पीरियड्स ब्लीडिंग रोकने की टेबलेट का नाम – 7 बेस्ट दवा 

Period Bleeding rokane ki tablet ke nam

पीरियड्स ब्लीडिंग रोकने की टेबलेट का नाम ।पीरियड्स जिसे आम भाषा मे माहवारी कहते है जो स्त्री में नेचुरल प्रक्रिया है । यह मासिक चक्र हर महिने में अपने तिथि के अनुसार आती है लेकिन अगर इसमें अनियमिता आ जाए तो अनेक तरह की शारीरिक परेशानियां स्त्री को झेलना पड़ता है इसके लिए मेडिकल स्टोर में अनेक तरह की दवाइयां मिलती है।

इन दिनों स्त्रियों में कई कारणों के वजह से जैसे पुजा पाठ, पार्टी या यात्रा के दौरान मेडिसिन से पीरियड्स को रोक अपने को सुरक्षित महसूस करती है जो कभी कभी स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से हानिकारक भी हो सकता है। कई स्त्रियां अपने बालिका को परीक्षा के दौरान इस दवाइयों का इस्तेमाल करने की राई देती हैं ताकि उनकी बालिका को किसी तरह की परेशानी ना हो और परीक्षाएं आसानी से दे पाए। यह दवाइयां बिना पर्ची के ही कई मेडिकल स्टोर में सहज रूप से मिल जाती है बिना डॉक्टर के अनुसार ही महिलाएं इसका सेवन बहुत ही आसानी से कर लेती हैं। Period Bleeding rokane ki tablet ke nam –

पढ़े – ब्रेस्ट कम करने की आयुर्वेदिक दवा Patanjali.

पीरियड में ज्यादा ब्लीडिंग होने के कारण –

मासिक धर्म के दौरान अधिक ब्लीडिंग यानी निर्धारित अवधि से अधिक दिनों तक लगातार ब्लीडिंग होने पर हैवी ब्लीडिंग कहा जाता हैं । इस ब्लीडिंग की वजह से रोजाना 3 से 4 पेड बदलने पड़ते हैं । वही नींद मे भी ब्लीडिंग होती हैं । इस प्रकार लगातार ब्लीडिंग होने पर महिलाओ को थकान व कमजोरी महसूस होती हैं । साथ ही साथ बॉडी पैन भी होता हैं तो चलिए जानते हैं – प्रमुख कारणों के बारे में –

  • हार्मोन असंतुलन,
  • थायराइड की प्रॉब्लम,
  • पेल्विक इनफेक्शन,
  • कैंसर या ट्यूमर,
  • अधिक स्ट्रेस एव
  • दवाइयों के साइड इफ़ेक्ट्स के कारण अधिक ब्लीडिंग हो सकती है ।

एक्सपर्ट के अनुसार आमतौर पर पीरियड्स के दौरान 3 से 5 दिन से अधिक समय तक मासिक धर्म होने पर हैवी ब्लीडिंग की श्रेणी मे रखा जाता हैं ।

पढ़े – महिलाओ को जोश की गोली का नाम प्राइस । 5 असरकारी दवा 

पीरियड ब्लीडिंग रोकने की टेबलेट का नाम –

मासिक धर्म मे ज्यादा ब्लीडिंग रोकने के लिए टेबलेट का उपयोग किया जाता है । ये अंग्रेजी टेबलेट आपके काफी उपयोगी हो सकती हैं लेकिन इस बात का ध्यान रखे कि इनका उपयोग डॉक्टर की सलाह से करे । दूसरी बात इन टेबलेट का उपयोग पीरियड्स के 5 दिन बाद करें ।

ज्यादातर मामलो मे दवाइयों के साइड इफ़ेक्ट्स के कारण होती हैं । या अधिक स्ट्रेस लेने के अलावा गर्म तासीर युक्त भोजन करने के कारण होती है । अधिक ब्लीडिंग होने पर मेनरेजीआ कहा जाता हैं । तो चलिए है – पीरियड्स रोकने की टेबलेट के बारे में –

पढ़े – स्त्री धातु रोग की दवा पतंजलि। Himalaya व आयुर्वेदिक दवा

Regestrone 5mg tablet – रेजेस्ट्रोन 5mg टेबलेट – पीरियड्स ब्लीडिंग रोकने की टेबलेट का नाम

यह दवाई पीरियड्स अनियमितता में ली जाती है यह यह एक ही समय में लिए जाने वाला दवाई है जो डॉक्टर के निर्देशानुसार में दिया जाता है इसके साइड इफेक्ट भी हैं जैसे सिर दर्द मचली आना पेट दर्द चक्कर आना असल में यह एक कृतिम हार्मोन है । जो प्रोजेस्टेरोन नामांक प्राकृतिक फीमेल हारमोंस जैसे प्रभाव दिखते हैं । इसके इस्तेमाल से पीरियड्स में अति रक्त स्राव या समय को और अधिक डालने के लिए दिया जाता है ।

वैसे यह महावारी के पहले गर्भाशय के दीवार के वृद्धि को धीमा करता है जिसके कारण बिल्डिंग की समस्या होती है । वैसे यह दवाई डॉक्टर के अनुसार ही लेना चाहिए लेकिन यदा-कदा अधिक महिलाएं इस दवाई का इस्तेमाल पीरियड्स को सुविधानुसार सुचारू रूप से लाने में इस्तेमाल करती है जो कि हानिकारक भी हो सकता है।

Tranexamic acid – पीरियड्स ब्लीडिंग रोकने की टेबलेट का नाम

यह दवाई पीरियड्स की असंतुलित गतिविधियों पर अंकुश लगाती है बिना डॉक्टर के ही यह दवाई किसी भी मेडिकल स्टोर से खरीदा जा सकता है हेवी ब्लीडिंग या ऑपरेशन के बाद ब्लीडिंग रोकने में या फिर पीरियड्स के समय पर पाबंदी लगाने में अपने सक्रिय भूमिका निभाती है ।

खाना खाने के बाद इस दवाई का उपयोग किया जाता है नहीं तो कुछ साइड इफ़ेक्ट्स भी हो सकता है । वैसे इन दवाइयों का सेवन डॉक्टर के अनुसार ही करना चाहिए अन्यथा किसी भी समस्या के लिए रोगी तैयार रहें ।

पढ़े – गर्भ ठहरने की अंग्रेजी दव । प्रेग्नेंट होने की 5 सबसे बेस्ट दवा

Terakind – पीरियड्स ब्लीडिंग रोकने की टेबलेट का नाम

यह दवाई हेवी ब्लीडिंग को रोकने में अपनी अहम भूमिका निभाती है लेकिन इस दवाई के इस्तेमाल से संबंधित किडनी संबंधित अगर किसी को समस्या हो तो जरूर परामर्श कर ले यह दवाई खाने से पहले लेने से पेट दर्द की समस्या हो सकती है ।

जो संक्रमण भी पैदा कर सकती है जिससे रोगी को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है । इसलिए इसका इस्तेमाल बहुत ही सोच समझ कर या योग्य डॉक्टर की सलाह से करें अन्यथा साइड इफ़ेक्ट्स का सामना करना पड़ सकता है।

Trapic 500 mg – पीरियड रोकने की टेबलेट –

इस दवा का इस्तेमाल बिना डॉक्टर के आदेश के ना करें यह दवा इस्तेमाल करने से 10: से 30 मिनट के अंदर या अपना काम करने लगता है अर्थात अति रक्त स्राव में यह अपनी जबरदस्त प्रभाव दिखाता है ।

इस दवाई का इस्तेमाल तभी करें जब ब्लीडिंग की समस्या अपने चरम सीमा पर हो अर्थात रोगी में यह बेतहाशा रक्त स्राव होता है । इस दवा का प्रभाव सिर्फ ब्लीडिंग की समस्या ही नहीं बल्कि अन्य समस्या जैसे असमय हो रहे ब्लीडिंग की प्रॉब्लम के लिए भी किया जाता हैं ।

हिलनोर 500mg – पीरियडस आगे बढ़ाने की टेबलेट –

यह टेबलेट अधिकतर महिलाओं के लिए जो अत्यधिक रक्तस्राव की परेशानी से निजात पाने के लिए करती है । लेकिन यदा-कदा कई महिलाएं इसका इस्तेमाल पीरियड्स के तिथी के फेर बदल में भी करती है जो कभी कभी बहुत ही घातक सिद्ध हो सकता है।

इसलिए नेचुरल तरीके से हो रहे पीरियड्स को अपने अनुकूल परिवर्तन न करें और करें भी तो बिषम परिस्थिति में करें । यह भी आवश्यक है कि आप योग्य डॉक्टर की सलाह से सेवन करे ।

पीरियड्स रोकने की दवा –

Tren AXA 500mg इसका इस्तेमाल अधिकतर असमय हो रहे ब्लीडिंग की समस्या या सर्जरी के बाद ब्लीडिंग हो रहे में अपनी अहम भूमिका निभाती है इसलिए अधिकतर महिलाएं इसका इस्तेमाल पीरियड्स को रोकने में करती है।

Seisran am tablet – इस टेबलेट का इस्तेमाल मरीज के उम्र और परिस्थिति के आधार पर दिया जाता है। मेडिकल स्टोर में एंडोमेट्रिओसिस पीरियड्स में एब्नार्मल यूटरारन ब्लीडिंग के उपचार के तहत दिया जाता है ।

पीरियड्स के दौरान होने वाली हैवी ब्लीडिंग को रोकने के उपाय

महिलाओ मे मासिक धर्म के दौरान होने वाली हैवी ब्लीडिंग को रोकने के लिए कुछ आवश्यक घरेलू उपायो का सहारा लिया जाता हैं जिसे दादी माँ के नुस्खे भी कहा जाता हैं । ये नुस्खे बहुत उपयोगी होते है। तो चलिए जानते हैं – पीरियड्स रोकने के घरेलु उपाय के बारे में –

  • कुछ समय तक अदरक को गर्म करके उसमे शहद मिलाकर दिन मे 3 बार सेवन करने से अधिक रक्त स्त्राव से राहत मिलती है । यदि शहद न हो तो चीनी का इस्तेमाल कर सकते हैं ।
  • मासिक धर्म मे अधिक रक्त स्त्राव होने पर खट्टे फलो का सेवन करना लाभकारी है क्योकि ये फल विटामिन सी से भरपुर होते हैं और विटामिन सी ब्लीडिंग रोकने मे उपयोगी होती है।
  • 500ml पानी मे केवल 6g धनिया बीज़ पाउडर यह उबालकर उसमे चीनी मिलाकर सेवन करने से पीरियड्स की ब्लीडिंग को रोकने मे कारगर है ।
  • सरसों को मिक्सी मे पीसकर उसे रक्त स्त्राव के दौरान गुनगुने दूध के साथ सेवन करने से हैवी ब्लीडिंग से निजात मिलती है। इसी प्रकार सौफ पाउडर को उबालकर गुनगुने पानी को पीने से राहत मिलती हैं । वही पपीता, दाल चीनी एव कद्दू का रस पीरियड्स को रोकने के लिए उपयोगी है ।

निष्कर्ष – मासिक धर्म चक्र महिलाओ मे होने वाली एक प्राकृतिक प्रक्रिया है । इसलिए इनके साथ साथ किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ न करे । यदि आप ऐसा कर रहे है तो आपके लिए नुकसान हो सकता हैं । यदि शारीरिक कारणों या दवाओं के साइड इफेक्ट्स के कारण ऐसा हो रहा हैं तो योग्य डॉक्टर की सलाह से दवाओं का सेवन करे ।