लीवर की गर्मी का घरेलू इलाज । Liver ki garmi ka ilaaj.

liver ki garmi ka ilaaj.
liver ki garmi ka ilaaj.

Liver ki garmi ka ilaaj. लीवर जिसे हम यकृत या जिगर या कलेजा भी कहते हैं l मानव शरीर में इसका स्थान पेट के दाहिने ऊपरी हिस्से में डायफ़्रॉम के नीचे और नाशपती के आकार के पित्ताशय के ऊपर होता है l यह हमारे खाने को पचाने कि क्रिया के लिए जैव रसायन को बनाता है l हम जो भी खाते हैं उस खाने को यह एनर्जी में बदल देता है l सबसे जरूरी कि यह हमारे शरीर से गंदगी को बाहर निकाल कर उसे साफ रखता है l

लीवर हमारे बॉडी का सबसे महत्वपूर्ण अंग है । जो मानव शरीर की गंदगी को बाहर निकालने का कार्य करता है । लेकिन यह ठीक से कार्य करने में अक्षम होता हैं तो परेशानियों से सामना करना पड़ता है । बदलती जीवनशैली एवं गलत खानपान के कारण कभी लीवर की गर्मी बढ़ जाती हैं । तो चलिए जानते है लीवर की गर्मी का इलाज – liver ki garmi ka ilaaj.

◆ लीवर के कारण लक्षण व बचाव । Liver disease symptoms in hindi.

Table of Contents

लीवर के गर्मीं के लक्षण । Liver ki garmi ke lakshan.

● छाती में दर्द होने लगता है l
● खांसते समय गले से खून आता है l
● बहुत चिड़चिड़ा स्वभाव हो जाता है l
● सिर सुन होना एवं चक्कर आने लगते है l
● मुँह कड़वा होने लगता है l
● जीभ, आँखें और नाखून पीले दिखने लगते हैं l
● दिल कि धड़कन तेज होना l
● पेट में दर्द होना शुरू हो जाता है l
● कब्ज एवं पेट में सूजन आ जाती है l
● एड़ी एवं पैर में सूजन आने लगती है l
● भूख कम लगने के साथ साथ कमजोरी महसूस होती है ।
● उल्टी जैसा महसूस होता है l
● पेशाब पीली होती है l
● बहुतायत में प्यास लगती है l
● गर्दन और कंधों की माँस पेशीयों में अकड़न होती है l
● सिर के किनारे दुखने लगता है l
● बहुत अधिक गर्मीं होने लगती है l
● नींद न आना आदि ।

लीवर में इन्फेकशन के कारण । Causes of liver infections.

● इम्यून सिस्टम के कमजोर होने से वाइरस शरीर पर हमला बोलते हैं l जिससे लीवर में सूजन आ जाती है l और उसके कारण शरीर में हेपेटाइटिस ए, बी और सी हो जाता है l

अ. हेपिटाइटिस ए – यह खानपान कि अनियमितता के कारण होता है l कई बार इसके लक्षण भी नहीं दिखते l पर ये छः महिने में ठीक भी हो जाता है l

ब. हेपिटाइटिस बी – यह अनुचित और असुरक्षित यौन संबंध रखने से होता है l ड्रग्स लेने वालों को भी इसका खतरा रहता है l जिसके चलते लीवर कैंसर और दूसरी बीमारियाँ भी हो जाती हैं l

स. हेपिटाइटिस सी – यह गलत और गंदे खून के आदान प्रदान से होता है l इन्फेकटेड सुई से एचआईवी भी हो जाता है l

हेपेटाइटिस सी के लक्षण व इलाज । Hepatitis c in hindi.

2. बहुत अधिक शराब पीना l
3. बहुत अधिक मोटापा भी इसका करण है l
4. किसी दवाई का अधिक मात्रा में सेवन करना l
5. जेनैटिक भी कारण हो सकता है l
6. पुरुषों में इम्युन सिस्टम के गड़बड़ाने की संभावना ज्यादा रहतीं है l यदि इम्युन सिस्टम गड़बड़ाया तो लीवर फेल्यूर भी हो सकता है l

7. जिस आदमी को कैंसर है तो उसके सेल्स लीवर को ख़राब करदेता है l
8. फैटी लीवर – इसमें लीवर में बहुत ज्यादा फैट बढ़ जाता है l

लीवर की गर्मीं से कैसे बचें । liver ki garmi se kaise bache.

● शराब पीना बंद करें l
● हेपीटाइटिस ए. बी. का टीका अवश्य लगाएँ l
● डॉक्टर ने दी हुई दवाईयों की उतनी ही खुराक खाएं जितनी कही है l
● खाना खाने से पहले अपने हाथ साबुन से जरूर धोए l
● खून देते और लेते समय डिस्पोजल सीरिंज का ही इस्तेमाल करें l
● यदि टेटू बनवाना हो तो किसी अच्छी जगह से बनवाएं l
● अपना वजन बढ़ने न दें l
● रेड मीट, प्रॉस्टेड कारबोहाइड्रेट और हाईफ्रूकटोज वाली चीजों से परहेज करें l
● प्रतिदिन कम से कम 30 मिनट व्यायाम अवश्य करें l
● प्रतिदिन सुबह तीस मिनट घूमने जाएँ l
● बहुत पानी पियें l
● कम से कम एक खीरा अपने भोजन में अवश्य लें l

 

लीवर की गर्मी के घरेलू इलाज । liver ki garmi ka gharelu ilaaj.

● रोज 100 ग्राम प्याज़ खाएं l
● पुदीने का सेवन करें l
● हल्दी एंटीसेपटिक का काम करती है तो रात को सोते समय एक गिलास गरम दूध में एक चम्मच हल्दी डालकर पियें l

● गेहूं के ज्वार का रस निकाल कर पियें l इसमें क्लोरोफिल रहता है l यह रस रोग प्रतिरोधक क्षमता रखता है l इसमें रोग निवारक शक्ति होती है l
● आंवले का सेवन दिन में दो बार करें l इसमें उपस्थित विटामिन c लीवर कि कार्य क्षमता को बढ़ता है l

● निम्बू और पपीते का रस पियें l इससे लीवर सिरोसिस नहीं होता ।
● लहसुन लीवर की इन्जाइम्स को एक्टिव रखता है और यह लीवर को साफ भी करता है ।

नींबू से लीवर की गर्मी का इलाज । Nimbu se liver ki garmi ka ilaaj.

नींबू विटामिन सी से भरपूर होती है । गर्मियों में नींबू पानी सेहतमंद होता है । यह लिवर की गर्मी को दूर करने में सहायक होता है । एक गिलास पानी में एक निब्बु का रस निकलकर उसमें स्वाद पुरता सेंधा नमक डालकर पियें l नीम्बू में डी लिमोनेन होता है जो लीवर को एक्टिव और स्वथ्य रखता है l

गाजर और पालक का जूस से लीवर की गर्मी का इलाज । Gajar our palak se liver ki garmi ka ilaaj.

गाजर पर पालक इन दोनों को लीवर कि गर्मी का रामबाण इलाज माना जाता है । गाजर में करोटिनाइड हाइड्रोकार्बन होता है जो लीवर कि गर्मी के कारण बढ़े हुए फ्रूक्तोज को कम करता है । जिससे लीवर स्वस्थ रहता है । गाजर का हाईट्री फाइबर भी लीवर को स्वस्थ रखता है । साथ ही साथ पाचन तंत्र को भी मजबूत रखता है । इन दोनों में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं l जिससे लीवर से फैटी एसिड और टॉकसिक पदार्थ कि मात्रा कम हो जाती है ।

सेब के सिरके से लिवर की गर्मी का इलाज । seb ke sirake se liver ki garmi ka ilaaj.

सेब का सिरका भी लिवर की गर्मी को दूर करने में उपयोगी साबित होता है । इनके लिए सेब के सिरके को दिन में दो बार पियें । सेब का पॉली फेनोल्स लीवर कि सीरम को कम करता है l सेब के एंटी इनफ्लेमेट्री गुण फैटी लीवर होने से बचाते हैं l

प्याज़ से लीवर कि गर्मी का इलाज । Pyaj se liver ki garmi ka ilaaj.

प्याज़ में एंटीइंफ्लेमेटरी, एंटी एलर्जीक, एंटी ऑक्सीडेंट, एंटी कार्सिनोजेनिक गुण होते हैं । प्याज़ में आयरन, पोटेशियम, बी काम्प्लेक्स, विटामिन, विटामिन B6, मौजूद होता है । यह सलन्फ्यूरी कम्पाउंड और फ्लेमोनाइट्स का भंडार होता है । यह लीवर में फैट कि मात्रा कम करता है । इससे कब्ज कि समस्या भी डॉयर होती है ।

तरबूज से लीवर कि गर्मी का इलाज । Tarbuj se liver ki garmi ka ilaaj.

तरबूज लीवर को डिटोक्सइफाइड करता है । यह लीवर को स्वस्थ और साफ रखने के साथ लीवर कि कार्यक्षमता को बढ़ाता है । प्रोटीन के पचने के बाद अमोनिया प्रोसेस कर शरीर से बाहर निकालने में मदद करताहै ।

मुलेठी से लीवर की गर्मी का इलाज । Mulethi se liver ka ilaaj.

मुलेठी एसीडिटी, पेट के अल्सर, लीवर कि गर्मी से हुए पेट के सूजन को कम करती है और वजन घटाने में भी मदद करती है l इसमें केलशियम, आयरन, मेग्नेशीयम, पोटेशियम, सेलेनियम, फासफोरस, सिलिका, जिंक जैसे खनिज लवण होते हैं । यह विटामिन A और विटामिन E की भंडार मानी जारी है । इसे पीसकर पाउडर बनाना है । फिर एक गिलास पीने के पानी को उबालते समय इसके एक चम्मच पाउडर को उसमें मिला देना है । दस मिनट ढक कर रखें । फिर गुनगुने होने पर पीना है । इसमें शरीर के विषयुक्त पदार्थों को दूर करने की क्षमता होती है ।

छाछ से लीवर की गर्मी का इलाज । Chhachh se liver ki garmi ka ilaaj.

छाछ की तासीर ठंडी होती है । इसे पीने के बाद यह हमारे पेट और आंत को ठंडा रखता है l इसके प्रीबायोटिक लीवर में जमें फेट को कम करते हैं । इसमें प्रोटीन की मात्रा भरपूर होती है । इसमें राईबोकलेवीन की उपस्थिति कम होती है जो लीवर को स्वस्थ रखता हैं । छाछ प्रतिरोधकक्षमता बढ़ाता है । और प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत भी करता है ।

छाछ पीने के फायदे । Buttermilk benefits in hindi.

खीरे से लीवर की गर्मी का इलाज । khire se liver ki garmi ka ilaaj.

खीरा हमें आसानी से मिल जाता है । इसमें विटामिन के, विटामिन कोर्ट विटामिन B6 होता है । यह पेट को ठंडा रखता है और इसी वजह से लीवर की गर्मी को कम करता है । खीरा फाइबर और खनिज का भंडार है । इसमें कैल्शियम, आयरन, फासफोरस और जिंक होता है । उसमें पानी होने से यह शरीर को हाइड्रेटेड रखता है । यह त्वचा को शुष्क नहीं होने देता । इसमें शरीर से विषयुक्त पदार्थ हटाने को क्षमता होती है । और यह लीवर का पोषण भी करता है ।

गुलकंद से लीवर की गर्मी का इलाज | Gulkand se liver ki garmi ka ilaaj.

गुलकंद गुलाब की पंखुड़ियों से बनता है । यह मीठा होता है । यह लीवर की गर्मी को दूर करता है । इसे खाने से लीवर ठंडा रहता है । यह पाचन तंत्र सुधारने में मदद करता है । इसे खाने से लीवर मजबूत बना जाता है ।

पपीते से लीवर की गर्मी का इलाज । papite se liver ki garmi ka ilaaj.

पपीता बहुत लाभकारी होता है इसे काट कर खाना भी उतना ही लाभकारी है जितना इसका ज्यूस । पपीता डिटोक्स करता है । इसमें फाइबर, करोटीन विटामिन C, विटामिन E और विटामिन A होता है । ये सब रोगों से लड़ते हैं । इन्फेक्शन को डॉयर करते हैं l खाने को पचाते हैं और लीवर को मजबूत बनाते हैं ।

Liver ki garmi ka ayurvedic ilaaj.

लीवर की गर्मीं का आयुर्वेदिक इलाज । Liver ki garmi ka ayurvedic ilaaj.

● गरम चीजें न खाये ।
● नारियल पानी पिएं ।
● सत्तू खाएं ।
● दलिया खाएं ।
● रात को सोने से पहले एक चम्मच त्रिफला चूर्ण लें ।
● विरेचन कर्म की प्रक्रिया करें अर्थात आँतो से शरीर की गंदगी निकालने के लिए जड़ी बूटियों से दस्त लाने की क्रिया करनी होती है । जिससे पित्ताशय और छोटीं आंत से पित्त की सफाई हो जाती है ।

● कलमेघ जड़ी बूटी का सेवन करें । इससे भूख बढ़ती है और पाचन किया सरल हो जाती है ।
● कटुका की गोली अर्क और पाउडर बना कर खा सकते हैं ।
● भृंगराज नसों को आराम देता है । खून के जमने को रोकता है ।
● दरूहद्रीका लेने से भूख बढ़ती है ।
● रात को सोने से पहले दूध हल्दी लें । ये हेपिटाइटिस B और C को बढ़ने से रोकता है ।

● एक गिलास पानी में एक चम्मच एप्पल विनेगर और शहद को मिलाकर दो से तीन बार लेने से शरीर कि गंदगी साफ हो जाती है । लीवर हमारे शरीर का बहुत ही महत्वपूर्ण अंग है । यदि इसमें खराबी हुई तो शरीर के दूसरे भी अंग ख़राब हो जाते हैं । इसके बिगड़ने से कई बड़ी तकलीफो का सामना करना पड़ता है ।। मंजिरी ‘निधी’ ।।