मर्दाना ताकत के लड्डू बनाने की विधि, फायदे, नुकसान

Mardana takat ke laddoo

मर्दाना ताकत के लड्डू – आज की बदलती जीवनशैली के कारण शारीरिक दुर्बलता का सामना करना पड़ता है । वही बढ़ती उम्र, युवा अवस्था में गलत हरकतें, बचपन की गलतियां के कारण एक मर्द की मर्दाना शक्ति क्षीण हो जाती है । इन तमाम शारीरिक कमजोरियों को दूर करने के लिए वर्ष में एक बॉडी को पोषित करने के उद्देश्य से लड्डू बनाकर खाए जाते हैं ।

ये लड्डू हमारी खोई हुई शक्ति को पुनः लौटाकर एक नई ऊर्जा का संचार करते हैं । इसी क्रम में Mardana takat ke laddu भी एक है जो विभिन्न प्रकार के प्रजजन विकार, शारीरक कमजोरी को दूर करते हैं । ये लड्डू शुद्ध प्राकृतिक गुणों से भरपूर घर पर ही बनाए जाते है तो चलिए जानते है – घोड़े जैसी मर्दाना शक्ति के लड्डू बनाने की विधि –

पढ़े – ब्रेस्ट बढ़ाने की दवा हिमालय । स्तन बढ़ाने की 5 टेबलेट व क्रीम

मर्दाना कमजोरी के कारण

मर्दाना ताकत का मतलब उस शक्ति से है जो एक मर्द के प्रजनन अंगों की शक्ति को प्रदर्शित करते हैं । एक पुरूष / महिला की अंदरूनी शक्ति या गुप्तांग की शक्ति के रूप में परिभाषित करते हैं । इन अंगों की दुर्बलता मर्दाना कमजोरी का कारण बनती हैं । मोटे तौर पर मर्दाना कमजोरी के कारण इस प्रकार है –

इसी प्रकार अन्य गम्भीर रोगों जैसे थायराइड, ह्रदय रोग, डाइबिटीज आदि के कारण भी मर्दाना शक्ति क्षीण हो जाती है ।

मर्दाना ताकत के लड्डू । Mardana Takat ke laddoo.

लड्डू बनाकर खाने की परंपरा सदियों पुरानी है । आमतौर इनका उपयोग हमारे घर के बड़े बुजुर्ग लोग करते थे और इनके बारे में वो अच्छे से जानते हैं । ज्यादातर इन लड्डूओ को सर्दियों के मौसम में बनाकर खाया जाता है क्योंकि इन दिनों में तापमान कम होता है । जिससे गर्म तासीर की सामग्री नुकसान नहीं पहुंचाती हैं ।

हालांकि जिन क्षेत्रों में मौसम ठंडा रहता है । जहां गर्मी अधिक नहीं होती हैं वहाँ इन लड्डूओ को कभी भी बनाकर इस्तेमाल कर सकते हैं । तो कड़ी में आज हम मर्दाना शक्ति बढ़ाने वाली शुद्ध प्राकृतिक गुणों से भरपूर औषधियों के बारे में बताने जा रहे हैं जिससे आप अपने घर पर आसानी से लड्डू बना सकते है तो चलिए जानते है –

पढ़े – पतंजलि मर्दाना ताकत की दवा । कमजोरी की 21 आयुर्वेदिक दवा

गोंद के लड्डू – मर्दाना ताकत के लड्डू

इनके लड्डू बनाने के लिए ड्राई फ्रूट्स और घी का इस्तेमाल किया जाता है। खासकर सर्दियों में इनका खूब सेवन किया जाता है। गोंद के लड्डू से ताकत मिलती है। सर्दियों के मौसम में प्रतिदिन सुबह नाश्ते में एक या दो लड्डू खाने से आप स्वस्थ रह सकते हैं।

इनके लड्डू बनाने की सामग्री की बात करे तो ढाई सौ ग्राम गोंद, आधा किलो शक्कर, साढ़े चार सौ ग्राम नारियल बुरादा, अखरोट की कतरन, बादाम व खजूर 700 ग्राम ले सकते है । इनके अलावा इलायची पाउडर व सौठ भी स्वादनुसार ले सकते है ।

गोंद के लड्डू बनाने की विधि – गोंद को टुकड़ो घी में डालकर उसे फुलाकर एक अलग बर्तन में निकल लीजिए । अब घी में आटा डालकर कुछ समय के लिए भून लें । अब इसमें अखरोट, सौठ, बादाम और खजूर डालकर अच्छे से सेंक लें । इसके बाद अब इनमें इलायची पाउडर, शक्कर और गोंद डालकर ठंडा होने तक इंतजार करें । ठंडा होने के उपरांत गोल गोल लड्डू बना लीजिए ।

गोंद के लड्डू खाने के फायदे

नियमित रूप से गोंद का लड्डू खाने से सेक्स क्षमता बढ़ती है । सुबह-सुबह दूध के साथ गोंद के एक-दो लड्डू खाने से इम्युनिटी सिस्टम मजबूत बनता है । गोंद या इससे बनी चीजें खाने से हार्ट डिजीज ( Heart disease ) का का खतरा कम हो जाता है । मसल्स को मजबूत बनाने के लिए Gond ke laddoo उपयोगी साबित हो सकते है । इनके अलावा इन लड्डूओ का इस्तेमाल स्तनपान कराने वाली महिलाओं में दूध उत्पादन को बढ़ावा देते हैं ।

उड़द दाल के लड्डू – मर्दाना ताकत के लड्डू

उड़द दाल से 3 प्रकार से लड्डू बनाये जाते है । इन लड्डूओं का अपना एक खास स्वाद होता है । यह दाल विभिन्न प्रजजन विकारो जैसे धात रोग, स्वप्नदोष, जल्दी मुक्ति के लिए लाभदायक होती हैं । उड़द दाल के लड्डू सेहत के लिये भी सेहतमंद होते है ।

आवश्यक सामग्री के रूप में पांच सौ ग्राम उड़द दाल, बूरा, साढ़े चार सौ ग्राम देशी घी, काजू, किशमिश, पिस्ता व छोटी इलायची आदि उपयोग में ली जाती है ।
विधि – उड़द दाल को भूनकर ठंडी होने के उपरांत उसे मिक्सर से पीस लीजिए । अब इलायची पाउडर, पिस्ता, काजू आदि डालकर लड्डू बना लीजिए ।

भींगी उड़द दाल के लड्डू – भीगी उड़द दाल से बने लड्डू बनाने की आवश्यक सामग्री के रूप में आधा आधा किलो उड़द दाल व घी, साढ़े तीन सौ ग्राम बुरा, 100 ग्राम काजू, बादाम, किशमिश, एक चम्मच पिस्ता व दस इलायची आदि ।

विधि – उड़द दाल को धोकर कुछ घण्टो के लिए भिंगो दीजिये । अब इनमें से पानी निकलने के उपरांत मोटा पीस लीजिये । अब कड़ाई में आधा किलो घी डालकर उड़द आटे को भून लीजिए । अब इसमें अन्य सामग्री जैसे काजू, पिस्ता, बादाम व इलायची पाउडर डालकर लड्डू बना लीजिए ।

तिल के लड्डू – मर्दाना ताकत के लड्डू

आमतौर तिल लड्डू शीत ऋतु में बनाए जाने वाला एक व्यंजन हैं । जो लोहड़ी या मकर संक्रांति जैसे त्योहारो पर खास तिल के लड्डू बनाएं जाते हैं। भूने तिल, गुड़ और केसर के साथ आप इन्हें आसानी से घर पर बना सकते हैं। आप चाहे तो इन्हें अन्य किसी मौके पर भी बना सकते हैं।
तिल के लड्डू बनाने के लिए पॉव भर सफेद तिल, आधा कप खोया, आधा पाव गुड़, चुटकी भर केसर के अलावा कनोला आयल आदि सामग्री का इस्तेमाल किया जाता हैं ।

तिल के लड्डू बनाने की विधि – तिल एक बर्तन में तेल डालकर तिल डालें। अब इसे लगातार सकते रहे जब तक कि तिल का रंग हल्का भूरा न हो जाएं । अब आंच बंद करके भुने तिलों को एक अलग बर्तन में निकाल लें । अब कुछ देर के लिए केसर को गर्म दूध में भिगोंकर दें। अब एक अलग बर्तन में गुड़ को पिघला कर रखे । अब पिघले हुए गर्मागर्म गुड़ में भुने हुए तिल को डालकर लड्डू बना ले । ध्यान रखें जल्दी जल्दी लड्डू बना ले । आप इसमें बादाम, अखरोट को स्वादनुसार डाल सकते हैं ।

ड्राई फ्रूट्स के लड्डू – कमजोरी के लड्डू

Dry fruits कई तरह के पौष्टिक तत्वों से भरपूर होते हैं जैसे जिंक, विटामिन, मिनरल्स । इनके सेवन करने से बॉडी को ताकत और मजबूत प्रदान करते है। यही कारण है कि कुछ लोग आमतौर पर सुबह सीधे तौर पर या किसी स्वीट में डालकर खाना पसंद करते हैं। ड्राई फ्रूट्स से बने लड्डु बहुत स्वादिष्ट होते हैं । आज शुगर फ्री ड्राई फ्रूट्स लड्डू बनाने की विधि के बारे में बता रहे हैं।

इनके रोजाना सेवन से आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है। अगर आप शुगर के मरीज हैं तो आप इनको बनाकर मीठा खाने की क्रेविंग को शांत कर सकते हैं, तो चलिए जानते हैं शुगर फ्री ड्राई फ्रूट्स लड्डू बनाने की विधि –

ड्राई फ्रूट्स लड्डू बनाने की सामग्री के रूप में एक – एक कप कटे हुए बादाम व काजू, आधा कप पिस्ता, खजूर, 2 चम्मच खरबूजे के बीज, थोड़ा बहुत इलायची पाउडर एवं 2 चम्मच घी आदि ।

ड्राई फ्रूट्स लड्डू कैसे बनाएं ?

Dry fruits laddoo बनाने के लिए एक नॉन स्टिक कढ़ाई में मात्रा एक चम्मच घी डालकर खजूर के अलावा समस्त सामग्री को भून लें । एक दूसरे बर्तन में खजूर को मिक्सर से पीसकर पेस्ट तैयार करके अलग पका लें । अब घी डालकर हरी इलायची सहित समस्त भुनी हुई सामग्री का मिश्रण करें । ठंड़ा होने के उपरांत इस मिश्रण का आप गोल गोल ड्राई फ्रूट्स के लड्डू बना सकते हैं ।

पढ़े – बैधनाथ शुगर की दवा । 7 बेस्ट आयुर्वेदिक व पतंजलि दवा

मेथी के लड्डू – मर्दाना कमजोरी के लड्डू

मर्दाना कमजोरी के लिए मेथी के laddoo एक कारगर औषधि है । यह न केवल पुरुषों के लिए बल्कि महिलाओं के लिए भी रामबाण औषधि से कम नहीं है । यह जोड़ो के दर्द, थकान, कमजोरी एवं यौन विकारों के लिए बहुत लाभदायक है । मेथी के लड्डू सर्दियों के मौसम में बनाकर खाये जाते हैं । इसी प्रकार जापे के बाद मेथी के लड्डू खाए जाते हैं ।

मेथी के लड्डू बनाने के लिए मेथी दाने, अदरक ( सौंठ ), गुड़, सौंफ आदि की सामग्री तैयार की जाती है । इनके अलावा किशमिश एवं बादाम भी स्वादनुसार डाल सकते है ।

मेथी के लड्डू बनाने के लिए सबसे पहले मेथी दाना पीसकर बनाकर उसे मंदी आंच भूनें । जब तक रंग बदल जाने के बाद चीनी डालकर ठंडा होने दे । अब इसमें घी एवं अन्य सामग्री डालकर गोल गोल लड्डू बना दीजिये ।

घोड़े जैसी मर्दाना ताकत व स्टेमिना के लिए अश्वगंधा के लड्डू

अश्वगंधा एक ताक़तवर आयुर्वेदिक जड़ी बूटी हैं । यह सभी प्रकार की कमजोरी की कारगर दवा है । विशेष रूप से प्रजजन विकारो के लिए यह रामबाण जड़ी बूटी हैं । आयुर्वेद इनका उपयोग सदियों से करता रहा है ।
यह मांशपेशियों, नर्वस सिस्टम, हड्डियों एवं ह्रदय को स्वस्थ एवं मजबूत बनाए रखता हैं । वही रोग प्रतिरोधी क्षमता का विकास होता है ।

अश्वगंधा के लड्डू बनाने के लिए सबसे पहले मूंग या गेंहू के आटे में घी मिलाकर अच्छी तरीके से भून लें । अब इसमें 50g गोंद, 500g देसी घी, 400g गुड़ एवं 100g अश्वगंधा पाउडर मिलाकर गोल आकार के लड्डू बना ले । स्वादनुसार आप सूखे मेवे भी डाल सकते है ।

इन लड्डूओ का उपयोग सुबह शाम अनुशासित खुराक मात्र 50 ग्राम तक ही सेवन करें । साथ ही साथ खानपान करने का भी विशेष परहेज करें जैसे खट्टा, कड़वा, तला भुना, ठंडा, दूध – दही, बेसन, अचार, मेवे की मिठाई आदि से दूर रहे ।

मर्दाना ताकत के आयुर्वेदिक जड़ी बूटी के लड्डु

गोखरू के लड्डू – गोखरू एक आयुर्वेदिक औषधि है जो शारिरिक दुर्बलता, यूरिन प्रॉब्लम, पथरी, गर्भाशय विकार, स्किन प्रॉब्लम के साथ साथ बुखार के लिए लाभदायक होता हैं ।

इनके लड्डू बनाने के लिए एक किलो गेहू के आटे को 750ग3 देसी घी में भूनकर 200g गोखरू पाउडर डालकर पकाए । अब इसमें 1 किलो शक्कर एवं स्वादानुसार कालीमिर्च मिलाकर लड्डू बना ले ।

मेथी दूध के लड्डू – इनके लड्डू बनाने के लिए सबसे पहले 750g मेथी दानों को आधे किलो दूध में रातभर के लिए भिंगोकर अगले दिन एक एक किलो आटा व देसी घी का पेस्ट बनाकर भून लें । अब इसमें एक किलो शक्कर मिलाकर लड्डू बना ले । यह जोड़ो के दर्द, सूजन, गठिया एवं पेट सम्बंधित विकारो के लिए लाभदायक है । यह प्रजजन क्षमता को भी बढ़ाती हैं ।

कच्ची हल्दी के लड्डू – इनके लड्डू बनाने के लिए 500g पिसी हुई कच्ची हल्दी को देसी घी के साथ भूनकर रख ले । अब बेसन को भूनकर निकल ले । अब कमरकस व गोंद को भी देसी घी में भूनकर तीनो का मिश्रण करके लड्डू बना दीजिये । यह लड्डू रक्त शोधन करने के साथ साथ गठिया, लिवर, कैंसर एवं सर्दी जुकाम के लिए लाभदायक होते है ।

मर्दाना ताकत के लड्डू के परहेज एवं नुकसान

इन लड्डूओ को शारिरिक कमजोरी को दूर करने के लिए उपयोग में लिया जाता है । जिनका नुकसान न के बराबर होता है । बशर्ते यदि आप सेवन करने के समय एवं बाद के कुछ दिनों तक परहेज रखते हैं तो कोई नुकसान नहीं है ।

इन लड्डूओ का सेवन करते समय कुछ आवश्यक खानपान एवं रहन सहन का परहेज रखना अनिवार्य है जो आपको नुकसान से बचाकर आपको शक्ति प्रदान करते हैं । ये परहेज इस प्रकार है –

  • इन लड्डूओ का सेवन करते समय ठंडा, बासी भोजन, तल भुना, कड़वा, खट्टा एवं ज्यादा मीठा भोजन न खाए ।
  • विपरीत प्रतिक्रिया देने वाले पदार्थ जैसे फ़ास्ट फ़ूड, जंक फूड एवं अन्य बाहर की सामग्री सेवन न करें ।
  • आयुर्वेद के अनुसार यह लड्डू गरिष्ट सामग्री के होते हैं इसलिए इनका सेवन भूख लगने पर अनुशासित खुराक के रूप में सेवन करें । अन्यथा पाचन शक्ति गड़बड़ा सकती हैं ।
  • इन लड्डूओ का सेवन करते समय तेज मिर्च मसाले न खाएं एवं दोपहर एवं शाम के भोजन में देसी घी का सेवन करें । ध्यान रखें कि भरपूर मात्रा में भोजन न करें ।
  • इसी प्रकार रोजमर्रा के क्रियाकलापों को भी विराम देकर सेवन करने की अवधि से लेकर अंत तक आराम करें । इन दौरान मोबाइल फोन एवं टीवी भी न देखें । अन्यथा आपकी आंखों की रोशनी को नुकसान हो सकता है ।

अंतिम शब्द – मित्रों यदि आप Mardana takat ke laddoo का इस्तेमाल कर रहे हैं तो अपने घर के बड़े बुजुर्गों या योग्य अनुभवी से परामर्श लें एवं आवश्यक सावधानी एवं परहेज रखे तभी आपको फायदा उठा सकते हैं ।