पेट फूलने के कारण और उपाय । stomach bloting in hindi.

stomach bloting in hindi.

Stomach bloting in hindi. आज के नाना प्रकार के बीमारियों के दौर में अक्सर देखा गया है कि कुछ लोगों का पेट खाना खाने के बाद फूल जाता है। ऐसा तब होता है जब हमारे पाचन तंत्र में गड़बड़ी आ जाती है। इसमें पेट में गैस भर जाता है, जिससे पेट फूला हुआ प्रतीत होता है। यह मोटापा नहीं है, बल्कि सिर्फ पेट में गैस भरने की वज़ह से पेट फूला हुआ दिखाई देता है। यह एक गंभीर समस्या है, इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। इसका कारण क्या है ? इसके लक्षण क्या हैं ? इसका उपचार क्या है? जानेंगे आज के इस आर्टिकल में विस्तार से…..

पढ़े – पेट की गर्मी के लक्षण व उपचार । Pet ki garmi ka ilaaj.

पेट फूलना क्या है | what is stomach bloting in hindi.

पेट फूलने का मतलब पेट मे हवा भर जाना । यानी मोटापा और पेट फूलने में अंतर है। ज़ब खाना ठीक से डाइजेस्ट नहीं होता है तो पेट में गैस बनने लगता है, और इस गैस के कारण ही पेट फूला हुआ दिखाई देता है। यह समस्या छोटी आंत में गैस भरने से प्रारम्भ होती है। जिसे आपका पेट भरा हुआ लगता है । देखने में भी थोड़ा फुला हुआ लगता है जैसे कि आपने बहुत ज्यादा खा लिया हो । पेट फूलने का मुख्य कारण गैस, अपच हो सकता है । कभी कभी अस्थायी रूप से सूजन भी हो सकती हैं ।

पेट फूलने के कारण ? Causes of stomach bloting in hindi.

1. खान-पान में असंतुलन – खान-पान में असंतुलन पेट फूलने की समस्या का बहुत बड़ा कारण है। लंबे समय तक भूखे रखना, खाना अच्छी तरह से चबाकर ना खाना, तेल और मसाले वाले भोजन का ज्यादा सेवन करना, बासी भोजन करना इत्यादि पेट फूलने की समस्या को जन्म देते हैं।

2. खाने के साथ-साथ पानी पीते रहना – यह भी पेट फूलने का एक बड़ा कारण है। खाना खाते-खाते पानी पीते रहने से भी गैस की समस्या शुरू होती है और पेट फूलने की समस्या को जन्म देती है।

3. एक अवस्था में बैठे रहना – लंबे समय तक एक ही जग़ह में बैठे रहने से भी ये समस्या उत्त्पन हो जाती है। अक्सर लोग ऑफिस में, बच्चे स्टडी टेबल पर लंबे समय तक एक ही अवस्था में बैठे रहते हैं, यह उपरोक्त समस्या का कारण बनता है।

4. हार्मोनल इंबैलेंस तथा पीरियडस – कभी-कभी हार्मोन में असंतुलन पैदा होने से भी यह समस्या उत्त्पन हो जाती है। तथा पीरियडस के समय में भी शारीरिक बदलाव के कारण भी पेट फूलने की समस्या हो सकती है।

5. ऑक्सीजन की कमी – ज़ब हमारे शरीर में ऑक्सीजन की कमी हो जाती है, तो इससे भी stomach bloting की समस्या उत्त्पन होती है।
6. Depression – depression अर्थात तनाव के शिकार लोगों में भी पेट फूलने की समस्या देखी गई है।

7. खाने के तुरंत बाद लेट जाना – खाना खाने के तुरंत बाद लेट जाना पाचन तंत्र और सेहत के लिए बहुत ही नुकसानदायक है। इससे भी पेट फूलने और गैस की समस्या शुरू होती है। खाना खाने के तुरंत बाद लेटना बिलकुल नहीं चाहिए बल्कि हो सकते तो कुछ दूर जरूर चलना चाहिए।

पढ़े – जंक फूड खाने से क्या होता हैं । Junk food side effects in hindi.

पेट फूलने के लक्षण । symptoms of stomach bloting in hindi.

1. घबराहट और बेचैनी – पेट फूलने की समस्या में लोगों को घबराहट और बेचैनी महसूस होती है।
2. वजन घटना – जो लोग पेट फूलने की समस्या से पीड़ित होते हैं, उनका वजन निरंतर घटता जाता है।
3. पेट दर्द – stomach bloting के कारण पेट में अचानक काफ़ी दर्द महसूस होता है।
4. थकान – व्यक्ति या महिला को हर घड़ी थकान महसूस होता है।
5. सिर दर्द और कमजोरी – निरंतर सिर दर्द और कमजोरी महसूस होती है।
6. बार-बार गैस बनना – stomach bloting में बार-बार गैस बनता है और  पेट फूल जाता है।
7. बुखार – कभी-कभी व्यक्ति को stomach bloting में बुखार भी आ जाता है।
8. खट्टा डकार आना – पीड़ित व्यक्ति या महिला को खट्टे डकार आते हैं।
9. पेट में ऐंठन – अचानक पेट में ऐंठन शुरू हो जाता है।
10. भूख कम लगना – पीड़ित व्यक्त या महिला को भूख कम लगती है, और खाली पेट रखने के कारण गैस भरने लगती है।
11. उल्टी – पीड़ित व्यक्ति या महिला को उल्टी महसूस होता रहता है।
12. लगातार हिचकी आना – stomach bloting में लगातार पीड़ित व्यक्ति या महिला को हिचकी आती रहती है।
13. कब्ज और दस्त की समस्या भी stomach bloting में आम है।

खान-पान में क्या परहेज करें ? Pet fulane par kya karen.

1. चीनी और मीठे चीजों का सेवन कम करें।
2. चाय और कॉफी का इस्तेमाल सीमित करें। विशेषकर दूध वाली चाय से परहेज करें।
3. प्याज़, लहसुन, गोभी तथा बीन्स का सेवन पीड़ित व्यक्ति बिलकुल ना करें।
4. कार्बोनेटेड ड्रिंक्स का इस्तेमाल सीमित करें।
5. स्मोकिंग, ड्रिंकिंग से परहेज करें।

पेट फूलने की समस्या से बचाव के घरेलु उपाय | Home remedies of stomach bloting in hindi.

1. खान-पान में सुधार – तले – भुने, मिर्च मसाले युक्त खाद्य पदार्थो का सेवन सीमित करें।
2. पानी – पर्याप्त मात्र में पानी पियें, यह पाचन क्रिया के लिए बहुत जरुरी है।
3. योग – प्रतिदिन योग जरूर करें।
4. लंबे समय तक भूखा ना रहें, एक निश्चिंत अंतराल पर खाना जरूर खाएं।

पेट फूलने की समस्या को घरेलु तरीके से दूर कैसे करें ? Pet fulana kaise kam karen.

1. नींबू पानी – रोज़ सुबह हलके गर्म पानी में नींबू निचोड़कर पियें। ग्रीन टी में भी नींबू के रस को मिलाकर इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे काफ़ी लाभ मिलेगा।
2. नारियल पानी – stomach bloting में नारियल पानी बहुत ही रामबाण इलाज है। इसके इस्तेमाल से भी बहुत राहत मिलती है और इस समस्या से छुटकारा मिलता है।
3. जीरा – जीरे का इस्तेमाल तो सदियों से एक औषधि एक रूप में होता आ रहा है। जीरे का पानी गैस और पेट की कई अन्य बीमारियों में बहुत राहत पहुँचाता है। इसके इस्तेमाल से भी इस समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है।
4. सेब का सिरका – एक पेट के अंदर कई नुकसानदायक बैकटेरिया को नष्ट करता है, इसका इस्तेमाल भी stomach bloting में किया जा सकता है।
5. एलोवेरा जेल – पेट फूलने या गैस की समस्या में एलोवेरा जेल का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। यह भी कई संक्रामक बैकटेरिया को मरता है और इस रोग में फायदा पहुँचाता है।
6. अदरक पानी – फुले हुए पेट के लिए अदरक पानी रामबाण इलाज से कम नहीं है । अदरक का रस गर्म पानी के मिलाकर पीने से गैस जैसी प्रॉब्लम से मुक्ति मिलती हैं ।
सुझाव – नियमित एक्सरसाइज करके खान-पान का विशेष ध्यान रखें । और समय पर खाना खाएं । शरीर में पानी की कमी ना होने दें। यदि इस समस्या से जूझ रहे हैं तो फ़िर डॉक्टर द्वारा बताये गए निर्देशों का पालन करे ।