Site icon Global Health Tricks

हेल्थ कार्ड कैसे बनाये । health id card online apply 2021

Health id card online apply.

Health id card online apply. देश में लोगों को स्वास्थ्य से जुड़ी कई बीमारियां होती हैं । जिसकी फाइलें बनाकर उन्हें घूमना पड़ता है । उन्हें संभाल कर भी रखनी पड़ती है । इन फाइलों की झंझटतो से बचाने के लिए सरकार ने हेल्थ कार्ड कार्ड की योजना बनाई । इस हेल्थ कार्ड के बनाने पर लोगों के इलाज में आसानी होगी । उन्हें कई सारे फाइलों को लेकर घूमना नहीं पड़ेगा ।

इस कार्ड के द्वारे केंद्रीय सरकार ने इस योजना को नाम दिया वन नेशन वन हेल्थ कार्ड ( one national one health card ) । यह एक यूनिक कार्ड है । आप की बीमारी, उसका इलाज और मेडिकल टेस्ट से जुड़ी सभी जानकारियां इसमें होती हैं । इस कार्ड पर आपको 14 अंकों का एक नंबर मिलेगा । इसी नंबर से किसी मरीज की मेडिकल हिस्ट्री का पता चल सकेगा । आज की आधुनिक टेक्नोलॉजी का आधुनिक कार्ड है। तो Health id card के बारे में जानते है –

Also Read

फेफड़ों को स्वस्थ कैसे रखे । lungs Healthy tips in hindi.

स्वस्थ रहने के आसान टिप्स । Healthy living tips in hindi.

हेल्थ कार्ड क्या होता है । What is digital health id card –


Health id card एक ऐसा डिजिटल कार्ड है जिस में व्यक्ति के स्वास्थ्य से जुड़ी हर जानकारी जमा होती है । यह एक डिजिटल स्वरूप है । जिसमें मरीज के इलाज के दौरान किए गए टेस्ट, डॉक्टर की रिपोर्ट, डिस्चार्ज रिपोर्ट, बीमारी संबंधी पूरी जानकारी इस कार्ड में भरी होती है । जिससे मरीज को डॉक्टर के पास फाइल रिपोर्ट, केस पेपर आदि लेकर जाना नहीं पड़ता ।


अपना हेल्थ आईडी नंबर बनाकर उसे वह हेल्थ आईडी नंबर डॉक्टर को बताना होता है । जिससे डॉक्टर के पास उस व्यक्ति की सारी जानकारी, बीमारी का पता मिल जाता है । साथ ही साथ डॉक्टर को मरीज के बारे में सब पता चलता है। इसे PM modi health card भी कहा जाता है ।

हेल्थ आईडी कैसे काम करती है | Aayushman bharat digital health card –


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सितंबर 2021 में आयुष्यमान भारत डिजिटल मिशन ( ABDM ) की शुरुआत की । इस डिजिटल मिशन के जरिए लोगों को एक यूनिक डिजिटल आईडी कार्ड दिया जाएगा । जिसमें उनका स्वास्थ्य संबंधी रिकॉर्ड दर्ज होगा । जिसे health id card कहा जाता है ।

Health id card में उस व्यक्ति की बीमारी और इलाज से संबंधित सभी तरह की जानकारी दर्ज करनी पड़ती है । इस कार्ड के जरिए मरीज की मेडिकल हिस्ट्री का पता चल जाता है।


Health id card के लिए आवश्यक डॉक्यूमेंट –


सभी भारतीयों के लिए यह योजना केंद्र सरकार द्वारा बनाई गई है । इस योजना का मुख्य उद्देश्य स्वास्थ्य सम्बंधित डाटाबेस तैयार करना है । इस योजना के अंर्तगत उन सभी डॉक्टर्स का डाटाबेस तैयार किया जायेगा जो देशभर में स्वास्थ्य सेवाएं दे रहे है । इस Health id card को बनाने के कुछ कागज़ात की आवश्यकता होगी जिनमें आधार कार्ड मुख्य है । तो चलिए जानते है –


● मोबाइल नम्बर
● आधार कार्ड
● बैंक पासबुक आदि ।
इनके अलावा आपके बारे में पूरी जानकारी देनी होगी । हालांकि ये डिजिटल कार्ड है जो आधार कार्ड से स्वत् एक्सचेंज कर लेगा । सबसे अहम बात यह है कि आपका आधार कार्ड मोबाइल नंबर से लिंक होना चाहिये ।

हेल्थ कार्ड कैसे बनायें । health id card registration –


आप अपना Health id card बनवाना चाहते हैं, तो आपको सबसे पहले आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन ऐप यानी पोर्टल पर जाकर रजिस्टर करना होगा । आप मोबाइल नंबर से भी रजिस्टर कर सकते हैं । इसमें आपको बेसिक जानकारियां भरनी होगी । तथा जो मोबाइल नंबर आप इस्तेमाल करने वाले हो, वह मोबाइल नंबर को वेरिफिकेशन करना होगा ।


● आप आधार कार्ड या ड्राइविंग लाइसेंस या पैन कार्ड पैन कार्ड का भी इस्तेमाल कर सकते हो । मोबाइल आधार कार्ड से लिंक करते समय आपको अपना नाम जन्म वर्ष, लिंग, पता और मोबाइल नंबर आधार कार्ड की पूरी जानकारी भरनी होगी । अगर किसी के पास आधार कार्ड नहीं है या उन्हें आधार कार्ड जोड़ना नहीं है, तो वह केवल मोबाइल नंबर का उपयोग करके भी हेल्थ आईडी कार्ड बना सकते है ।


● अगर किसी के पास आधार कार्ड नहीं है या उन्हें आधार कार्ड जोड़ना नहीं हैं तो वह केवल मोबाईल नंबर का उपयोग करके हेल्थ कार्ड आईडी बना सकता है । लाभार्थी ने अगर आधार कार्ड लिंक किया है तो उसे लिंक मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी आता है ।


● OTP वेरिफिकेशन के लिए उस ओटीपी को डालकर आप लिंक से जोड़ जाते हो । अगर आपका मोबाइल नंबर लिंक मोबाइल नंबर नहीं है, तो आपको निकटतम केंद्र पर जाकर बायोमेट्रिक प्रमाणीकरण का विकल्प चुनकर अपना Health id card बनाना पड़ता है ।

हेल्थ आईडी कार्ड के लिए एप्लाई कैसे करें | health id card online apply


● Health id card बनाने के लिए सबसे पहले आपको नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन ( NDHM) की आधिकारिक वेबसाइट https://ndhm.gov.in/ पर जाना होगा ।
● इस वेबसाइट पर आपको क्रिएट योर हेल्थ आईडी का ऑप्शन दिखाई देगा । आपको ऑप्शन पर क्लिक करना है ।


● इस नए पेज पर आते ही आपके सामने दो विकल्प होंगे अगर आप अपने आधार कार्ड का उपयोग करते हुए आईडी कार्ड बनाना चाहते हैं तो जनरेट वाया आधार कार्ड पर क्लिक करें ।
● क्लिक करने से ही आप के आधार कार्ड का नंबर डालने के लिए कहा जाएगा इसके साथ ही आप से सहमति मांगी जाएगी अगर आप सहमत हैं तो आए एग्री पर क्लिक करके सबमिट करें ।

Health card ke liye Apply kaise karen.

● सबमिट करने के बाद आपके रजिस्टर मोबाइल नंबर पर 6 अंको का ओटीपी आएगा आपको ओटीपी कोड डालकर वेरिफिकेशन करना होगा ।
● इसके बाद आपसे आपके मोबाइल नंबर को भी वेरिफिकेशन करने के लिए कहा जाएगा यह जिस मोबाइल नंबर पर आपको ओटीपी आएगा उस मोबाइल नंबर पर इंटर करना होगा ।


● इसके मोबाइल पर 6 अंकों का एक और ओटीपी आएगा इस ओटीपी कोड को डालकर एक बार फिर से वेरिफिकेशन करना होगा । आपके मोबाइल पर 14 अंकों की आईडी नंबर के साथ एक और मैसेज आएगा आप मैसेज में दिए गए लिंक के जरिए लॉगिन कर सकते हैं । इसके बाद आपसे नाम, जन्म का वर्ष आदि सामान्य जानकारियां मांगी जाएगी । सभी जानकारियां भरने के बाद सबमिट बटन पर क्लिक करते ही आपका आईडी तैयार यानी जनरेट हो जाएगा ।


● आप अपना आईडी कार्ड मोबाईल पर भी जनरेट कर सकते हैं ।
● इसके लिए पहले अपना मोबाइल नंबर और मोबाइल पर आए हुए ओटीपी को इंटर कर वेरीफिकेशन करे ।
● आपको यहां अपनी एक फोटो में जन्म वर्ष, पता, आदी कुछ और जानकारियां भी देनी होगी ।
● अब जो पेज खुलकर आपके सामने आ जाएगा, उस पर मांगी हुई जानकारियां आपको भरनी है । पूरी जानकारियां भरने के बाद आपका हेल्प आईडी कार्ड जनरेट हो जाएगा।

क्या आपका हेल्थ आईडी कार्ड सुरक्षित है ? Is health id card secure.


केंद्र सरकार का कहना है कि किसी भी नागरिक का डाटा किसी को भी शेयर नहीं किया जाएगा । इसके अलावा साइबर क्राइम से बचने के लिए एक अलग से सुरक्षित टीम भी बनाई जाएगी । जो इस डाटा को सुरक्षित रखने का काम करेगी । जब कोई अपना डाटा डॉक्टर को दिखाने के लिए एक्सेस करेगा, तो वह एक बार ही एक्सेस कर सकता है । वह थोड़ी देर के लिए रहेगा । अगर दोबारा डॉक्टर को डाटा दिखाना होगा, तो दुबारा मरीज को अपना डाटा एक्सेस करना होगा ।


जब तक आप किसी को अपना 14 नंबर का पिन तथा एक्सेस नंबर नहीं बताओगे तब तक आपका डाटा सुरक्षित रहेगा । जी हां सरकार द्वारा आपका हेल्थ कार्ड सुरक्षित है । सिर्फ आप किसी गलत इंसान के हाथ में ना दे और आपका कार्ड गुम ना करें तो यह कार्ड सुरक्षित है।

हेल्थ कार्ड के फायदे | Health id card benefits –


आप अगर किसी अस्पताल में भर्ती होते है । तो आप अपना रिकॉर्ड Health id card से एक्सेस कर सकते हो। तथा पर्सनल हेल्थ रिकॉर्ड भी हेल्थ आईडी के साथ लिंक कर सकते हो ।
● इस हेल्थ आईडी के साथ हम दुनिया भर के डाक्टर के साथ बात कर सकते है ।
● आपकी हेल्थ की जानकारी तुरंत उस डॉक्टर के पास पहुंच जाएगी ।
● आप जन्मे से बच्चों का हेल्थ आईडी बना सकते है ।
● आप इसमें नॉमिनी भी जोड़ सकते है ।
● जो आपके पर्सनल डेटा को मैनेज कर आपकी मदद कर सकता है ।
● हर समय हमें फाइलें लेकर घूमना, उन्हें संभालकर रखने के जरूरत नहीं है ।
● हेल्थ कार्ड आजकल के आधुनिक युग का अहम हिस्सा है।

पर्सनल हेल्थ रिकॉर्ड ( PHR ) । Personal Health record in hindi –


PHR यानि पर्सनल हेल्थ रिकॉर्ड । यह एक स्वघोषित यूजर्स नेम है । कंसेंट मैनेजर में साइन इन करने की जरुरत होती है । डाटा शेयरिंग के लिए सभी हेल्थआईडी को एक कंसेंट मैनेजर से लिंग किया जाता है । वर्तमान में सभी हेल्थ यूजर्स , हेल्थ आईडी साइन उप के दौरान अपना खुद का पर्सनल हेल्थ रिकॉर्ड एड्रेस जनरेट कर सकता है । आईडी बनाने के दौरान आपको कंसेंट मैनेजमेंट के लिए एक पर्सनल हेल्थ रिकॉर्ड एड्रेस सेट करना पड़ता है। फिर बाद में अपना स्वास्थ्य रिकॉर्ड साजा करना पड़ता हैं।


व्यक्तिगत स्वास्थ्य रिकॉर्ड एक स्वास्थ का रिकॉर्ड है । जहां रोगी द्वारा स्वास्थ्य डाटा और रोगी की देखभाल से संबंधित अन्य जानकारी संभाल कर रख दी जाती है । यह इलेक्ट्रॉनिक मेडिकल रिकॉर्ड के विपरीत काम करता है । जो संस्थानों द्वारा जैसे अस्पताल द्वारा संचालित होता है ।

इसमें बीमा दावों का समर्थन करने के लिए डॉक्टरों द्वारा दर्ज किया गया बिलिंग डाटा जाता है । पी एच आर का उद्देश्य किसी व्यक्ति के चिकित्सा का इतिहास का पूर्ण और सटीक सारांश प्रदान करना है । जो ऑनलाइन उपलब्ध हो। PHR पर स्वास्थ डाटा में रोगी द्वारा रिपोर्ट किए गए परिणाम डेटा, प्रयोगशाला परिणाम, शामिल होते हैं।

नित्कर्ष – Health id card आज के आधुनिक जीवन शैली में जरूरी है । जिसमें एक ही जगह पर हमारी सारी जानकारी, बीमारी, बीमारी का प्रकार, उसके उपचार तथा औषधी, डाक्टर के नाम सहित पता चलते है । कल अगर हमारी फाइलें गायब हो गई तो भी हमारी जानकारी साबुत रहती है । इसका फायदा हमें मरते दम तक होता है ।। अल्पिता बासा ।|

Share
Exit mobile version