घटको से मिलकर बनाई जाती हैं । भूख बढ़ाने के लिए हिमालय दवा इस प्रकार है –

  1. हिमालय त्रिफला सिरप – यह दवा त्रिफला जैसी शक्तिशाली जड़ी बुटी से तैयार की जाती हैं । जो पेट की प्रॉब्लम जैसे गैस, कब्ज, आंतो की समस्या और अपच के लिए उपयोगी है ।
  2. हिमालय त्रिकाटू सिरप – यह दवा भी पेट से जुड़ी प्रॉब्लम से निजात देती हैं । इनका सेवन करने से भूख बढ़ती है एव लिवर स्वस्थ रहता हैं ।
  3. हिमालय लिव 52 सिरप – यह सिरप लिवर को स्वस्थ रखने मे बहुत ही कारगर है । जिसे रोगी की पाचन शक्ति मजबूत होती हैं और भूख लगने लगती हैं ।

Cypon syrup – भूख बढ़ाने की अंग्रेजी दवा

यह भूख लगने की अंग्रेजी दवाओं मे से एक है । आमतौर पर इस दवा का उपयोग डॉक्टर की पर्ची से करना चाहिए । क्योकि डॉक्टर रोगी की स्थिति, लिंग व आयु के अनुसार खुराक निर्धारित करते है । यह साइप्रोहेप्टाडाइन, ट्राइकोलाइन साइट्रेट, सॉर्बिटोल नामक घटको से निर्मिता होती है ।

जो गैस, कब्ज व पेट से जुड़ी अन्य प्रोब्लेम्स के लिए उपयोगी है । यह दवा टेबलेट व सिरप के रूप मे मेडिकल स्टोर पर आसानी से उपलब्ध हो जाएगी । इनके साइड इफ़ेक्ट्स से बचने के लिए योग्य डॉक्टर की सलाह से सेवन करें ।

PEP-ON Syrup : पीईपी-ऑन सिरप – भूख लगने का Tonic –

यह भी एक एलोपेथिक दवा है जो भूख बढ़ाने मे कारगर है । साथ ही साथ पाचन शक्ति को बढ़ाती है । जिसे गैस, गैस व कब्ज जैसी प्रॉब्लम से राहत मिलती हैं । इनका सेवन डॉक्टर की पर्ची से करना ही उचित है ।

अंतिम शब्द – भूख बढ़ाने के लिए दवाओं के अलावा स्वस्थ खानपान के साथ साथ योग व्यायाम भी आवशक है । शारीरिक श्रम करने डाइजेस्ट सिस्टम सही रहता हैं और समय पर भूख लगने लगती हैं । जैसा की विदित है आज के लेख मे दी गई जानकारी केवल शैक्षणिक है । उपरोक्त दवाओं का सेवन करने से पहले योग्य डॉक्टर से परामर्श लेना आवश्यक समझे ।।

Leave a Comment